The Mary Kay Way: Timeless Principles from… Mary Kay Ash Books In Hindi Summary

The Mary Kay Way: Timeless Principles from… Mary Kay Ash इंट्रोडक्शन क्या आपको ऐसा लगता है कि आप लोगों के साथ अच्छी तरह से बातचीत नहीं कर पाते हैं, चाहे आप कितनी कोशिश कर लें? क्या आप पने काम के माहौल में पॉज़िटिव बदलाव लाना चाहते हैं, लेकिन यह नहीं जानते कि कैसे करें? क्या आप अपना बिज़नेस एंपायर खड़ा करना चाहते हैं, लेकिन आपको नहीं पता कि कहाँ से शुरूआत करें? मैरी के वे के पास आपकी सभी प्रॉब्लम के जवाब हैं। यह समरी गोल्डन रूल के बारे में बात करती है। गोल्डन रूल इतना खास है कि ख़ुद मैरी भी उसे सख्ती से फॉलो करती हैं। वह सक्सेसफुल होने के लिए उन प्रिंसिपल्स पर टिके रहने के इंपॉर्टेस पर जोर देती हैं। गोल्डन रूल, “जो आप हासिल करना चाहते हैं उसे आपको भी देना चाहिए” इस पर जोर देता है। यह आपको एम्प्लॉइज़ को स्पेशल महसूस कराने का इंपॉर्टेस सिखाएगा। यह इनविज़िबल यानी दिखाई ना देने वाले साइन के ज़रिए हासिल किया जा सकता है। ये साइन आपको लोगों को इंपॉर्टेट महसस कराने देने वाले साइन के ज़रिए हासिल किया जा सकता है। ये साइन आपको लोगों को इंपॉर्टेट महसूस कराने के लिए कहता है। वर्कर्स, एम्प्लॉइज़ और कस्टमर्स के साथ मीनिंगफुल रिश्ते बनाने के लिए यह बहुत ज़रूरी है। जब बदलाव की बात आती है तो मैरी , आपके एम्प्लॉइज़ के नेगेटिव रिएक्शन से बचने का एक असरदार तरीका बताएंगी। आप अपनी गलतियों को मानने और सीखने की ताकत के बारे में जानेंगे। आप यह भी सीखेंगे कि फेलियर और रिस्क लेने से डरने की कोई ज़रूरत नहीं है। ये दोनों ही सक्सेस के लिए ज़रूरी हैं। आपको एहसास होगा कि आपके पर्सनल लाइफ में भी गोल्डन रूल कितना इंपॉर्टेट है। आपको ना सिर्फ़ अपने करियर को बढ़ाने की ज़रूरत है, बल्कि अपने परिवार और दोस्तों के साथ अपने रिलेशन को भी बनाए रखना है। क्या आप अपने बिज़नेस को एक नई ऊंचाई पर ले जाने के लिए तैयार हैं? यह समरी आपको अपके टारगेट तक पहुँचने और अब तक की सबसे अच्छा बिजनेसमैन या बिज़नेस वुमेन बनने में गाइड करेगी। गोल्डन रूल लीडरशिप गोल्डन रूल लीडरशिप गोल्डन रूल अब तक के सबसे फ़ेमस कहावतों में से एक है। गोल्डन रूल कहता है कि आपको दूसरों के साथ वही करना चाहिए जो आप चाहते हैं कि दूसरे आपके साथ करें। यह सीख सालों से लोगों के साथ जुड़ी हुई है। यह उन्हें दूसरे लोगों के साथ रोज़मर्रा की बातचीत में गाइड करता है। मैरी, मैरी के Inc. नाम की एक अमेरिकन मल्टी-बिलियन डॉलर कंपनी की फाउंडर हैं। ये कंपनी अलग-अलग तरह के कॉस्मेटिक प्रोडक्ट बेचती है। मैरी अपने बिजनेस मॉडल पर गोल्डन रूल अप्लाई करने वालों में से एक हैं। गोल्डन रूल के ज़रिए कंपनी प्रॉफिट-ओरिएंटेड के बजाय ज़्यादा एम्प्लॉई-ओरिएंटेड बन सकती है यानी सिर्फ प्रॉफिट पर फोकस करने के बजाय अपने एम्प्लोयीज़ को ज़्यादा अहमियत देने वाली बन सकती है। कैसे? एक कंपनी को अपने काम के माहौल को बेहतर बनाने पर ध्यान देना चाहिए। अपने एम्प्लॉइज़ के साथ काम मिलकर करना जरूरी है ना कि उनसे ऊपर उठकर। टॉप मैनेजमेंट को अपने एम्प्लॉइज़ के नज़रिए पर सोच-विचार करना चाहिए। कई बार ये देखने को मिला है जब बॉस अपने एम्प्लॉइज़ के लिए मुश्किलें खड़ी है जब बॉस अपने एम्प्लॉइज़ के लिए मुश्किलें खड़ी कर देते हैं। हालांकि, इस साइकल को तोड़ने के लिए होशियारी से कोशिश करना ज़रूरी है। मैनेजर्स को पूरी कोशिश करनी चाहिए कि वह अपने एम्प्लॉइज़ के लिए “जहन्नुम का मालिक” नहीं बनें। मान लीजिए कि आप एक बॉस हैं और आप किसी मुश्किल में हैं। हमेशा ऐसे हल के बारे में सोचें जिससे सभी को फायदा हो। एक ऐसा तरीका खोजें जो आपको, आपके एम्प्लॉइज़ और कंपनी को कम से कम नुकसान पहुंचाए। लेकिन बिज़नस को ठीक से चलाना भी ज़रूरी है इसलिए मैनेजमेंट को वही करने की ज़रूरत है जो कंपनी के लिए सबसे अच्छा है, भले ही वे फ़ैसले दूसरों के हित में न हों। कंपनी इन हालातों में भी गोल्डन रूल का इस्तेमाल कर सकती है। मैनेजर्स को एम्प्लॉइज़ के साथ तमीज़ और नरमी के साथ बर्ताव करना चाहिए। अपना बिज़नेस एंपायर बनाने से पहले, मैरी ने एक छोटी सी कंपनी में सेल्सवुमन के रूप में काम की शुरुआत की थी। अपने तजुर्बे को देखते हुए, मैरी ने महसूस किया कि ऐसे अनगिनत बॉस हैं जिन्हें गोल्डन रूल को अपनाने की जरूरत है। उस समय मैरी के सुपरवाइजर मिस्टर एक्स लोगों को उस समय मैरी के सुपरवाइजर मिस्टर एक्स लोगों को गलती करने पर तुरंत जॉब से निकालने के लिए मशहूर थे। हर दोपहर, ऑफिस टेन्शन और डर से भरा रहता था। मिस्टर एक्स एक एम्प्लोई को अपने ऑफिस में बुलाता था और उसे निकाल देता था। ये काम शांति से नहीं होता था बल्कि उनके कैबिन से रोने धोने और चिल्लाने की आवाज़ आती थी। इस तरह का व्यवहार लोगों को दुःख पहुंचाता था। वहाँ काम का माहौल भी जहरीला था। मिस्टर एक्स एम्प्लॉइज़ को सिर्फ अपना सामान पैक करने और ऑफिस छोड़ने के जितना ही वक़्त देता था। लेकिन मैरी ने मिस्टर एक्स को फॉलो नहीं किया। जब उन्होंने अपनी कंपनी शुरू की, तो उन्होंने एम्प्लॉइज़ को उनकी गलतियों को ठीक करने के लिए काफी समय दिया। मान लीजिए कि मैरी को लगा कि कोई एम्प्लोई किसी पोस्ट के लिए सही नहीं हैं तो वह उसे कंपनी में दूसरा पोस्ट देने के लिए हर कोशिश करतीं थीं। वो किसी को जॉब से निकालती नहीं थी, इसके बजाय मैरी खुद को एम्प्लाइज़ की जगह रखकर देखती थी और हर तरीके से उनकी मदद करती थी। The Mary Kay Way: Timeless Principles from… Mary Kay Ash इनविज़िबल साइन जब आप लोगों से मिलते हैं, तो आप सबसे पहले क्या नोटिस करते हैं? क्या वह उनके बोलने का तरीका है या वो कैसे दिखते हैं? हम अक्सर किसी को जानने से पहले उसके बारे में एक राय बना लेते हैं। हम किसी आदमी के बारे में अच्छी चीजों से पहले नेगेटिव चीजों को सबसे पहले देखते हैं। हमें किसी की भी बुराई पहले देखने की आदत है। हालांकि मैरी इस तरह की सोच को खत्म करना चाहती थीं। हर किसी में पॉज़िटिव बातों को देखना जरूरी है। किसी की भी तारीफ करने के लिए हमें कुछ भी खर्च नहीं करना पड़ता है। इसलिए इनविज़िबल साइन को याद रखना जरूरी है। इनविज़िबल साइन आपको लोगों की तारीफ करने और उन्हें ये जताने के लिए कहता है कि वो आपके लिए कितना मायने रखते हैं। तारीफ कर के और सब के साथ दयालु होने से यह हासिल किया जा सकता लिए कितना मायन रखत ह। ताराफ कर क आर सब के साथ दयालु होने से यह हासिल किया जा सकता है। सबसे बुरी फीलिंग्स में से एक तब होती है जब लोग आपको नज़र अंदाज़ करते हैं। इससे आपको लगता है कि आपकी मौजूदगी कोई मायने नहीं रखती। यह आपको निराश कर सकता है, आपकी प्रोडक्टिविटी को कम कर सकता है और आपके सेल्फ़ रिस्पेक्ट को भी नुक्सान पहुंचा सकता है। बेस्ट बनने के लिए motivated और प्रोडक्टिव बने रहना बहुत ज़रूरी है. मैरी इस इंपॉर्टेट लेसन को अपने रीडर्स के साथ शेयर करना चाहती थीं। हर कोई महान चीजें हासिल कर सकता है। एक सच्चा बॉस अपने एम्प्लॉइज़ का हौसला बढ़ाना जानता है। ऐसा करना एम्प्लॉइज़ को काम में अपना बेस्ट करने के लिए इंस्पायर करता है। ऐसा इसलिए क्योंकि एम्प्लॉइज़ समझ पाते हैं कि जिस कंपनी में वो हैं वहाँ उनकी वैल्यू की जा रही है। उनके साथ अच्छे से पेश आना उन्हें यह दिखाने का एक तरीका है कि आप उनकी कितनी सराहना करते हैं। मैरी का मानना है कि कंपनी को एम्प्लॉइज़ को अपना सब कुछ देना चाहिए क्योंकि वह इसके हकदार हैं। हम सब attention चाहते हैं। यहाँ तक कि मैरी को भी नजरअंदाज किए जाने का तजुर्बा हुआ। यह कुछ ऐसा था जिसे वह कभी नहीं भूल पाई। अपनी कंपनी बनाने से पहले वह एक सेल्स गर्ल भी थी। एक बार ऐसा था जिसे वह कभी नहीं भूल पाई। अपनी कंपनी बनाने से पहले, वह एक सेल्स गर्ल भी थी। एक बार, उन्होंने एक कंपनी के सेल्स मैनेजर से हाथ मिलाने के लिए लंबी लाइन में इंतज़ार किया था। लेकिन मैनेजर ने उन पर ध्यान ही नहीं दिया, उनकी बात को अनसुना कर दिया। मैरी को यह अच्छे से याद है जैसे कि यह कल ही की बात हो। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस तजुर्बे ने उन्हें गहराई से चोट पहुंचाई थी जिसकी वजह से उन्होंने उसे इनविजिबल साइन बनाया था। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने बिज़ी हैं। जब आप उनके साथ बातचीत करते हैं तो आपको दूसरे लोगों को इंपॉर्टेट और अपने टाइम के लायक महसूस कराना चाहिए। जब अलग-अलग लोग प्रोग्राम्स में बोलते हैं, तो मैरी हमेशा सुनती हैं और उस पर अपना पूरा ध्यान लगा देती हैं। वह उनका स्वागत करती और तारीफ और बढ़ावा देती हैं। उन्होंने लोगों को खास महसूस कराया है। मैरी उन्हें अपने हाथों से लिखा हुआ लैटर भी देती हैं। इससे एम्प्लॉइज़ को पता चलता कि वे इंपॉर्टेट हैं और उन्हें इज्ज़त दी जा रही है। लोग उस चीज़ को सपोर्ट करतें हैं जिसे क्रिएट करना चाहते हैं। लोग उस चीज़ को सपोर्ट करते हैं जिसे क्रिएट करना चाहते हैं। लोग बदलाव को नापसंद करते हैं क्योंकि यह उनके लिए नया होता है और बदलाव सिर्फ उन्हें उन नई पॉलिसी को अपनाने के लिए मजबूर करेगा। उनका दिमाग पहले से ही उन चीजों से परेशान है जो वे रोजाना करते हैं। वे बेहतर कंडीशन में बदलने के बजाय एक मुश्किल कंडीशन में रहना ही पसंद करेंगे। मैरी ने लोगों को बदलाव पसंद करने के लिए एक सीक्रेट दिया। यह सीक्रेट दूसरे लोगों को इस प्रोसेस में शामिल करना है। लोग अपनी क्रिएशन को चुनने के लिए ज़्यादा इच्छुक रहते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो, अगर वे इस बदलाव को क्रिएट करने में हिस्सा लेते हैं तो वे बदलाव को भी अपना लेंगे। हर किसे के एक्टिव तरीके से शामिल होने से कंपनी में सभी को बहुत फ़ायदा होगा। एम्प्लॉइज़ को लगेगा कि उन्हें सुना और माना जा रहा है। इसी बीच, मैनेजर एक इफेक्टिव प्लान को अप्लाई करने में सक्सेसफुल महसूस करेगा। हालाँकि, इस मेथड के कुछ नुक्सान भी हैं। सभी को शामिल करना और मनाना बहुत मुश्किल है। जो लोग इस प्रोसेस में शामिल नहीं थे वे बदलाव को अपनाने में एतराज़ करेंगे। वे उन प्रोजेक्ट्स को सपोर्ट न करने के इस प्रोसेस में शामिल नहीं थे वे बदलाव को अपनाने में एतराज़ करेंगे। वे उन प्रोजेक्ट्स को सपोर्ट न करने के बहाने बनाएंगे। इससे ईगो को भी ठेस पहुंच सकती है। कुछ एम्प्लॉइज़ को ऐसा लग सकता है कि कंपनी में उनका इंपॉर्टेस नहीं है क्योंकि उन्हें छोड़ दिया गया था। उन्हें लगेगा कि कंपनी में उनकी हालत की कोई परवाह नहीं करता है। उनकी इंवॉल्वमेंट के बिना, वे उस चीज़ को सपोर्ट करने वे में हमेशा झिझकते रहेंगे। मैरी ने एक कंपनी के असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट के साथ बात की थी जिसका नाम फ्रैंक था और वो मैरी के Inc. के लिए काम करना चाहता था। उसने समझाया कि वह अपनी करंट कंपनी में कुछ ख़ास नहीं कर सकते थे। फ्रैंक ने कंपनी के द्वारा बनाई गई सभी नई पॉलिसी के बारे में भी बताया । उसने मैरी को बताया कि ये सभी policy बिज़नेस के लिए बुरे फ़ैसले क्यों थे। हालाँकि, मैरी ने सोचा कि ये सभी पॉलिसी ठीक थीं। इसलिए, उन्होंने उससे असली कारण पूछना शुरू किया कि वह कंपनी को क्यों छोड़ना चाहता है। इस बार, फ्रैंक ने मैरी को सच बताया। कंपनी अपनी मार्केट स्ट्रेटजी और कंपनी के स्ट्रक्चर में हमेशा झिझकते रहेंगे। मैरी ने एक कंपनी के असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट के साथ बात की थी जिसका नाम फ्रैंक था और वो मैरी के Inc. के लिए काम करना चाहता था। उसने समझाया कि वह अपनी करंट कंपनी में कुछ ख़ास नहीं कर सकते थे। फ्रैंक ने कंपनी के द्वारा बनाई गई सभी नई पॉलिसी के बारे में भी बताया । उसने मैरी को बताया कि ये सभी policy बिज़नेस के लिए बुरे फ़ैसले क्यों थे। हालाँकि, मैरी ने सोचा कि ये सभी पॉलिसी ठीक थीं। इसलिए, उन्होंने उससे असली कारण पूछना शुरू किया कि वह कंपनी को क्यों छोड़ना चाहता है। इस बार, फ्रैंक ने मैरी को सच बताया। कंपनी अपनी मार्केट स्ट्रेटजी और कंपनी के स्ट्रक्चर में बदलाव कर रही थी। इन बदलावों में, फ्रैंक को जानबूझकर बाहर रखा गया था। वह बुरा महसूस कर रहा था, और उसका ईगो भी हर्ट हो गया था। यह बताता है कि उसे हर बदलाव से इतनी नफरत क्यों थी। अगर फ्रैंक को इन बदलावों को करने में शामिल किया जाता तो मैरी को लगता है कि फ्रैंक उस कंपनी को नहीं छोड़ता। The Mary Kay Way: Timeless Principles from… Mary Kay Ash रिस्क लेने वाला बनें आपके जीवन में कई चांस आते हैं, लेकिन आप असल में उनमें से कितनों से फ़ायदा ले पाते हैं? ऐसे मौकों पर ख़ुद पर डाउट करना और हद से ज़्यादा सोचना, ऐसी चीजें होने लगती हैं। आप अपने मन में ऐसी आवाजें सुनने लगते हैं जो आपको खुद से सवाल करने पर मजबूर कर देती है जैसे क्या आपका आईडिया कभी सच में सक्सेसफुल हो पाएगा? क्या आप सच में काबिल हैं? आपके रास्ते में आने वाले हर चांस के साथ हमेशा रिस्क जुड़े होते हैं। कोई भी, कभी भी किसी प्लान की सक्सेस की गारंटी नहीं दे सकता है, ख़ासकर वो बिज़नेस जो इनोवेशन और क्रिएटिविटी से जुड़े होते हैं। यह समझना ज़रूरी है कि हर अच्छा आइडिया सक्सेसफुल नहीं हो सकता। मैरी ने इस बात पर जोर दिया है कि भले ही कोई प्लान फेल हो जाए, आपको क्रिएटर को शर्मिंदा नहीं करना चाहिए। इसके बजाय, उन्हें कड़ी मेहनत करते रहने के लिए इंस्पायर करें। उन्हें ज़्यादा क्रिएटिव आईडिया क्रिएट करने के लिए इंस्पायर करें। रहने के लिए इंस्पायर करें। उन्हें ज़्यादा क्रिएटिव आईडिया क्रिएट करने के लिए इंस्पायर करें। कोई गलती आपकी पहचान नहीं बन सकती। आपको यह मानना होगा कि फेलियर आपके सफ़र का हिस्सा हैं। इससे आपको दुखी नहीं होना चाहिए। फेलियर आपको कुछ नया सीखने में मदद करते हैं। यह आपको ग्रो करने में मदद करता है इसलिए आपको गलतियां करने से डरना नहीं चाहिए। कोशिश करने में कोई शर्म नहीं है क्योंकि असली फेलियर तो वह है जो हार मान लेता है। मैरी की पहली स्किनकेयर क्लास फेल हो गई थी। उस क्लास को सिर्फ़ $7.50 का प्रॉफिट हुआ था और इससे उनका दिल टूट गया था। इस ऑर्गेनाइजेशन को शुरू करना मैरी और उनके परिवार के लिए पहले से ही एक बड़ा रिस्क था। उन्होंने अपनी जिंदगी की सारी जमा पूँजी इस पर खर्च कर दी थी। उनके बेटों ने उनके बिज़नेस को आगे बढ़ाने के लिए अपनी जॉब भी छोड़ दी थी। फिर भी, रिस्क और फेलियर की पॉसिबिलिटी ने उन्हें बिज़नेस करने से नहीं रोका। पहली क्लास के फेलियर ने उन्हें अपने फ़ैसलों पर दोबारा सोचना सिखाया। मैरी ने अपनी क्लास की घटनाओं को रिव्यू किया और सोचा कि क्या गलत हुआ था। फ़िर उन्हें ध्यान आया कि उन्होंने अपनी पाषा सापना सिपापा। पररान जपना पास फा घटनाओं को रिव्यू किया और सोचा कि क्या गलत हुआ था। फ़िर उन्हें ध्यान आया कि उन्होंने अपनी ऑडियंस से अपने प्रोडक्ट के लिए ऑर्डर देने के लिए कहा ही नहीं, उन्होंने बस मान लिया था कि वो अपने आप आर्डर दे देंगे। इस एक्सपीरियंस के बाद मैरी ने ये गलती कभी नहीं दोहराई। तो क्या आप अपनी गलतियों को मानने और उनसे सीखने की ताकत को समझ पा रहे हैं? मैरी के Inc. की ज़बरदस्त सक्सेस के बाद भी, उनके बिज़नेस में कई गलतियाँ हुई हैं। कंपनी ने “Business in a box” नाम का एक प्रोजेक्ट शुरू किया था। यह सेल्स टीम के लिए टाइम बचाता था। यह बुक कीपिंग का एक नया मेथड था। इसका मकसद ऑर्गेनाइजेशन के रिकॉर्ड का ट्रैक रखने का एक आसान तरीका बनाना था। जब कंपनी के बाकी लोगों को इसके बारे में सोच-विचार करने के लिए कहा गया, तो हर कोई खुश हो गया। मैरी के Inc. ने “Business in a box” को अप्लाई किया और सभी ज़रूरी चीजें तैयार की। लेकिन कंपनी ने पाया कि इसका कॉस्ट यानी ख़र्च इससे मिलने वाले फ़ायदे से ज़्यादा है। फिर इस प्रोजेक्ट को बंद कर दिया गया था। मैरी के Inc. का गोडाउन बक्सों से भर गया था जो उनके किसी काम का नहीं था | सीधे शब्दों में कहें तो, यह प्रोजेक्ट एक फेलियर था। जा २ मा || पापापा IS कहा गया, तो हर कोई खुश हो गया। मैरी के Inc. ने “Business in a box” को अप्लाई किया और सभी ज़रूरी चीजें तैयार की। लेकिन कंपनी ने पाया कि इसका कॉस्ट यानी ख़र्च इससे मिलने वाले फ़ायदे से ज़्यादा है। फिर इस प्रोजेक्ट को बंद कर दिया गया था। मैरी के Inc. का गोडाउन बक्सों से भर गया था जो उनके किसी काम का नहीं था | सीधे शब्दों में कहें तो, यह प्रोजेक्ट एक फेलियर था। लेकिन मैरी ने कभी भी इसके क्रिएटर को शर्मिंदा या बेइज़्ज़त नहीं किया। हम देखते हैं कि कैसे बड़ी कंपनियों को भी नुक्सान होता है लेकिन फिर भी वे अपने एम्प्लॉइज़ को महत्त्व देते हैं। लोगों को उनके फेलियर के लिए शर्मिंदा करना उन्हें अपने क्रिएटिव साइड को बढ़ाने से रोकता है। किसी को भी गलत होने से नहीं डरना चाहिए। गलतियों के बावजूद मैरी ने कभी हार नहीं मानी। लोगों को इंस्पायर करने के लिए उनका पसंदीदा लाइन है “कभी हार न मानें और डटे रहें”। वह कड़ी मेहनत करने और फेलियर को सहन करने के जादू में भरोसा करती हैं। The Mary Kay Way: Timeless Principles from… Mary Kay Ash जॉब पर और बाहर गोल्डन रूल के साथ रहें दूसरों के साथ वैसा ही बर्ताव करें जैसा आप चाहते हैं कि आपके साथ किया जाए। आपको लगता होगा कि यह रूल सिर्फ़ आपके घर के बाहर के लोगों पर ही लागू होगा। लेकिन, यह गोल्डन रूल आपकी फैमिली और पर्सनल रिश्तों को बनाए रखने के लिए भी ज़रूरी है। आप अपने जीवन में सबसे इंपॉर्टेट लोगों को कम महत्त्व क्यों देते हैं? उन्हीं के लिए तो आप जी तोड़ मेहनत करते हैं लेकिन कई बार आप उन्हें नज़रअंदाज़ भी कर देते हैं। उन्हें सबसे ज्यादा अहमियत देने के बजाय, आप उन्हें हल्के में लेते हैं। आप सोचते हैं कि वे आपके साथ रहेंगे ही चाहे कुछ भी हो जाए क्योंकि वो आपका परिवार हैं। लेकिन आप भूल जाते हैं कि उनके पास भी इनविज़िबल साइन होता है। वे चहते हैं कि उन्हें भी अहमियत दी जाप मूला जात उन पास मानापाबल साइन होता है। वे चहते हैं कि उन्हें भी अहमियत दी जाए, वो भी तारीफ सुनना चाहते हैं। लेकिन आप काम में इतने बिज़ी हो जाते हैं कि घर लौटने पर आपके पास अपने परिवार के लिए एनर्जी ही नहीं बचती। आपको अपनी प्रायोरिटीस को क्लियर रखने की ज़रूरत है। परिवार की जगह काम से बहुत ऊपर होती है। आप अपने काम में जो वक़्त, कोशिश और सब्र बनाए रखते हैं उसे घर में भी बरकरार रखें। जैसा कि आप अपने वर्कर्स को रिस्पेक्ट देने और पाने की कोशिश करते हैं, आपको अपने परिवार के लिए भी वही चीज़ करने की ज़रूरत है। मैरी आपको ऐसा जीवन जीने के लिए इंस्पायर करती हैं जो न सिर्फ आपके अपने लिए बल्कि आपके आसपास के लोगों के जीवन को भी अच्छा बनाए। ये सभी टेक्निक्स बिज़नेस सेटिंग तक ही नहीं होनी चाहिए। घर पर भी इन्हें फॉलो करना जरूरी है। आपको अपने काम के लिए ईमानदार होना है। आप ऐसा नहीं कर सकते कि काम पर इन प्रिंसिपल्स को फॉलो करें और घर पर इन्हें भूल जाएं। मैरी यह पक्का करना चाहती थी कि जिन लोगों को मैरी यह पक्का करना चाहती थी कि जिन लोगों को भी उन्होंने पढ़ाया वे इन बातों को अच्छी तरह से फॉलो करें। उन्हें इन प्रिंसिपल्स का इसतेमाल अपने बिज़नेस और पर्सनल लाइफ दोनों में करना चाहिए। उन्होंने एक example दिया कि हमारे काम दूसरे लोगों पर कैसे असर डालते हैं। जेन मार्केटिंग एग्जिक्यूटिव हैं। वह दिन भर लोगों के साथ रहती हैं। उनकी सबसे अच्छी एसेट उनकी बातचीत करने की स्किल है। लेकिन जब जेन घर पहुँचती हैं, तो वह इतना थक जाती है कि उनके पति उनसे बात करने की कोशिश करते हैं, लेकिन वह कुछ नहीं बोलतीं। जेन उन्हें बताती हैं कि वह काम पर सभी से बात करके बहुत थक जाती हैं। बदले में, उनके पति को बहुत बुरा महसूस होता है कि वह काम पर सभी से कैसे बात कर लेती है लेकिन उनसे बात करने से मना कर देती है। इस पूरी परेशानी से बचा जा सकता था अगर जेन ने अपने पति के साथ वैसा ही बर्ताव किया होता जैसा वह अपने कस्टमर्स के साथ करती थी। इस एक्स्ट्रा विनानि TT Tने में नटन जन पारा 4 साप पसाहा पाप पापा का पता वह अपने कस्टमर्स के साथ करती थी। इस एक्स्ट्रा कोशिश से उनके पति के साथ उनके रिश्ते में बहुत फर्क पड़ता। हम जो छोटी-छोटी चीजें करते हैं, वे भी मायने रखते हैं। हम अपने परिवार वालों से जो दिल दुखाने वाली बातें करते हैं उससे उन्हें ठेस पहुँचती है। अगर आपके बच्चे के मार्क्स कम आए हों, तो आपको उस पर फेल होने के लिए चिल्लाना नहीं चाहिए। आपको तारीफ करते-करते बीच में उन्हें समझाने के लिए कोई बात कह देनी चाहिए। इस तरह, वे बुरा महसूस नहीं करेंगे। थोड़ी सी तारीफ उन्हें दिखा सकती है कि आपको उनकी कोशिश दिखती है। Conclusion सबसे पहले, आपने गोल्डन रूल के बारे में सीखा। गोल्डन रूल सिखाता है कि दूसरों के साथ वही करना है जो आप चाहते हैं कि दूसरे आपके साथ करें। यह न सिर्फ़ आपकी पर्सनल लाइफ पर बल्कि आपके काम के माहौल पर भी अप्लाई होता है। जब आप गोल्डन रूल को फॉलो करते हैं, तो आपके काम का माहौल बेहतर और अच्छा हो जाता है। दूसरा, आपने इनविज़िबल साइन के बारे में जाना। हर इंसान तारीफ सुनना और अपनाया जाना महसूस करना चाहता है। थोड़ी सी तारीफ और मेहरबानी सभी के लिए बहुत मायने रखती है। इसलिए , आपको हर इंसान में अच्छाई को देखने और उसे मानने की ज़रूरत है। यह, काम और घर पर ज़्यादा प्रोडक्टिव और अच्छा माहौल बनाता है। 1 तीसरा, आपने आसानी से लोगों को बदलने का एक नया तरीका सीखा। अगर आप कंपनी में कोई बदलाव लाना चाहते हैं तो उन्हें इसमें शामिल ज़रूर करें, इससे उनके लिए बदलाव को अपनाना आसान हो जाएगा। चौथा, आपने रिस्क लेने और फेलियर को स्वीकार करना सिखाया। इसने आपको समझाया है कि कैसे एक गलती या फेलियर आपको डिफाइन नहीं करती है। ये गलतियां आपको मजबूत और समझदार बनना सिखाती हैं । किसी चीज़ को try करने से घबराएँ नहीं और हर काम में अपना बेस्ट देने की कोशिश करें। आखिर में, पको एक बेहतर एंटरप्रेन्योर बनने के लिए एक इंपॉर्टेट चीज़ के बारे में बताया गया । यह आपके पर्सनल लाइफ और काम के माहौल को चौथा, आपने रिस्क लेने और फेलियर को स्वीकार करना सिखाया। इसने आपको समझाया है कि कैसे एक गलती या फेलियर आपको डिफाइन नहीं करती है। ये गलतियां आपको मजबूत और समझदार बनना सिखाती हैं । किसी चीज़ को try करने से घबराएँ नहीं और हर काम में अपना बेस्ट देने की कोशिश करें। आखिर में, आपको एक बेहतर एंटरप्रेन्योर बनने के लिए एक इंपॉर्टेट चीज़ के बारे में बताया गया । यह आपके पर्सनल लाइफ और काम के माहौल को पॉज़िटिव करने के लिए है। अपने रिश्तेदारों के साथ उसी एनर्जी और सम्मान के साथ बर्ताव करना ज़रूरी है जो आप अपने कलीग्स के साथ करते हैं। यह सफ़र लंबा और मुश्किल होगा लेकिन आपने जो सीखा है उसे अच्छे से फॉलो करते रहें। मैरी एक बार आपकी जगह पर ही थीं लेकिन अब उनके पास जो है, उसे देखिए। जल्द ही, आप भी उनकी तरह बन सकते हैं, आपका भी एक बिज़नेस एंपायर होगा। कभी हार मत मानिए और हमेशा इन प्रिंसिपल्स को दिल से फॉलो करते रहिए।

Leave a Reply