The ONE Thing Gary Keller Books In Hindi Summary

The ONE Thing
Gary Keller

पहला आदमी: क्या तुम जानते हो कि जीवन का रहस्य क्या है ?
दूसरा आदमी: नहीं। क्या है ? 
पहला आदमी: यह। [एक उंगली ऊपर करता है।
दूसरा आदमी: तुम्हारी उंगली?
पहला आदमी: एक चीज। केवल एक चीज। तुम केवल एक चीज में बहुत ज्यादा अच्छे हो जाओ ओर बाकी
कुछ मेटर नही करेगा।
दूसरा आदमी: बहुत बढ़िया। पर वह “एक चीज” है क्या?
पहला आदमी: यही तो तुम्हें पता करना है। अगर आप किसी एक चीज मे बहुत देर तक लगे रहते मे
है तो “आप जरूर जीतेंगे”।यही सफलता का रहस्य है। किसी भी एवरेज आदमी और उसकी अचीवमेंट्स के
पीछे का एकलौता रहस्य। गोइंग स्माल यदि हर आदमी के लिए दिन में उतने ही घंटे होते हैं, तब ऐसा क्यों लगता है कि कुछ लोग औरो से बहुत ज्यादा अचीव कर लेते हैं? उत्तर है कि-दे गो स्माल। “गोइंग स्माल” है उन दूसरी सारी चीजों की अनदेखी कर देना जिन्हें आप कर सकते थे, और वही करना जो इम्पोरटेन्ट है। यह पहचानना है कि सारी चीजें एक समान जरूरी नहीं हैं और उन चीजों को पा लेना जो सबसे ज्यादा जरूरी हैं। हमें यह दसे समझना है कि

EXTRAORDINARY RESULTS सीधे इस बात पर डीफेन्ड करते है कि आप अपना फोकस कितना नैरो कर सकते हैं। जब आप जितना संभव है उतने छोटे बन जाते हैं, तब आप अपनी वन थिंग अचीव कर सकते है जो आपको लाईफ में सक्ससफुल बना देगा। EXTRAORRDINARY रिजल्ट अचीव करना डोमिनोज़ गिराना बहुत ईजी टास्क है। बस आपको उन सारे पत्थरो को एक साथ लाईन में लगाना है और उनमें से पहले पत्थर को धक्का देना है उसके बाद सारे के सार पत्थर अपने आप गिर जायेंगे इसे हम डोमिनो इफेक्ट भी बोलते है फिर भी, असली दुनिया में यह थोडा डिफिक्लट है प्रोब्लम ये है कि कोई हमारे गोलस को लाईन में नही लगाता और हमसे यह नहीं कहता, “यहीं से तुम्हें शुरू करना चाहिए।” इसलिए, इसके बदले हर दिन, हमें स्टार्टिंग से अपनी प्रयॉरिटीज़ की लाइन लगानी चाहिए,हमें अपने सबसे हाईस्ट प्रयोरिटी टास्क को ढूढंना चाहिये और उसी पे काम करना चाहिये जब तक वो अचीव ना हो जाये। यह अप्रोच काम करता है क्योंकि एक्सट्रा आर्डनरी रिजल्ट सिक्वनशनल होते है यानी एक के बाद एक अचीव होते है एक साथ नही।
डोमिनो इफेक्ट अपने काम पर और आपके बिजनेज पर भी लागू होता है, और उस छोटे से छोटे पल पर
भी लागू होता है जब आप डिसाइड कर रहे होते हैं कि आगे क्या करना है। सफलता का निर्माण सफलता पर किया जाता है। सिर्फ एक बार में एक चीज।

भाग 1:- झूठ: जो हमे मिसलीड करते हैं और पटरी से उतार देते हैं समय के साथ-साथ, हमें इतने सारे झूठ बताये गये होते है, कि हम उन पर फाईनली विश्वास करने लगते है। इतना ही नही हम लाईफ के सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण डिसीजन भी उन झूठ के बेस पर लेने लगते है। अगर हमें अपना मेक्सिम पोटेनशियल अचीव करना है, तो हमे ये निश्चित करना पडेगा कि हम उन सब झूठो से दूर रहें।
झूठनं. 1: सभी चीजों का महत्व एक समान है लाँ और जस्टिस के नाम पर हमें बताया जाता है कि
हर चीज इक्वल है जबकि असली दुनिया में कोई भी चीजें बराबर नहीं होतीं। चाहे लोग कितने भी टैलेंटेड
हों – इनमें से कोई भी दो लोग कभी एक समान नहीं होते। हर चीज की इम्पोरटेन्स इक्वल नहीं होता।
equality बराबरी एक झूठ है। और सक्सेस एक ऐसे गेम नही है जो इसे ज्यादा खेलेगें वही जीतेगा।
मगर हर रोज ज्यादातर लोग ठीक इसी तरह से खेलते हैं। हालांकि टु-डू लिस्ट हमारे अच्छे इरादों के उपयोगी
कलेक्शन का काम करते हैं, वे हमें छोटी-छोटी, गैरजरूरी चीजों से डराने का काम भी करते हैं जिन्हें
हम करने के लिए मजबूर होते हैं क्योंकि यह हमारी लिस्ट में हैं। अचीवर्स अलग तरीके से काम करते हैं।
अचीवर्स हमेशा प्रायॉरिटी कर के काम करते हैं। वो टु-डू लिस्ट्स की जगह, success लिस्ट बनाते है

। एक ऐसी लिस्ट जिन्हे करने पर जो उनके गोल के साथ alined है और जिन्हे करने से वो अपने गोल
के और करीब पहुँच जायेगें। यदि आपकी टु-डू लिस्ट में हरे एक चीज लिखी हुई है, तब वो शायद आपको
हर जगह पर ले जायेगी सिवाय उस जगह के जहाँ आप जाना चाहते हैं। हमें पैरेटो प्रिंसिपल apply
करना चाहिये जिसे हम 80/20 प्रिंसिपल के नाम से भी जानते है, यह प्रिंसिपल कहता है कि हमारे 20
परसेंट effort हमें 80 परसेंट रिजल्ट दिलवाते है यह आपको करेकट डारेकशन देती है जो आपको आपके
गो तक ले जायेगी। हमें ये समझाने होगा की कई चीजें बाकी चीजों से बहुत ज्यादा इम्पोरटेन्ट है। एक तो दो
लिस्ट एक सक्सेस लिस्ट में तब कनवरट होती है जब आप पैरेटो प्रिंसिपल लगाते है अगर आप एक स्टेप
फर्दर ले जाये तो आप उन सारी चीजो में से 10-12 चीजो जो अपने टू डू लिस्ट में लिखी है उस पर पैरेटो
प्रिंसिपल लगा कर आप अपनी वन थिंग तक पहुँच सकते है यानि सबसे ज्यादा इम्पोरटेन्ट चीज जो आपको
आपके गोल तक ले जायेगी।

The ONE Thing
Gary Keller
झूठ नं. 2: मल्टीटास्किंग

मल्टीटास्किंग एक झूठ है क्योंकि लगभग सभी मानते हैं की मल्टी टासकिंग करने से वो बहुत ज्यादा
प्रोडेक्टिव हो जाते है।यदि आप दो चीजें एक साथ करने की कोशिश करते हैं, तब आप इनमें से किसी
को भी चीज को अच्छे तरीके से नही कर पायेगे। मल्टीटास्किंग एक काम करने का इफेक्टिव तरीका
है। टर्म “मल्टीटास्किंग” कंप्यूटर के कई काम एक साथ करने की capabilty को डिफाईन करने के
लिये 1960 आया था। पर कम्पयूटर भी मल्टीटास्किंग नही कर सकते। वो मल्टीपल टास्क को एक एक करके करते है, लेकिन ये काम बहुत तेजी से होता है और हमें लगता है की कम्पयूटर मल्टीपल टास्क को एक साथ कर रहा है लोग एक साथ दो या ज्यादा काम कर सकते हैं, जैसे टहलना और बातें करना
परंतु हम एक साथ दो चीजों पर फोकस नहीं कर सकते। हमारा ध्यान आगे पीछे होता रहता है। यह
कंप्यूटरों के लिए तो ठीक है, परंतु मनुष्यों के लिये ये एक बहुत बडी प्रॉबल्म है जब आप एक टास्क से दूसरे
टास्क पर स्विच करते हैं, तब दो चीजें होती हैं। पहली लगभग तत्काल है: आप स्विच करने का निश्चय करते
हैं। दूसरी कम प्रेडिक्टेबल है : आप जो भी करने वाले हैं उसके लिए आपको उसके “नियमों” को ऐक्टिवेट करना पड़ेगा। हमेशा किसी नए टास्क को शुरू करने में और जिसे आपने छोड़ दिया है उसे फिर से शुरू करने कुछ समय लगता है। और फिर भी कोई भी गारंटी नहीं है कि आपने जहाँ छोड़ा था वहीं से शुरू करेंगे। तो हम कभी भी मल्टीटास्किंग को बर्दाश्त क्यों करें खासकर जब तब हम सबसे महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं ? केवल इसलिए कि हमारा दिन का काम बाइपास सर्जरी से संबंध नहीं रखता इसका मतलब यह नहीं है कि हमारी सफलता के लिए फोकस करना कम क्रिटिकल है। आपका काम इससे कम रेसपेक्ट डिजर्व नहीं करता।

झूठ न. 3: एक डिस्पिलीन लाईफ
जो ज्यादातर लोग मानते हैं सच उसके एक दम उल्टा है सफलता डिसिप्लीन्ड एक्शन की लंबी दौड़ नहीं
है। अचीवमेंट आपसे यह मांग नहीं करती कि हर समय डिसिप्लीन्ड व्यक्ति बने रहें जहाँ पर आप हर
ऐक्शन के लिये ट्रेनड हो और जहाँ पर आपके पास हर प्रॉबल्म का आपके पास साल्यूशन हो असल में
सफलता एक छोटी दौड़ है – एक स्प्रिंट, जिसमें फ्यूल तो डिसिप्लीन का है, केवल उतनी ही देर तक
जब तक वो एक हैबिट नही बन जाती आप जितना सोचते हैं उससे कम डिसिप्लीन से आप सफल हो
सकते है, इसका एक सिम्पल सा रिजन है : सफलता सही चीज करने के बारे में है, हर चीज सही करने के
बारे में नहीं।सफलता के लिए तरकीब है अपनी ।

The ONE Thing
Gary Keller
झूठ नं. 5: संतुलित जीवन

सन्तुलित जीवन यानी बैलेन्सड लाईफ का आईडिया हमें बहुत ज्यादा अटरेक्ट करता है आकर्षित करता
है पर ये प्रेक्ट्रिकल नही है। ये सभी चीजों पर ध्यान देने के लिए आपकी कोशिशों से, आप कुछ भी ठीक
ढंग से नही कर पाते, और किसी के भी साथ इन्साफ नहीं होता। जब हम कहते हैं कि हम अपने संतुलन से
बाहर हैं, तब हम ये कहना चाहते है कि हमारी कुछ प्रायॉरिटीज- चीजें जो हमारे लिए बहुत इमोटेन्ट
थी। उनकी देख-रेख नहीं हो रही है aur पूरी नहीं की जा रही हैं। समस्या यह है कि जब आप उस चीज
पर फोकस करते हैं जो सबसे ज्यादा जरूरी है, तब कोई-न-कोई चीज हमेशा अनदेखी रह जाएगी। बढ़िया
रिजल्ट पाने के बदले कुछ चीजों को बिन किए छोड़ना जरूरी हो जाता है।मगर आप सारी चीजों को बिन किए नहीं छोड़ सकते हैं, और यहीं पर काम आता है आपका काउंटरबैलेंसिंग करने का स्किल। अपने काम और अपने व्यक्तिगत जीवन की काउंटर-बैलेंस आपके लिए बहुत जरुरी बन जाती है।
1. अपने काम की बाल्टी की काऊटरबैलेन्स करना। काम को इस तरह देखें कि यह किसी कुशलता या
ज्ञान से संबंधित है जिसमें बेस्ट होना जरूरी है। ये एक कारण बनेगा जिससे आप अपनी एक चीज को बाकी चीजो के मुकाबले बहुत ज्यादा समय देंगे और इसे आप बाकी के गैर जरुरी कामों को दिनों, सप्ताहों, महीनों और वर्षों के लिए छोड़ देंगे। आपका कर्म-जीवन यानी वर्क लाईफ दो क्षेत्रों में बंटा हुआ है एक जो सबसे महत्वपूर्ण है, और दूसरा – बाकी सारी चीजें। जो चीजें सबसे महत्वपूर्ण हैं उनमें आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी तथा और औरों में बस ठीक-ठाक चलाते रहना पडेगा। प्रोफेशनल सफलता के लिए यह जरूरी है। 

2. आपको अपने व्यक्तिगत जीवन की बाल्टी को भी को काउंटरबैलेंस करना पड़ेगा। स्वीकार कीजिए कि आपके जीवन में अनेक क्षेत्र हैं और प्रत्येक को कम-से-कम कुछ ध्यान दिए जाने की जरूरत है क्योंकि आप महसूस करते हैं किआपका “एक जीवन है ।” अगर आप किसी एक को छोड़ देते है, तब आपको उसके प्रभाव का अनुभव हो जाएगा । इसे निरंतर जागरूकता की आवश्यकता है । काउँटरबैलेंसिंग किए बिना आपको बहुत देर तक और बहुत दूर तक कभी नहीं जाना चाहिए क्योंके वे आपके जीवन के इम्पोरटेन्ट एरियास हैं। संतुलन का प्रश्न वास्तव में एक प्रायॉरिटी का प्रश्न है। जब आप अपनी भाषा को बैलेंसिंग से प्रायॉरिटाइजिंग में बदलते हैं. तब आप विकल्पों को साफ तरीके से देख पाते है।  जब आपको काम करना चाहिए, काम कीजिए, और जब आपको खेलना चाहिए, खेलिए। आप इस एक अजीब तनी रस्सी पर चल रहे हैं, परंतु केवल जब आप अपनी प्राटॉरिटीज को इधर-उधर करते हैं तभी चीजें छिन्न-भिन्न हो जाती हैं।

झूठ नं. 6: बड़ा खराब है
यह संभवतः इन सभी में सबसे खराब झूठ है, क्योंकि जब आप बड़ी सफलता से डरते हैं, तब इसे पाने के
लिए अपनी कोशिशों से या तो आप बचेंगे या उन्हें नाकाम करेंगे। कोई भी नहीं जानता कि सफलता की
चरम-सीमा क्या है, इसलिए इसके बारे में चिंतित होना समय बरबाद करना है। जब आप खुद को स्वीकारने
की इजाजत देते हैं कि बड़ा उसी के बारे में है जो आप बन सकते हैं, तब आप इसे अलग नजर से देखते हैं।
असाधारण नतीजों के लिए बड़ा सोचना अनिवार्य है। सफलता को एक्शन कार्यवाही की आवश्यकता होती
है, और कार्यवाही को विचार की जरूरत होती है। परंतु यहाँ एक कैच है जो कार्यवाहियाँ एक्शन बड़ी
सफलता हासिल करने के लिए स्प्रिंगबोर्ड बनती हैं, केवल वही actions हैं जिनकी शुरुआत बड़ी सोच
की जानकारी के साथ की गई थी। इनका कनेक्शन जोड़िए, और आपकी सोच कितनी बड़ी है, यह समझ
में आने लगेगा। हरेक के पास समय की मात्रा एक ही है, और परिश्रम केवल परिश्रम है। नतीजे के रूप में, अपने काम के समय आप क्या करते हैं निर्धारित करता है कि आप क्या अचीव करेंगे। और चूंकि आप जो करते हैं वह इससे निर्धारित होता है कि आप क्या सोचते हैं, आप कितना बड़ा सोचते हैं वह इसका लॉन्चिंग पैड बनता है कि आप कितनी ऊँचाई को अचीव कर सकते हैं।बड़े से मत डरिए। साधारण कोटि का होने से डरिए। केवल बड़प्पन से जीना ही आपको असली जीवन और कर्म की संभावना का अनुभव कराएगा। सफलता का अर्थ यही निकलता है: अपने जीवन के हर पल में उचित होना। यदि आप ईमानदारी से कह सकते हैं, “यही वह जगह है जहाँ मुझे ठीक इस समय होना चाहिए था, ठीक वही करते हुए जिसे मैं अभी कर रहा हूँ,” तब आपके जीवन की सभी अद्भुत संभावनाएँ संभव बन जाती हैं।

भाग 1: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं कर सकता यह फोकस्ड कार्यवाही की चिनगारीसुलगा देता है।
यह आपको किसी निश्चित चीज की ओर जाने के लिए विवश करती है। अंतिम चरण, “कर सकता हूँ,” ये
अंदरूनी कमान है जो आपको वह कार्यवाही एक्शन लेने के लिये मजबूर करती है जो आप कर सकते है।
यह नहीं कि, करना चाहिए, कर सकता था या करूँगा। यह कार्यवाही कि आप “कर सकते हैं” को हरा देती है।
बार नीयत “: यह आपसे
• भाग 2: “… जिससे इसे करने से …”: कहता है कि एक मानक है criterion जिसे आपके
उत्तर को संतुष्ट करना पड़ेगा। यह केवल कुछ करने और किसी निश्चित उद्देश्य (परपस) के लिए कुछ करने
के बीच एक पुल है।
भाग 3: “… दूसरी सारी चीजें आसान और अनावश्यक बन जाएँगी?”: यह अल्टिमेट लिवरेज टेस्ट है। यह कहता है कि जब आप यह एक चीज करते हैं, हरेक अन्य चीज जिसे अपना लक्ष्य पाने के लिए आप कर सकते थे वह या तो कम कोशिश से ही हो जायेगी या अब इसकी जरूरत भी नहीं होगी। यह, लिवरेज्ड चीज करते हुए और ध्यान बंटाने वाली चीजों से बचते हुए, आपका जीवन बदलने के लिए उत्तर की संभावना बढ़ा देता है। फोकसिंग प्रश्न आपके गोल का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा डूढने के लिये मजबूर करता है। एक बार जब आप इसे कर लेते हैं, तब आपको पता चलता है कि इसके पीछे आपके छोटे छोटे गोल से एक लाईन है और वो सारे एक लाईन में लगे है जिन्हे करते ही आप अपने मेन गोल तक आसानी से पहुँच जायेगें। सफलता की आदत आदतें बनाने में कठिन हो सकती हैं और तोड़ने में कठिन हो सकती हैं। मगर हर समय हम अनजाने में नई आदतें बना रहे हैं। यदि हम पर्याप्त लंबे समय तक, जब कोई सोचने का या काम करने का तरीका शुरू करते हैं और उसे जारी रखते हैं, तब हमने एक नई आदत बना ली है। हमें एक चुनाव का सामना करना पड़ता है कि हम जीवन से जो भी चाहते हैं उसे पाने वाली आदतें बनाना चाहते हैं या नहीं। यदि हम चाहते हैं,

तब फोकसिंग प्रश्न वह सबसे शक्तिशाली सफलता की आदत है जिसे हम डाल सकते हैं। स्पष्ट रूप से, hum
खुद को पागल बना सकते हैं। अगर हम हर चीज के छोटे-छोट पहलुओ का विशलेषण करते रहे इसके बदले
किसी बड़ी चीज के साथ शुरू कीजिए और देखिए कि यह आपको कहाँ ले जाती है। फोकसिंग प्रश्न आपको
जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में आपको उस एक चीज की ओर निर्देशित कर सकता है। केवल अपने फोकसिंग
प्रश्न को रिफ्रेम कीजिए। आप एक टाइम फ्रेम भी शामिल कर सकते हैं जैसे “बिल्कल अभी” क्या करने चाहते है या “इस वर्ष” क्या करने चाहते है या “पाँच वर्ष में” या “किसी को” बड़ी दृश्यावली कापता करने के लिए जो आपको लक्ष्य करने लायक नतीजों की ओर संकेत करता है।

यहाँ कुछ फोकसिंग प्रश्न हैं जिन्हें आप अपने-आप से पूछ सकते हैं:
• मेरे आध्यात्मिक जीवन के लिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं दूसरों की सहायता करने के लिए कर सकता
• मेरे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपने डायट गोल्स पाने के लिए कर सकता
• मेरे व्यक्तिगत जीवन के लिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मै अपनी कुशलता में सुधार लाने के लिए कर
सकता हूँ?”
• मेरे मुख्य संबंधों के लिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपने जीवनसाथी/पार्टनर के साथ अपने संबंधों में
सुधार लाने के लिए कर सकता हूँ?”
• मेरी नौकरी के लिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं यह सुनिश्चित कर सकता हूँ जिससे मैं अपने लक्ष्य पा
लूँ?” मेरे व्यापार के लिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं,इसलिए कर सकता हूँ कि हम अधिक कम्पिटिटिव हो जाएँ?” मेरे फायनैंसेज के लिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपना नेटवर्थ बढ़ाने के लिए कर सकता हूँ?”


अपनी उस एक चीज को आपकी दैनिक रूटीन का हिस्सा बनाने के लिए, पहले आपको इसे समझना
पड़ेगा और इस पर विश्वास करना पड़ेगा। यदि आप नहीं करते हैं, तब आप कार्यवाही नहीं करेंगे। तब
आपको प्रतिदिन वह फोकसिंग प्रश्न अपने-आप से पूछने की जरूरत है। जब आप इसे करते हैं, तब
आपकी दिशा स्पष्ट हो जाएगी। एक बार जब आप फोकसिंग प्रश्न को अपनी आदत बना लेते हैं, तब
अपने मनचाहे नतीजे पाने के लिए आप पूरी तरह से अपनी शक्ति लगा देते हैं। खुद अपनी मदद करने के
लिए, लिवरेज रिमाइंडर्स, जैसे कि कोई स्टेटमेन्ट जो कहती है, “जब तक मेरी एक चीजनहीं कर ली जाती
– हरेक दूसरी चीज एक ध्यान बांटने वाली चीज है। “और सपोर्ट नियुक्त करना न भूलें – रिसर्च दिखाता
है कि आपके आस-पास के लोग आप पर बहुत ज्यादा प्रभाव डालते हैं। यह एक आदत दूसरी कई आदतों की
नींव बन सकती है, इसलिए फोकसिंग प्रश्न का इस्तमाल करने की सफलता की आदत को जीवित रखना
चाहिये।.

The ONE Thing
Gary Keller
महान उत्तरों का पथ

फोकसिंग प्रश्न आपकी एक चीज को किसी भी परिस्थिति में पहचानने में आपकी सहायता करेगा। यह
स्पष्ट करता है कि अपने जीवन के बड़े क्षेत्रों में आप क्या चाहते हैं और तब अच्छी तरह बता देता है कि इसे
पाने के लिए आपको क्या करना चाहिए। यह सरल प्रोसेस है : एक महान प्रश्न पूछिए, तब महान उत्तर को
ढूँढ़ निकालिए। महान प्रश्न पूछिए महान प्रश्न, महान लक्ष्यों की तरह, महान और निश्चित होते हैं।
महान प्रश्न मैट्रिक्स पर विचार कीजिए :
क्वाड्रैट 1: बड़ा और निश्चित
क्वाइँट2: बड़ा और व्यापक
क्वाड्रेट 3: छोटा और व्यापक
क्वाइँट 4: छोटा और निश्चित

सेल्स बढ़ाने जैसे मुद्दे पर महान प्रश्न मैट्रिक्स का प्रयोग कैसे करे, क्वाड्रैट 4 (छोटा और निश्चित): इस वर्ष 5
परसेंट से सेल्स बढ़ाने के लिए मैं क्या कर सकता यह एक निश्चित दिशा में आपको निशाना लगाने के
लिये मजबूर करता है, मगर इस प्रश्न के बारे में वास्तव में चुनौती-भरा कुछ भी नहीं है। अधिकतर सेल्सकर्मियों के लिए, सेल्स में 5 परसेंट की बढत आसानी से हो सकती है क्योंकि मार्केट आपके पक्ष में खिसक गया है। नीचे लक्ष्यों को असाधारण कार्यवाही की जरूरत नहीं होती, इसलिए वे आपको success की तरफ नही ले जाते।

क्वाड्रैट 3 (छोटा और व्यापक): सेल्स बढ़ाने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ? यह वास्तव में कोई अचीवमेंट
प्रश्न नहीं है। यह ब्रेनस्टॉर्मिंग का प्रश्न अधिक है। यह आपको विकल्पों को सुनने के लिए बहुत बढ़िया है परंतु आपके विकल्पों को नैरो करते हुए छोटा बनने के लिए मजबूर कर देता है। दुर्भाग्यवश, यह उस तरह का औसत प्रश्न है जिसे अधिकतर लोग पूछते हैं और तब सोचते हैं कि क्यों उनके उत्तर अच्छे नतीजे डेलिवर नहीं करते।
क्वाड्रेट 2 (बड़ा और व्यापक): सेल्स दोगुणा करने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ? यहाँ आपके पास एक बड़ा प्रश्न है, परंतु कुछ भी निश्चित नहीं। यह अच्छी शुरुआत है, परंतु निश्चित नही है इसलिये ये उत्तरों से अधिक प्रश्न छोड़ता है। तब भी बहुत ज्यादा विकल्प हैं, और निश्चितताओं के बिना, आप नहीं जानते कि शुरू कहाँ से करना है।
क्वाड्रेट 1 (बड़ा और निश्चित): छः महीनों में सेल्स दोगुणा करने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ? अब आपके पास महान प्रश्न के सभी तत्व हैं। यह एक बड़ा लक्ष्य है, और यह निश्चित है। आप सेल्स दोगुणा कर रहे हैं, जो आसान नहीं है, और अपके पास छ: महीनों की एक टाइमफ्रेम है, जो एक चुनौती है। आपको बड़े उत्तर की आवश्यकता होगी। आप जिसे संभव मानते हैं उसे खींचना पड़ेगा और समाधानों के टूलबॉक्स से बाहर झांकना पड़ेगा। इसलिए यदि “छः महीनों में सेल्स दोगुणा करने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ?” एक महान प्रश्न है, लेकिन इसे ओर भी शक्तिशाली कैसे बना सकते हैं? इसे फोकसिंग प्रश्न में बदलिए: “वह एक चीज क्या है जिसे मैं छः महीने में सेल्स दोगुणा करने के लिए कर सकूँ जिससे इसे करने से, कोई भी दूसरी चीज ज्यादा आसान और अनावश्यक हो जाए?”

एक महान उत्तर ढूंढ़ निकालिए उत्तर तीन श्रेणियों में आते हैं : दोहरे,स्ट्रेच और संभावना। हाइ अचीवर्स
पहले दो रास्तों को समझते हैं लेकिन उन्हें रद्द करते हैं। यदि असाधारण संभव है, तब वे साधारण से समझौता
करना नहीं चाहते, उन्होंने एक महान प्रश्न पूछा है और सबसे बढ़िया उत्तर चाहते हैं। अपने उत्तर को ढूँढ़ते
हुए, दूसरों के रिसर्च और अनुभव, शुरू करने के लिए सबसे अच्छी जगह हैं। दूसरो के ज्ञान से आप एक
बेंचमार्क स्थापित कर सकते हैं। स्ट्रेच अप्रोच के साथ, यह आपका मैक्सिमम था, परंतु अब यह आपका मिनिमम है। आप उतना ही नहीं करते, लेकिन यह पहाड़ की चोटी बन जाती है जहाँ आप यह देखने के लिए खड़े होंगे, कि यदि आप देख पाएँ कि आगे क्या आ सकता है। इसे ट्रेंडिंग कहते हैं, और यह दूसरा कदम है। आप अगली चीज खोज रहे हैं जिसे आप कर सकते हैं, बेस्ट परफोर्मेसं किस दिशा में है,

उसी दिशा में आगे बढ़ने के लिए, या, यदि जरूरत हो, तो बिल्कुल नई दिशा में।क्योकिं आपका उत्तर
ऑरिजिनल होगा, संभवतः इसे इम्प्लिमेंट करने के लिए आपके खुद को रिइनवेंट करना पड़ेगा। साधारणतः
एक नए उत्तर को एक नए आचरण की जरूरत होती है, इसलिए यदि कफी बड़ी सफलता के रास्ते में आप
इस प्रोसेस में बदल जाएँ तब चकित नहीं होइए। हमारे जीवनों में एक स्वाभाविक लय है जो उस एक चीज
को लागू करने के लिए और असाधारण नतीजे अचीव करने के लिए एक सरल फॉर्मुला बन जाती है: परपस, प्रायॉरिटी और प्रोडक्टिविटी। सबसे अधिक प्रोडक्टिव व्यक्ति परपस से शुरु करते हैं और इसे कम्पास के समान प्रयोग करते हैं।

The ONE Thing
Gary Keller

परपस के साथ और प्रयॉरिटी से जीवित रहिए हम कौन हैं और कहाँ जाना चाहते हैं निर्धारित करते हैं कि हम क्या करते हैं और क्या कर पाते हैं। परपस से जिया गया जीवन सबसे शक्तिशाली होता है – और सबसे खुशहाल होता है। फुलफिल्मेंट के रास्ते में खुशी मिल जाती है। हम सभी खुश होना चाहते हैं, मगर इसे
पाने का सबसे बढ़िया उपाय इसकी खोज करना नहीं है। बनी रहने वाली खुशी हासिल करने के लिए सबसे
सुनिश्चित रास्ता उस समय प्रकट होता है जब आप अपने जीवन को किसी ज्यादा बड़ी चीज के लिए बनाते
हैं, जब आप अपनी रोजाना की कार्यवाहियों में मायने आर परपस लाते हैं।
परपस की शक्ति
परपस शक्ति के लिए सबसे सीधा रास्ता है और व्यक्तिगत बल का अंतिम सोर्स है – दृढ़ निश्चय की
शक्ति और डटे रहने की शक्ति।असाधारण नतीजों का नुस्खा है उसे जानना जो आपके लिए महत्वपूर्ण
है और इसीकी सीध में actions/कार्यवाहियों करते रहना। कोई चीज आप क्यों कर रहे हैं इसे जानना, जब
चीजें खराब होने लगती है तब इसकी जरूरत होती है -वह ज्यादा पसीना बहाने के लिए इन्सपिरेशन और
मोटिवेशन देता है। आपको क्या आगे बढ़ाता है इसे पछते हए अपना परपस ढंढ निकालिए। परपस ही वह कारण है जिससे आप जीवन के बारे में एक्साइटेड रहते हैं। एक दिशा चुन लीजिए, उस रास्ते पर चलना शुरू कीजिए, और देखिए कि यह आपको पसंद है या नहीं। समय स्पष्टता लाता है, और यदि आपको लगता है कि आप इसे पसंद नहीं करते, तब आप हमेशा अपना मन बदल सकते हैं। अब के लिए लक्ष्य स्थापित करना अपने-आप से बचाने के लिए, सही प्रायॉरिटी सेट करने के लिए और अपने परपस को पाने के और अपने उद्देश्य के पास बढ़ने के लिए हमें एक सरल उपाय सोचने की जरूरत है। अब के लिए लक्ष्य स्थापित krne के लिए लक्ष्य स्थापित करने के फिल्टर से होकर सोचते हुए, आप भविष्य के लिए एक लक्ष्य स्थापित करते हैं और तब इस बात पर आते हैं कि ठीक इस समय आपको क्या करते रहना चाहिए।अब के लिए लक्ष्य-स्थापना को समझना और इसे पूरा करना आपके दिमाग को ट्रेन krna है कि कैसे सोचें, समय के साथ एक लक्ष्य को दूसरे के साथ कैसे कनेक्ट करें, जब तक आप सबसे महत्वपूर्ण चीज जान नहीं लेते कि ठीक अभी आपको क्या करना चाहिए। आप सीख रहे हैं कि कैसे बड़ा सोचें – परंतु, गो स्मॉल।यानी सोचिये तो बढा पर करिये छोटे छोटे स्टेप में। प्रोडक्टिविटी के लिए जीवित रहिए सबसे अधिक सफल व्यक्ति सबसे अधिक प्रोडक्टिव व्यक्ति हैं। प्रोडक्टिव व्यक्ति चीजें कम्पलीट कर लेते हैं, बेहतर नतीजे अचीव करते हैं और इसलिए करते हैं क्योंकि वे अपनी टॉप प्रायॉरिटी, अपनी एक चीज पर अधिक से अधिक समय प्रोडक्टिव बने रहने में समर्पित करते हैं। वे अपनी एक चीज को टाइम ब्लौक कर लेते हैं और तब उन टाइम ब्लौक्स की रक्षा पूरी ईमानदारी के साथ करते हैं।

टाइम ब्लॉकिंग
अधिकतर लोग सोचते हैं कि सफल होने के लिए कभी भी समय काफी नहीं होता, परंतु यदि इसे आप ब्लॉक कर लें तब होता है। टाइम ब्लॉकिंग समय देखने और इसका उपयोग करने के लिए बहुत रिजल्ट-ऑरिएंटेड उपाय है। यह इसे सुनिश्चित करने के लिए एक उपाय है, कि जिसे करना है वह कर दिया जाता है। इसलिए अपने कैलेंडर पर जाइए और अपनी एक चीजकरने के लिए आपको जितने समय की जरूरत है उसे ब्लॉक कर लीजिए। यह एक वन-टाइमएक चीजहै, उचित घंटे और दिन ब्लॉक कर लीजिए। यदि यह एक नियमित चीज है तब हर दिन कीजिए जिससे यह एक आदत बन जाए। दूसरी सारी चीजें -पेपर्स, ई-मेल, कॉल्स, सबको इंतजार करना पड़ेगा। जब आप टाइम ब्लॉक करते हैं, तब आप सबसे प्रोडक्टिव संभव दिन की हर दिन दोहराए जाने लायक है।

यदि एक कार्यवाही/action से ज्यादा/गैर-समानुपाती नतीजे आते हैं, तब आपको उस एक action/
कार्यवाही को zaada/गैर-समानुपाती समय देना चाहिए। प्रत्येक और हर दिन अपने ब्लॉक्ड टाइम के
लिए फोकसिंग प्रश्न पूछिए : “आज, वह एक चीज क्या है जिसे मैं अपनी एक चीज के लिए इस तरह कर
सकता हूं, जिससे इसे करने से, हर दूसरी चीज अधिक आसान या अनावश्यक हो जाएगी?”जब आपको उत्तर
मिल जाता है, तब आप सबसे लिवरेज्ड काम के लिए सबसे लिवरेज्ड कार्यवाही कर रहे होंगे। इसी तरह
नतीजे असाधारण बन जाते हैं। जब आपने उस दिन के लिए अपनी एक चीज कर ली है, तब उस दिन का
बाकी समय, हर दूसरी चीज करने में लगा सकते हैं। केवल अपनी अगली प्रायॉरिटी की पहचान करने के
लिए फोकसिंग प्रश्न का प्रयोग कीजिए, और उस कार्य को उतना समय दीजिएजिसके वह लायक है। जब तक आपका वर्क-डे समाप्त नहीं हो जाता, इस अप्रोच को दोहराइए। “हर दूसरी चीज” कर लेना रात में आपको बेहतर नींद लेने में मदद कर सकती है, पर इससे आप successful नही बनेंगे। नतीजे पाने के लिए, इन तीन चीजों को निम्नलिखित क्रम में टाइम ब्लॉक कर लीजिए :

1. अपनी छुट्टी के समय को ब्लॉक कीजिए।सफल व्यक्ति अपने वर्ष की शुरुआत अपनी छुट्टी के समय की
योजना बनाने के लिए समय लेते हुए करते हैं, क्योंकि वे जानते हैं कि उन्हें इसकी जरूरत होगी और वे इसे
अफोर्ड करने के काबिल होंगे। विश्राम करना उतना ही जरूरी है, जितना काम करना।
2. अपनी एक चीज को टाइम ब्लॉक कीजिए। जी हाँ, आपकी एक चीज दूसरे नंबर पर आती है। क्यों?
क्योंकि यदि आप अपने व्यक्तिगत “मनोरंजन” के समय की अनदेखी करते हैं तब आप अपने प्रोफेशनल जीवन में खुशी बनाए नहीं रख सकते । इसे कामयाब करने की कुंजी है, अपने दिन में जितना पहले हो सके टाइम ब्लॉक कर लेना। कम से कम चार घंटे ब्लॉक करने का लक्ष्य रखिए। यदि आप ज्यादा कर सकते हैं, तब कीजिए।
3.अपनी योजना बनाने के समय को टाइम ब्लॉक कीजिए।यह तब होता है जब आप इस पर चिंतन करते
हैं कि आप कहाँ हैं और कहाँ होना चाहते हैं। हरेक हफ्ते, एक घंटा अपने वार्षिक और मासिक लक्ष्यों को
रिव्यू करने के लिए ब्लॉक कर लीजिए। पूछिए, “इस आधार पर कि इस समय मैं कहाँ हूँ, वह एक चीज क्या
है जिसे मुझे अपने मासिक लक्ष्य मे सही रास्ते पर रखने रहने के लिए, और मेरे मासिक लक्ष्य को वार्षिक लक्ष्य के साथ सही रास्ते पर रखने के लिए करने की जरूरत है?” अपने टाइम ब्लॉक की रक्षा कीजिए जिससे टाइम ब्लॉक्स वास्तव में टाइम ब्लॉक करें, उनकी रक्षा करनी चाहिए इसलिए जब कोई आपको डबल-बुक करने की कोशिश करता है, तब केवल कह दीजिए, “मुझे दुःख है, उस समय पहले से ही मेरी एक अप्वाइंटमेंट है,” और विकल्प प्रस्तुत कीजिए।

The ONE Thing
Gary Keller
तीन कमिटमेंट्स

टाइम ब्लॉकिंग के जरिए असाधारण नतीजे अचीव करने के लिए तीन कमिटमेंट्स की जरूरत होती है।
पहला, आप उस व्यक्ति की मानसिकता अपनानी पड़ेगी जो masteryachieve करने की मांग करता है।
mastery अपने लिए सबसे बढ़िया होने के लिए एक कमिटमेंट है। दूसरा, आपको चीजें करने के लिए
लगातार सबसे बढ़िया उपाय ढूँढ़ने पड़ेंगे। और अंतिम, अपनी एक चीज अचीव करने के लिए जो आप कर
सकते हैं वह हर चीज करने के लिए आपको सिर्फ खुद को ही जिम्मेदार ठहराना पडेगा।
1. Mastery के रास्ते पर चलिये
जब आप mastery/प्रवीणता को एक डिस्टिनेशन, एक रास्ते के रूप में देखते हैं, यह पहुँचने लायक और
पाने लायक लगना शुरू हो जाता है। mastery/ प्रवीणता के एक हेल्दी व्यू का अर्थ है अपने सबसे
महत्वपूर्ण काम पर सबसे अच्छा होने के लिए जितना आप हो सकते हैं, आपके पास जो सबसे बढिया है
उसे न्यौछावर करना। यह रास्ता उस ऐटिस का है जो बेहतर अनुभव और निपुणता के लिए, बुनियादी चीजों को सीखने और फिर से सीखने की कभी भी समाप्त न होने वाली यात्रा पर है।

2. “E” से “P” की ओर बढ़िए
किसी bhi चीज में प्रवीण होन का रास्ता केवल आप जितना कर सकते हैं उतना सबसे बढ़िया कर
रहे हैं का कम्बिनेशन ही नहीं है, बल्कि उतना बढ़िया करना भी है जितना किया जा सकता है। इसे “E”
आंत्रप्रनरीअल अप्रोच – से “P” परपसफुल अप्रोच की ओर बढ़ना कहा जाता है। हमारा स्वाभाविक
अप्रोच आंत्रप्रनरीअल; यह किसी उस चीज को देखना है या जिसे किए जाने की जरूरत है और अपनी पूरी
ऊर्जा और स्वाभाविक क्षमताओं के साथ इसे करने के लिए उत्साह के साथ दौड़ पड़ना है। फिर भी हमारी
स्वाभाविक क्षमताओं के अचीवमेंट की एक सीमा होती है, प्रोडक्टिविटी और सफलता का एक level/एक
स्तर होता है जो अंत में समाप्त हो जाता है। अत्यंत प्रोडक्टिव व्यक्ति अपने स्वाभाविक अप्रोच की सीमाओं
को अपनी सफलता पर आखिरी शब्द के रूप में स्वीकार नहीं करते। जब आप “P” को limitation/ सीमाबद्धता की उसी सीलिंग पर लाते हैं, तब चीजें अलग दिखाई देती हैं। परपसफुल अप्रोच कहता है, “मैं अब भी विकास करने के लिए कमिटेड हूँ, तब मेरे विकल्प क्या हैं?” तब आप फोकसिंग प्रश्न का इस्तमाल उन विकल्पों को अगली चीज के लिए संकुचित कर सकते हैं जिसे आपको करना चाहिए। यह नए मॉडल का अनुसरण करना हो सकता है, नई प्रणाली/ system अपनाना हो सकता है, या दोनों हो सकते हैं।

3. जिम्मेदारी के चक्र में जीवित रहिए
किसी दूसरे को नहीं बल्कि खुद को जिम्मेदार ठहराते हुए, अपने नतीजों की पूरी जिम्मेदारी ले लेना, सबसे
शक्तिशाली चीज है जिसे अपनी सफलता को ड्राइव करने के लिए आप कर सकते हैं। इसलिए, संभवतः
इन तीनों कमिटमेंट्स में जिम्मेदारी सबसे महत्वपूर्ण है। इसके बिना, जैसे ही आप किसी चुनौती का सामना
करेंगे, प्रवीणता/mastery के पथ पर आपकी यात्रा रुक जाएगी, और आप समझ नहीं पाएंगे कि अचीवमेंट
की सीलिंग्स को कैसे तोड़ कर निकले जो आपके रास्ते में आ गयी है।जिम्मेदार व्यक्ति धक्कों को सह लेते हैं
और चलते रहते हैं; वे रिजल्ट-ओरिएंटेड हैं और कभी भी काम ना करने वाली कार्यवाहियों, कुशलता के स्तरों, मॉडल्स, प्रणालियों या संबंधों का बचाव नहीं करते, जो काम नहीं करते। जब जीवन होता है, तब या तो आप जिम्मेदार हो सकते हैं, या गैर-जिम्मेदार। जब जीवन होता है, तब जिम्मेदार व्यक्ति वास्तविकता की खोज करता है, स्वीकार करता है, अपनाता है, समाधान ढूंढ़ निकालता है और इसके साथ आगे बढ़ता है। गैर-जिम्मेदार व्यक्ति वास्तविकता से बचता है, लड़ता है, दोष देता है, व्यक्तिगत बहाने बनाता है, और इंतजार करता है तथा आशा करता है।

चार चोर
हमारे सबसे अच्छे इरादे नष्ट हो सकते हैं। ठीक वैसे ही जैसे छः झूठ हैं जो आपको धोखा देंगे और भटका देंगे,
वैसे ही चार चोर हैं जो आपको रोक लेंगे और आपसे आपकी प्रोडक्टिविटी लूट लेंगे।
1. “नहीं”कहने में अक्षमता: जब आप फोकस करने की कोशिश कर रहे होते हैं तब विचलित हो जाना एक बात है; आपने अभी शुरू भी नहीं किया है तब हाइजैक्ड हो जाना एक और बात है। कोई भी व्यक्ति जो आपको
अपकी पत्री से उतार सकता है अगर आप उसको ना नही कह सकते तो आप कभी भी सफल नही हो पायेंगे।

2. गड़बड़ी का भय: जब आप केवल एक चीज पर फोकस करते हैं, तब झंझट लाजमी है जब आप अपने
सबसे महत्वपूर्ण काम तराशते रहते हैं. तब दुनिया बैठी रह कर इंतजार नहीं करती। आपके लिए इस बात से
लड़ने के बजाय इसे स्वीकार करना ज्यादा महत्वपूर्ण है।
3. खराब स्वास्थ्य की आदतें: व्यक्तिगत ऊर्जा की मिसमैनेजमेंट प्रोडक्टिविटी का खामोश चोर है। यह
व्यायाम की कुंजी है, मेडिटेशन के लिए कुछ समय निकालिए, और सुनिश्चित कीजिए कि आप आठ घंटे
नींद लेते हैं। बहुत ज्यादा काम लेने की कोशिश करते हुए अपने स्वास्थ्य का बलिदान मत दीजिए।
4. वातावरण आपके लक्ष्यों की सहायता नहीं करता: आपका वातावरण केवल वही है जिसे आप प्रतिदिन
देखते हैं और जिसे अनुभव करते हैं। आपके जीवन में सही लोग/व्यक्ति और आपके आस-पास सही
वातावरण आपको अपनी एक चीज पाने की कोशिशों में सहायता करेंगे। काश इसे मैने किया होता, इसे तो हम कर सकते थे,करना चाहिए था जमा करने के लिए जीवन बहुत छोटा है। सफलता एक अंदरुनी काम है। जब आप खुद को संभाल लेते हैं, तब दुनिया अपनी जगह पर आ जाती है। आप जानते हैं कि क्या करना है। आप जानते हैं कि इसे कैसे करना है। आपका अगला कदम सरल है। बस आप अपनी वन थीकिंग चूज कीजिये और उसे कर दीजिये।

Leave a Reply