The Effective Executive Peter Drucker Books In Hindi Summary

The Effective Executive Peter Drucker इंट्रोडक्शन ऐसा क्यों है कि कुछ कंपनियां कामयाब हो जाती हैं और बाकी फेल? कुछ executives अच्छा परफॉर्म कर ज़्यादा रिजल्ट डिलीवर कर पाते जबकि दूसरे नहीं? क्या वो इन स्किल के साथ पैदा हुए हैं या उन्हें सिखाया जाता है कि उन्हें क्या करना है? इन कंपनियों और टॉप executives का राज़ क्या है जो उन्हें मार्केट में बने रहने में मदद करता है? वो ऐसा क्या अलग और ख़ास करते हैं? किसी भी आर्गेनाइजेशन में एक एग्जीक्यूटिव बहुत ही इम्पोर्टेन्ट इंसान होता है. वो जो भी डिसिशन लेता है उसका बड़े स्केल पर आर्गेनाइजेशन पर असर होता है. उनके द्वारा लिए गए डिसिशन या उठाए हुए कदम किसी भी कंपनी को या तो ऊँचाई पर ले जा सकते हैं या उसे ज़मीन पर पटक सकते हैं. लेकिन एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव अच्छे से जानता है कि उसे क्या करना है और वो सोच समझकर सही डायरेक्शन में कदम उठाता है. आपको ये पता होना चाहिए कि कोई भी ये स्किल सीखकर पैदा नहीं होता. इस बुक में आप सीखेंगे कि इफेक्टिवनेस एक स्किल है जिसे कोई भी सीख सकता है. आप किसी भी काम को किस तरह करते हैं बस वो मायने रखता है. इस बुक में कुछ ख़ास qualities बताई गई हैं जिनका इस्तेमाल कर दफेक्टिव एग्जीक्यटिव सक्सेसफल हए हैं तो क्या A < कुछ ख़ास qualities बताई गई हैं जिनका इस्तेमाल कर इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव सक्सेसफुल हुए हैं. तो क्या आप एक ग्रेट एग्जीक्यूटिव बनने के लिए तैयार हैं जिसे हमेशा याद रखा जाएगा? अगर हाँ, तो ये बुक आपको सिखाएगी कि कैसे. KNOW THY TIME. हर एग्जीक्यूटिव के लिए टाइम सबसे इम्पोर्टेन्ट फैक्टर होता है. इसका ज़्यादा से ज़्यादा फ़ायदा उठाने के लिए कई एग्जीक्यूटिव कहते हैं कि अपने काम के लिए पहले प्लान बनाना चाहिए. लेकिन रियल लाइफ में ये मेथड ज़्यादा काम नहीं करता. इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव पहले ठीक से अपने टाइम को एनालाइज करते हैं. फ़िर वो unproductive और बेकार के काम पर लगने वाले समय को कम से कम करने की कोशिश करते हैं. लेकिन हम इंसानों को ठीक से टाइम मैनेज करना ही नहीं आता. असल में, हम अक्सर समय की सुध बुध खो देते हैं. एक साइकोलॉजिकल एक्सपेरिमेंट किया गया जिसमें लोगों को एक अँधेरे कमरे में रखा गया और वहाँ से बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं था. उन लोगों में सेंस ऑफ़ स्पेस तो बरकरार थी लेकिन उन्होंने जल्द ही अपना सेंस ऑफ़ टाइम खो दिया था. अब इसी एक्सपेरिमेंट को लाइट जलाकर दोहराया गया. उनमें से ज़्यादातर लोग अभी भी समझ नहीं पा रहे थे कि वो उस कमरे में कितनी देर से बंद थे. इसलिए टाइम का ट्रैक खो देना और समय बर्बाद करना हम सभी करते तपागरमापातमा ५९ सप५५.२साला पाा ट्रैक खो देना और समय बर्बाद करना हम सभी करते हैं जिसका मतलब ये हुआ कि हर एग्जीक्यूटिव को सीखना होगा कि टाइम को मैनेज कैसे किया जाए. कई executives को बेकार का काम सौंप दिया जाता है जिस वजह से उनका बहुत टाइम बर्बाद होता है लेकिन जॉब की वजह से उन्हें इस प्रेशर को भी झेलना पड़ता है. एक बार एक एग्जीक्यूटिव ने बताया कि उसकी जॉब का एक हिस्सा ये भी था कि उसे हर रात डिनर मीटिंग अटेंड करनी पड़ती थी. इसमें उसका बहुत समय बर्बाद होता था लेकिन फिर भी वो इसे टाल नहीं सकता था. बेकार के काम में समय बर्बाद करना एक एग्जीक्यूटिव के काम का जैसे एक हिस्सा होता है. इसलिए ज़्यादातर executives अपने डेली रूटीन में कम से कम समय देकर समय बचाने की कोशिश करते हैं. लेकिन ये तो unproductive होना हुआ ना. अगर आप प्रोडक्टिव बनना चाहते हैं तो आपको हर काम या एक्टिविटी के लिए ज़्यादा समय देना चाहिए और अगर आप अपने एम्प्लाइज के साथ एक अच्छा और मज़बूत रिश्ता बनाना चाहते हैं तो आपको उनसे बातचीत करने के लिए भी समय देना होगा. एक एग्जीक्यूटिव किसी भी बड़े आर्गेनाइजेशन में लीडर का रोल निभाता है और उसे कई इम्पोर्टेन्ट डिसिशन लेने पड़ते हैं. जल्दबाजी में लिया गया डिसिशन अक्सर गलत साबित होता है. आपको कई बार ऐसी प्रॉब्लम का सामना करना पड़ सकता है. ज़्यादातर एग्जीक्यूटिव इसके लिए पूरा टाइम लेते हैं. कमिटमेंट देने से पहले तो कई तार आउने टिमिशन के बार ऐसी प्रॉब्लम का सामना करना पड़ सकता है. ज़्यादातर एग्जीक्यूटिव इसके लिए पूरा टाइम लेते हैं. कमिटमेंट देने से पहले वो कई बार अपने डिसिशन के बारे में सोच विचार करते हैं. एल्फ्रेड पी. स्लोएन जूनियर सबसे बड़ी मैन्युफैक्चरिंग कंपनी जेनरल मोटर्स के कभी सीईओ हुआ करते थे. ऐसा कहा जाता है कि जब भी कोई प्रॉब्लम खड़ी होती तो एल्फ्रेड कभी भी तुरंत फैसला नहीं लेते थे. वो पहले टेस्ट करने के लिए एक solution लेकर आते थे. कुछ दिनों और हफ्तों के बाद वो दोबारा उस प्रॉब्लम को एनालाइज करते. अगर फ़िर से उनका डिसिशन वही होता तभी उसे अप्लाई किया जाता था वरना नहीं. इसी तरह एक दूसरे केस में, एक सीनियर एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर लंबे समय से गवर्नमेंट रिसर्च इंस्टिट्यूट में काम कर रहे थे. उन्होंने उस इंस्टिट्यूट में बहुत अच्छे से काम संभाला था लेकिन बाद में उनकी परफॉरमेंस ख़राब होने लगी. अब ना तो उन्हें काम से निकाला जा सकता था और ना ही उनकी मौजूदा पोजीशन से उन्हें नीचे की पोजीशन दी जा सकती थी क्योंकि कंपनी उनके सालों की सर्विस और वफ़ादारी को नज़रंदाज़ नहीं कर सकती थी. लेकिन क्योंकि वो एडमिनिस्ट्रेटिव पोजीशन पर थे तो कंपनी को उनके गलत फैसलों की भारी कीमत चुकानी पड़ रही थी. उस कंपनी के डायरेक्टर और deputy किसी प्रॉब्लम के बारे में सोच रहे थे लेकिन उसका कोई हल नहीं निकाल पाए. बाद में जब उन्होंने उस प्रॉब्लम के लिए ज़्यादा समय निकाला तो उन्हें उसका हल मिल गया. वो के बारे में सोच रहे थे लकिन उसका कोई हल नही निकाल पाए. बाद में जब उन्होंने उस प्रॉब्लम के लिए ज़्यादा समय निकाला तो उन्हें उसका हल मिल गया. वो इतना आसान सा उपाय था जिसने उन्हें आश्चर्यचकित कर दिया था कि उन्होंने पहले ऐसा क्यों नहीं सोचा. इसलिए एक आर्गेनाइजेशन में किसी भी बड़े डिसिशन को लेने से पहले एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव को उसे ज़्यादा टाइम देना चाहिए. अगर आप समय बचाना चाहते हैं तो उन चीज़ों को हटाएं जो समय बर्बाद करते हैं. पहला स्टेप ये पहचानना है कि सिस्टम की कमी के कारण कौन से काम समय बर्बाद करते हैं. बहुत सारे एम्प्लाइज को काम पर रखना, बहुत ज़्यादा मीटिंग बुलाना और गलत चीज़ों पर ध्यान फोकस करना बहुत समय बर्बाद करता है. हैरी हॉपकिंस (Harry Hopkins) वर्ल्ड वॉर 2 के दौरान प्रेसिडेंट रूज़वेल्ट के सलाहकार थे. पेट के कैंसर की वजह से उनकी हालत बिगड़ती जा रही थी इसलिए हॉपकिंस ने ज़्यादा इम्पोर्टेन्ट चीज़ों पर फोकस करने का फैसला किया. इसका नतीजा ये हुआ कि उन्होंने उस हालत में भी कंपनी से जुड़े हर इंसान से बढ़कर परफॉर्म किया था. अगर आप एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बनना चाहते हैं तो आपको अपने टाइम को अच्छे से मैनेज करना सीखना होगा. आपको बैठकर लिखना होगा कि आपका समय किन किन चीज़ों में लग रहा है. इस तरह आपको पता चलेगा कि कहाँ समय कम देने की ज़रुरत है और कहाँ ज़्यादा. … בש कर दिया था कि उन्होंने पहले ऐसा क्यों नहीं सोचा. इसलिए एक आर्गेनाइजेशन में किसी भी बड़े डिसिशन को लेने से पहले एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव को उसे ज़्यादा टाइम देना चाहिए. अगर आप समय बचाना चाहते हैं तो उन चीज़ों को हटाएं जो समय बर्बाद करते हैं. पहला स्टेप ये पहचानना है कि सिस्टम की कमी के कारण कौन से काम समय बर्बाद करते हैं. बहुत सारे एम्प्लाइज को काम पर रखना, बहुत ज़्यादा मीटिंग बुलाना और गलत चीज़ों पर ध्यान फोकस करना बहुत समय बर्बाद करता है. हैरी हॉपकिंस (Harry Hopkins ) वर्ल्ड वॉर 2 के दौरान प्रेसिडेंट रूज़वेल्ट के सलाहकार थे. पेट के कैंसर की वजह से उनकी हालत बिगड़ती जा रही थी इसलिए हॉपकिंस ने ज़्यादा इम्पोर्टेन्ट चीज़ों पर फोकस करने का फ़ैसला किया. इसका नतीजा ये हुआ कि उन्होंने उस हालत में भी कंपनी से जुड़े हर इंसान से बढ़कर परफॉर्म किया था. अगर आप एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बनना चाहते हैं तो आपको अपने टाइम को अच्छे से मैनेज करना सीखना होगा. आपको बैठकर लिखना होगा कि आपका समय किन किन चीज़ों में लग रहा है. इस तरह आपको पता चलेगा कि कहाँ समय कम देने की ज़रुरत है और कहाँ ज़्यादा. तभी आप ज़्यादा से ज़्यादा अचीव कर पाएँगे. A < The Effective Executive Peter Drucker WHAT CAN I CONTRIBUTE? एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव अपने आस पास देखकर ख़ुद से पूछता है, “मैं इस आर्गेनाइजेशन के फ़ायदे के लिए और क्या कर सकता हूँ?” कई executives अच्छा परफॉर्म करने में इसलिए फेल हो जाते हैं क्योंकि वो अपने एम्प्लाइज के रिजल्ट के बजाय अपने एफर्ट के बारे में ज़्यादा सोचने लगते हैं. उन्हें लगता है कि आर्गेनाइजेशन को उनका अहसानमंद होना चाहिए क्योंकि वही तो सब कुछ संभाल रहे हैं लेकिन ऐसे एग्जीक्यूटिव कभी किसी चीज़ की ज़िम्मेदारी नहीं लेते. एक बड़ी कंपनी के पब्लिकेशन डिपार्टमेंट में एक डायरेक्टर काम करते थे. वो कई सालों से उस कंपनी से जुड़े हुए थे. साइंस का बैकग्राउंड ना होने के बावजूद वो साइंटिफिक टॉपिक पर भी लिखा करते थे. लेकिन उनके काम की क्वालिटी इतनी अच्छी नहीं थी क्योंकि वो एक मंजे हुए अच्छे राइटर नहीं थे. उनके रिटायर होने के बाद एक प्रोफेशनल को काम पर रखा गया जो हाई क्वालिटी का काम कर रहा था. नए डायरेक्टर के आने से उस डिपार्टमेंट में बहुत कुछ इम्प्रूव हुआ था. पब्लिकेशन अब ज़्यादा प्रोफेशनल हो गया था लेकिन आश्चर्य की बात तो ये थी कि अब उनके टारगेट ऑडियंस ने उनका आर्टिकल पढ़ना बंद कर दिया था. एक साइंटिस्ट ने इसके जवाब में कहा कि उन्होंने पढना A < लाकन आश्चय का बात ता य था। अब उनकटारगट ऑडियंस ने उनका आर्टिकल पढ़ना बंद कर दिया था. एक साइंटिस्ट ने इसके जवाब में कहा कि उन्होंने पढ़ना इसलिए बंद किया क्योंकि अब आर्टिकल उन पर लिखे जा रहे थे. वो सभी उस पुराने डायरेक्टर को पसंद करते थे क्योंकि वो आर्टिकल उनके लिए लिखते थे. अब यहाँ पुराने डायरेक्टर इसलिए इफेक्टिव बने रहे क्योंकि वो लगातार ख़ुद से सवाल किया करते थे कि , “ज़्यादा से ज़्यादा लोग हमारे आर्टिकल को पढ़े इसके लिए मैं क्या कर सकता हूँ?” उन्हें एहसास हुआ कि जितने भी यंग साइंटिस्ट थे उन्हें उन सब में उनकी एजेंसी में काम की दिलचस्प को जगाना होगा. बस उसके बाद हर फ़ैसला इसी बात को ध्यान में रखकर लिया जाने लगा. उनका मानना था कि पब्लिकेशन की क्वालिटी मायने नहीं रखती इसके बजाय ज़्यादा साइंटिस्ट को उनकी एजेंसी में जॉब करने के लिए attract करना ज़्यादा मायने रखता है. जब आप ख़ुद से सवाल करते हैं कि आप अपनी तरफ़ से ज़्यादा से ज़्यादा क्या दे सकते हैं तो आप अपने अंदर छुपे हुए पोटेंशियल के बारे में जान पाते है. जो एग्जीक्यूटिव खुद से ये सवाल नहीं पूछता है तो उसका गोल भी बहुत छोटा होता है और उसका कंपनी में योगदान भी बहुत कम होता है. जब एक एग्जीक्यूटिव कंट्रीब्यूट करने पर फोकस करता है तो उससे कंपनी के लोगों पर भी असर पड़ता है. ऐसा ही एक एग्ज़ाम्पल तब सामने आया जब किसी हॉस्पिटल में एक नए एडमिनिस्ट्रेटर ने काम करना शुरू किया. पाटली . Tी. गान नटी न्या रा”|| जाना जाता IIMCIT एमा। एडमिनिस्ट्रेटर ने काम करना शुरू किया. पहली स्टाफ़ मीटिंग के दौरान एक बड़ी प्रॉब्लम जिसका वो सामना कर रहे थे उसके लिए एक डिसिशन लिया गया. तब एक नर्स ने पूछा, “क्या नर्स बेंडा इससे सहमत होंगी?” उसके बाद फ़िर से चर्चा शुरू हो गई. नए एडमिनिस्ट्रेटर को बाद में पता चला कि नर्स बेंडा ना तो किसी ऊँचे पोजीशन पर थीं और ना ही कोई ख़ास मेंबर थीं, वो तो औरों की तरह एक आम नर्स थी. लेकिन जो बात उन्हें आम से ख़ास बनाती थी वो ये थी कि वो हमेशा खुद से पूछती रहती थीं “क्या ये मेरे पेशेंट्स के लिए अच्छा होगा?” जिस वजह से उनके यूनिट के पेशेंट हमेशा जल्दी और बेहतर तरीके से ठीक हो जाते थे. ये देखकर वहाँ की हर नर्स अब इस बात को फॉलो करने लगी थी. वो सब भी ख़ुद से पूछने लगी थी, “क्या ये हमारे पेशेंट के लिए सबसे बेस्ट साबित होगा?” भले ही नर्स बेंडा को रिटायर हुए दस साल हो चुके थे, लेकिन उन्होंने हॉस्पिटल के स्टाफ़ के लिए एक मिसाल और हाई स्टैण्डर्ड सेट कर दिया था. जब हम अपनी तरफ से contribute करने का वादा कर लेते हैं तब हम ज़्यादा इफेक्टिव हो जाते हैं. आज executives इसलिए फेल हो रहे हैं क्योंकि वो बदलने के लिए तैयार नहीं हैं. जब उन्हें एक ऊँची पोजीशन पर प्रमोट कर दिया जाता है तब भी वो वही करते रहते हैं जो पहले कर रहे थे और वही उनके फेलियर का कारण बनता है. आज के दौर में, आर्गेनाइजेशन के लगभग हर इंसान आज के दौर में, आर्गेनाइजेशन के लगभग हर इंसान ने हायर एजुकेशन हासिल की है और वो काफ़ी नॉलेज भी रखते हैं. लेकिन इस नॉलेज को आईडिया और कांसेप्ट में बदलना हर किसी को नहीं आता. इफेक्टिव बनने के लिए, किसी एक एरिया में फोकस करना चाहिए और उसमें परफेक्ट होने की कोशिश करनी चाहिए. अगर आप चाहते हैं कि आपको काबिल और इफेक्टिव कहा जाए तो आपको अच्छे रिजल्ट देने होंगे, जो सिर्फ नॉलेज को अप्लाई करने से ही पाया जा सकता है. कई executives अपने जूनियर्स के साथ अच्छे से पेश नहीं आते हैं जिनमें एल्फ्रेड स्लोएन भी शामिल हैं लेकिन इसके बावजूद उनके एम्प्लाइज उन्हें बहुत सम्मान और अहमियत देते थे. इसका कारण ये था कि उन्हें भी कंपनी का इम्पोर्टेन्ट हिस्सा माना जाता था. नीचे लेवल पर काम करने के बावजूद उन्हें बड़े डिसिशन लेते वक़्त शामिल किया जाता था. एल्फ्रेड इन फैसलों को लेने में वक़्त ज़रूर लगाते थे लेकिन उनके डिसिशन हमेशा अच्छे और सही साबित हुए क्योंकि वो हर एक की भलाई को ध्यान में रखकर डिसिशन लेते थे. अगर आज आप एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बनना चाहते हैं तो नीचे के लेवल से लेकर टॉप लेवल तक अच्छे कम्युनिकेशन सिस्टम को बनाने पर ध्यान दें. अगला स्टेप है टीमवर्क को बढ़ावा देना. उसके बाद आप ख़ुद को और दूसरों को डेवलप करने पर फोकस करें. हमेशा बडे और इम्पोर्टेन्ट डिसिशन सोच समझकर चाहिए और उसमें परफेक्ट होने की कोशिश करनी चाहिए. अगर आप चाहते हैं कि आपको काबिल और इफेक्टिव कहा जाए तो आपको अच्छे रिजल्ट देने होंगे, जो सिर्फ नॉलेज को अप्लाई करने से ही पाया जा सकता है. कई executives अपने जूनियर्स के साथ अच्छे से पेश नहीं आते हैं जिनमें एल्फ्रेड स्लोएन भी शामिल हैं लेकिन इसके बावजूद उनके एम्प्लाइज उन्हें बहुत सम्मान और अहमियत देते थे. इसका कारण ये था कि उन्हें भी कंपनी का इम्पोर्टेन्ट हिस्सा माना जाता था. नीचे लेवल पर काम करने के बावजूद उन्हें बड़े डिसिशन लेते वक़्त शामिल किया जाता था. एल्फ्रेड इन फैसलों को लेने में वक़्त ज़रूर लगाते थे लेकिन उनके डिसिशन हमेशा अच्छे और सही साबित हुए क्योंकि वो हर एक की भलाई को ध्यान में रखकर डिसिशन लेते थे. अगर आज आप एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बनना चाहते हैं तो नीचे के लेवल से लेकर टॉप लेवल तक अच्छे कम्युनिकेशन सिस्टम को बनाने पर ध्यान दें. अगला स्टेप है टीमवर्क को बढ़ावा देना. उसके बाद आप खुद को और दूसरों को डेवलप करने पर फोकस करें. हमेशा बड़े और इम्पोर्टेन्ट डिसिशन सोच समझकर लें, उसे थोड़ा एक्स्ट्रा समय दें और हमेशा ऐसे तरीकों के बारे में सोचें जो चीज़ों को पहले से बेहतर बना सके. The Effective Executive Peter Drucker MAKING STRENGTH PRODUCTIVE अगर हम कमजोरियों पर ध्यान देंगे तो कभी कुछ अचीव नहीं कर पाएँगे. एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव आर्गेनाइजेशन में नीचे से लेकर टॉप मैनेजमेंट तक की ताकत पर फोकस करता है. उसके बाद वो आर्गेनाइजेशन की ग्रोथ के लिए उस ताकत को यूज़ करने के बारे में सोचता है. वो जानता है कि कंपनी में जो लोग प्रमोशन पाने के लायक हैं वही कंपनी की असली ताकत हैं. प्रेसिडेंट लिंकन केंटकी में पले-बढ़े थे जहां उन्होंने शराब से होने वाले बुरे असर को बहुत क़रीब से देखा था. अमेरिकन सिविल वॉर के दौरान उन्होंने ऐसे generals को सिलेक्ट किया था जो किसी तरह का नशा नहीं करते थे. हालांकि ये जेनरल काबिल थे लेकिन वो अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाए क्योंकि उनमें वो कांफिडेंस और पक्का इरादा नहीं था. इसका नतीजा ये हुआ कि काबिल ऑफिसर्स होने के बावजूद, अमेरिका के northern स्टेट्स तीन सालों तक जंग हारते चले गए. अंत में प्रेसिडेंट लिंकन ने जेनरल ग्रांट को सिलेक्ट किया. हालांकि वो हमेशा शराब के नशे में रहते थे, उन्होंने योजना बनाने में और आर्मी को लीड करने में अपनी काबिलियत को साबित किया था. इसके कारण, अमेरिका के northern स्टेटस सारथ के स्टेटस के आज के दौर में, आर्गेनाइजेशन के लगभग हर इंसान ने हायर एजुकेशन हासिल की है और वो काफ़ी नॉलेज भी रखते हैं. लेकिन इस नॉलेज को आईडिया और कांसेप्ट में बदलना हर किसी को नहीं आता. इफेक्टिव बनने के लिए, किसी एक एरिया में फोकस करना चाहिए और उसमें परफेक्ट होने की कोशिश करनी चाहिए. अगर आप चाहते हैं कि आपको काबिल और इफेक्टिव कहा जाए तो आपको अच्छे रिजल्ट देने होंगे, जो सिर्फ नॉलेज को अप्लाई करने से ही पाया जा सकता है. कई executives अपने जूनियर्स के साथ अच्छे से पेश नहीं आते हैं जिनमें एल्फ्रेड स्लोएन भी शामिल हैं लेकिन इसके बावजूद उनके एम्प्लाइज उन्हें बहुत सम्मान और अहमियत देते थे. इसका कारण ये था कि उन्हें भी कंपनी का इम्पोर्टेन्ट हिस्सा माना जाता था. नीचे लेवल पर काम करने के बावजूद उन्हें बड़े डिसिशन लेते वक़्त शामिल किया जाता था. एल्फ्रेड इन फैसलों को लेने में वक़्त ज़रूर लगाते थे लेकिन उनके डिसिशन हमेशा अच्छे और सही साबित हुए क्योंकि वो हर एक की भलाई को ध्यान में रखकर डिसिशन लेते थे. अगर आज आप एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बनना चाहते हैं तो नीचे के लेवल से लेकर टॉप लेवल तक अच्छे कम्युनिकेशन सिस्टम को बनाने पर ध्यान दें. अगला स्टेप है टीमवर्क को बढ़ावा देना. उसके बाद आप ख़ुद को और दूसरों को डेवलप करने पर फोकस करें. हमेशा बडे और इम्पोर्टेन्ट डिसिशन सोच समझकर A< शात स्वभाव क य लाकन इस बात का सुनकर वा जाप से बाहर हो गए. बाद में जब उनका गुस्सा शांत हुआ तो उनकी टीम के एक मेंबर ने उस जवान को निकालने की बात कही. जेनरल ली उसकी बात सुनकर बहुत हैरान हुए. उन्होंने कहा कि वो अच्छा परफॉर्म करता है, बहुत काबिल है इसलिए उसे निकाला नहीं जा सकता. इसलिए एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव अच्छे से जानता है कि उसके नीचे काम करने वाले एम्प्लोयी का काम अपना काम ठीक से करना होता है ना की अपने बॉस को खुश करना. तो आप ख़ुद को इफेक्टिव कैसे बना सकते हैं? हर कोई यही शिकायत करने में बिजी है कि वो क्या नहीं बदल सकते. वो इस बात पर फोकस बनाए रखते हैं कि उनकी कंपनी, गवर्नमेंट वगैरह उन्हें क्या नहीं करने दे रही है. लेकिन एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव शिकायत नहीं करता बल्कि इस बात पर ध्यान देता है कि वो क्या कर सकता है. अपनी ताकत को प्रोडक्टिव बनाने का बस यही एक तरीका है. एक एग्जीक्यूटिव का सबसे इम्पोर्टेन्ट काम होता है अपने साथ वालों की ताकत और खूबियों को पूरी तरह से इस्तेमाल करना. बॉस को मैनेज करना बहुत आसान है लेकिन सिर्फ एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव जानता है कि ये कैसे करना है. अपने बॉस की ताकत को सामने लेकर आएं. आपको समझना होगा कि हम सब गलतियां करते हैं और इसमें कोई बड़ी बात नहीं है. अगर आप सिर्फ उनकी गलतियों को देखेंगे तो आप निराश होते जाएँगे. उनकी खूबियों पर ध्यान देना और यता गटालाना सीतें दम करत यात मागिर -।। ” अपने साथ वालों की ताकत और खूबियों को पूरी तरह से इस्तेमाल करना. बॉस को मैनेज करना बहुत आसान है लेकिन सिर्फ एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव जानता है कि ये कैसे करना है. अपने बॉस की ताकत को सामने लेकर आएं. आपको समझना होगा कि हम सब गलतियां करते हैं और इसमें कोई बड़ी बात नहीं है. अगर आप सिर्फ उनकी गलतियों को देखेंगे तो आप निराश होते जाएँगे. उनकी खूबियों पर ध्यान देना और उसका फ़ायदा उठाना सीखें. इस तरह आपके सुपीरियर को लगेगा कि वो भी अपना योगदान दे रहे हैं. इस तरह वो और ज़्यादा कंट्रीब्यूट करना चाहेंगे और इसी में जीत छुपी होती है. अगर आपके सुपीरियर को पॉलिटिक्स का अच्छा नॉलेज है तो पॉलिटिक्स से रिलेटेड कोई भी प्रॉब्लम आने पर उनसे मदद लें ताकि वो नई और अच्छी policy या solution के बारे में बता सकें. अंत में याद रखें कि एक इंसान की कमियाँ उसकी खूबियों की बराबरी कभी नहीं कर सकती. अगर आप लोगों की ताकत पर फोकस करेंगे तभी आप इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बन पाएँगे. इसके अलावा अपनी पूरी एनर्जी को इस बात पर लगाएं कि आप क्या कर सकते हैं, जो नहीं कर सकते उस पर टाइम waste ना करें. हमेशा याद रखें कि आप तभी अच्छे एग्जीक्यूटिव कहलाएँगे जब आप अपने सुपीरियर और एम्प्लाइज की कमियों को देखने के बजाय उनकी ताकत का इस्तेमाल करेंगे. टेलीफोन सिस्टम को प्राइवेट सेक्टर में बने रहना है तो उन्हें सोच समझकर क्लियर डिसिशन लेने होंगे. यूरोप में टेलीफोन सिस्टम गवर्नमेंट के अधिकार में था और वो भी अच्छे से काम कर रहा था. अमेरिकन गवर्नमेंट के खिलाफ़ जाना बिलकुल मिशन इम्पॉसिबल जैसा था. लेकिन वेल समझ गए थे कि कंपनी को मार्केट में बने रहने के लिए उन्हें पब्लिक के लिए कुछ ऐसा करना होगा जो गवर्नमेंट भी उनके लिए ना कर सके. इसलिए उन्होंने फ़ैसला किया कि वो एक ओर अपना पूरा फोकस कस्टमर पर रखकर उन्हें पूरी तरह संतुष्ट करेंगे और दूसरी ओर प्रॉफिट भी कमाएंगे. लेकिन वेल ने इस बात का पूरा ध्यान रखा कि वो अपनी अच्छी सर्विस के बारे में झूठे और खोखले वादे नहीं देंगे बल्कि उसे सच में डिलीवर भी करेंगे. वेल को ये भी पता था कि गवर्नमेंट ने policy के ज़रिए इस बात का ध्यान रखा था कि टेलीफोन सिस्टम पूरी तरह से फ्री इंडस्ट्री ना बन सके. उन्होंने इस बात का भी पूरा ध्यान रखा कि वो पूरी इमानदारी और सच्चाई से काम करें ताकि उनकी कंपनी मार्केट से गायब ना हो जाए. वेल का दूसरा बड़ा डिसिशन था ये देखना कि हर एरिया में हर मैनेजर का मेन काम पब्लिक और कंपनी की भलाई के लिए अच्छी policy लेकर आना और उसे आगे बढ़ाना होना चाहिए. वेल खुद से पूछते रहते थे “हम कंपनी को डायनामिक और मार्केट में बराबरी की टक्कर देने वाली कंपनी बनाने के लिए क्या कर सकते हैं?” वो जानते थे कि बिना competition के सकते हैं?” वो जानते थे कि बिना competition के कंपनी ग्रो नहीं कर पाएगी और इसका solution था अच्छे और बेहतर टेक्नोलॉजी को लेकर आना. इससे Bell laboratories की शुरुआत हुई जो आगे चलकर सबसे सक्सेसफुल इंडस्ट्री में से एक बनी. लेकिन ऐसा नहीं था कि ये मार्केट में एक इकलौती कंपनी थी जिसने फ्यूचर टेक्नोलॉजी में इंवेस्ट किया था. Bell laboratories इसलिए कामयाब हुई क्योंकि वहाँ की टीम समझती थी कि नई टेक्नोलॉजी सिर्फ तभी टिक सकती है जब उसके आगे मौजूदा टेक्नोलॉजी पुरानी और बेकार लगने लगे. जब वर्ल्ड वॉर ] का समय आया तब बेल सिस्टम ने वेल की इनोवेशन policy के कारण बहुत बड़ा प्रॉफिट कमाया. उनका अगला सबसे इम्पोर्टेन्ट डिसिशन था कैपिटल मार्केट के बारे में. अगर कोई कंपनी इन्वेस्टमेंट attract नहीं कर पाती है तो वो फेल हो जाती है. इसलिए वेल कंपनी के लिए बड़ा इन्वेस्टमेंट attract करना चाहते थे. वो AT&T का प्लान लेकर आए जिसने मिडिल क्लास के इन्वेस्टर्स का ध्यान खींचना शुरू किया. मिडिल क्लास इन्वेस्टर्स इंवेस्ट करने के लिए छोटा अमाउंट अलग रखते थे. अपने प्लान में उन्होंने इन्वेस्टर्स से वादा किया कि उनके इंवेस्टमेंट की वैल्यू कभी कम नहीं होगी. इसलिए जब डिसिशन लेने की बात आती है तो एक एग्जीक्यूटिव को उस प्रॉब्लम के नेचर को समझना चाहिए और पलना चाहिए “क्या ये एक आम समस्या क्योंकि वहाँ की टीम समझती थी कि नई टेक्नोलॉजी सिर्फ तभी टिक सकती है जब उसके आगे मौजूदा टेक्नोलॉजी पुरानी और बेकार लगने लगे. जब वर्ल्ड वॉर ] का समय आया तब बेल सिस्टम ने वेल की इनोवेशन policy के कारण बहुत बड़ा प्रॉफिट कमाया. उनका अगला सबसे इम्पोर्टेन्ट डिसिशन था कैपिटल मार्केट के बारे में. अगर कोई कंपनी इन्वेस्टमेंट attract नहीं कर पाती है तो वो फेल हो जाती है. इसलिए वेल कंपनी के लिए बड़ा इन्वेस्टमेंट attract करना चाहते थे. वो AT&T का प्लान लेकर आए जिसने मिडिल क्लास के इन्वेस्टर्स का ध्यान खींचना शुरू किया. मिडिल क्लास इन्वेस्टर्स इंवेस्ट करने के लिए छोटा अमाउंट अलग रखते थे. अपने प्लान में उन्होंने इन्वेस्टर्स से वादा किया कि उनके इंवेस्टमेंट की वैल्यू कभी कम नहीं होगी. इसलिए जब डिसिशन लेने की बात आती है तो एक एग्जीक्यूटिव को उस प्रॉब्लम के नेचर को समझना चाहिए और पूछना चाहिए “क्या ये एक आम समस्या है?” उसके बाद ही आप उसका सबसे अच्छा और सटीक solution ढूंढ पाएँगे. एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव फ़ीडबैक लेने के लिए भी तैयार रहता है क्योंकि तभी वो जान सकता है कि कंपनी के गोल्स असल में अचीव हुए या नहीं. The Effective Executive Peter Drucker FIRST THING FIRST इम्पोर्टेन्ट चीज़ों को पहले करना, सही समय पर करना और एक समय में एक ही काम करना इफेक्टिव बनने का सीक्रेट होता है. इसका कारण ये है कि आपको रिजल्ट अचीव करने की ज़िम्मेदारी सौंपी जाती है जिसके लिए आपको ज़्यादा वक़्त नहीं दिया जाता. एक एग्जीक्यूटिव जो हमेशा ज़्यादा कंट्रीब्यूट करने के लिए तैयार रहता है और अपने आस पास के लोगों की ताकत पर फोकस कर उसका भरपूर फ़ायदा उठाता है, वो कम समय में भी बहुत ज़्यादा अचीव कर लेता है. काम को ठीक से पूरा करने के लिए कंसंट्रेशन की ज़रुरत होती है. एक सीईओ थे जिन्होंने इस कांसेप्ट को फॉलो किया और उन्हें इसका ज़बरदस्त रिजल्ट मिला. जब उन्होंने एक फार्मास्यूटिकल कंपनी के लिए काम करना शुरू किया था उस वक़्त वो कंपनी काफ़ी छोटी थी और सिर्फ एक ही देश में अपना प्रोडक्ट बेचती थी. लेकिन जब तक वो रिटायर हुए तब कंपनी ग्लोबल लेवल पर ऑपरेट करने लगी थी और दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी में से एक बन गई थी. हालांकि, वो सीईओ कोई साइंटिस्ट नहीं थे, लेकिन हालांकि, वो सीईओ कोई साइंटिस्ट नहीं थे, लेकिन उन्होंने अपने ढंग से बहुत अच्छा रिसर्च किया था. उन्होंने जॉब के पहले कुछ सालों में कंपनी के लिए ज़रूरी हर पहलू पर बहुत रिसर्च किया था. वो जानते थे कि ग्रो करने का एक ही रास्ता है जो है काम को अलग और यूनिक तरीके से करना. उन्होंने देखा कि गवर्नमेंट और हेल्थ सेक्टर देश में दवाओं की खपत के बारे में जानकारी देते थे. सक्सेसफुल होने का एक ही तरीका था जो था सही समय का इंतज़ार करना. इसलिए जब गवर्नमेंट ने हेल्थ सेक्टर में बड़े बदलावों को लागू किया तब कंपनी ने इंडस्ट्री में एंट्री की. इस तरह, कंपनी उन देशों में बड़ी शुरुआत कर पाई जो उनके बारे में नहीं जानते थे और उन्हें पहले से जमी जमाई किसी कंपनी का मुकाबला भी नहीं करना पड़ा. उसके बाद सीईओ ने उस स्ट्रेटेजी पर फोकस करना शुरू किया जो मॉडर्न हेल्थ की कमियों को पूरा कर सके. उन्होंने एक प्लान बनाया जिसमें बताया गया था कि किसी भी पेशेंट के हॉस्पिटल का बिल insurance कंपनी भरेगी लेकिन पेशेंट को आप्शन दिया गया कि वो अपनी मर्जी से चुन सकते थे कि वो किस तरह की देखभाल चाहते हैं. कई गवर्नमेंट और नॉन गवर्नमेंट आर्गेनाइजेशन इस technique को फॉलो करते हैं. – 1 TIIIT नीईओ माई – फाला करत ह. बहुत कम समय में सीईओ ने कंपनी का स्टैण्डर्ड बहुत ऊँचा कर दिया था. कई लोगों ने उनकी दूर की सोच को कम आंका था क्योंकि ज़्यादातर लोगों को लगता है कि ऐसी चीजें अचीव करने में बहुत समय लग जाता है और यही कारण है कि ज़्यादातर लोग चीज़ों को इफेक्टिव ढंग से नहीं कर पाते हैं. वो उस टाइम फ्रेम को देखते रहते हैं जो उनके पास है और बस मान लेते हैं कि ये काम अचीव करना तो इम्पॉसिबल है. इफेक्टिव होने लिए आपको उन पुरानी स्ट्रेटेजीज से छुटकारा पाना होगा जो अब प्रोडक्टिव नहीं रहे. इसमें उन पैसों की कटौती करना भी शामिल है जिसे गलत जगहों पर इंवेस्ट किया जा रहा है. कल की सक्सेस हमेशा के लिए नहीं बनी रहेगी. इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बहुत अच्छे से समझते हैं कि इस सक्सेस को मेन्टेन करने के लिए उन्हें नई स्ट्रेटेजीज डेवलप करते रहना होगा. काम का सिलसिला, opportunity का आना और मुश्किलों का खड़े हो जाना कभी बंद नहीं होगा. इसलिए इफेक्टिव तरीके से सब कुछ मैनेज करने के लिए एक एग्जीक्यूटिव को इन सभी चीज़ों को एनालाइज कर डिसाइड करना चाहिए कि अभी क्या करना बेहतर होगा और वो कौन सा काम है जो बाद में भी किया जा सकता है क्योंकि हर काम को परा करने के लिए आपके पास हमेशा वक्त All Done? Finished पूरा करने के लिए आपके पास हमेशा वक़्त की कमी होगी. इसका ये मतलब नहीं है कि आप काम कल पर टालते रहे क्योंकि ये सिर्फ़ आने वाले कल के लिए और ज़्यादा प्रॉब्लम क्रिएट करता है. आपको काम को इम्पोर्टेस के हिसाब से डिवाइड करने के लिए ये समझना होगा कि फ्यूचर अतीत से बिलकुल opposite होता है. प्रॉब्लम को प्रॉब्लम ना समझकर उसे बदलाव करने के मौके के रूप में देखें. अगला स्टेप है एक अलग रास्ता अपनाना यानी अपना ख़ुद का रास्ता बनाना और उस रास्ते पर अंधाधुन नहीं चलना जिस पर हज़ारों लोग चल रहे हैं. फाइनल स्टेप है क्लियर गोल सेट करना, वो आपको बड़ी सक्सेस हासिल करने में मदद करते हैं. कन्क्लूज़न तो आपने सीखा कि एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बनने के लिए आपको अपने टाइम की कीमत समझनी होगी. प्लानिंग के बिना आप कोई भी काम पूरा नहीं कर सकते. एक एग्जीक्यूटिव के रूप में काम के साथ-साथ आपको अपने एम्प्लाइज के साथ मज़बूत और अच्छे रिलेशन बनाने के लिए भी समय देना होगा. आपने ये भी जाना कि एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव हमेशा ख़ुद से सवाल करता है कि “मैं क्या कंट्रीब्यूट कर सकता हूँ?” इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव दूसरों की ताकत को अच्छे से All Done? Finished रिलेशन बनाने के लिए भी समय देना होगा. आपने ये भी जाना कि एक इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव हमेशा ख़ुद से सवाल करता है कि “मैं क्या कंट्रीब्यूट कर सकता हूँ?” इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव दूसरों की ताकत को अच्छे से यूज़ करना जानता है. अंत में आपने ये भी समझा कि executives को काम पूरा करने के लिए ज़्यादा समय नहीं मिलता. आपको काम को उनकी इम्पोर्टेस के हिसाब से बांटना सीखना होगा कि कौन सा काम अभी करना ज़रूरी है और कौन सा काम बाद के लिए छोड़ा जा सकता है. इफेक्टिव एग्जीक्यूटिव बनना एक कला है जिसे कोई भी सीख सकता है. हिस्ट्री के हर जाने माने अच्छे एग्जीक्यूटिव ने अपने मुकाम तक पहुँचने के लिए इन आसान से स्टेप्स को प्रैक्टिस कर उसे अप्लाई किया है. आप भी इन्हें अपनाकर अपनी कंपनी को एक नई ऊँचाई पर ले जा सकते हैं. बस ख़ुद पर यकीन करें, अपना कांफिडेंस बनाए रखें, ज़्यादा सीखने के लिए अपनी सोच को बड़ा करें क्योंकि सीखने की कोई सीमा नहीं होती और अंत में आप ज़रूर सक्सेसफुल होंगे.

Leave a Reply