The Creator’s Code: The Six Essential Skills of… Amy Wilkinson Books In Hindi Summary Pdf

The Creator’s Code:
The Six Essential Skills of…
Amy Wilkinson
इंट्रोडक्शन
क्या आप एक एक्स्ट्राऑर्डिनरी इंटरप्रेन्योर बनना चाहते
है?
क्या आप अपने ब्रैंड को पूरी दुनिया में सक्सेसफुल
बनाना चाहते हैं?
तो, आपको क्रिएटर्ज़ कोड सीखना होगा.
आप इस समरी में दी गई 5 ख़ास स्किल सीख सकते
पहला, गैप ढूँढना.
दूसरा, दिन के उजाले के लिए ड्राइव करो.
तीसरा, OODA लूप उड़ाओ.
चौथा, समझदारी से हारो.
पाँचवा, छोटी छोटी चीज़े गिफ्ट करो.
इन entrepreneurs की सक्सेस की कहानियों
से आप इन सभी कॉन्सेप्ट्स को समझेंगे और अपने
गोल्स के करीब पहुंचेंगे.
Find the Gap
क्रिएटर्स में कुछ जानने की इच्छा और समझ होती

क्रिएटर्स में कुछ जानने की इच्छा और समझ होती
है जिससे वो ऐसे गैप को देख सकते है, जिन्हें
भरने की ज़रुरत है. वो हमेशा सवाल पूछते है और
जवाब ढूंढते है. क्रिएटर्स हमेशा ये गैप तीन तरह
से भरते है. ऑथर इन्हें सनबर्ड्स (sunbirds),
आर्किटेक्ट्स (architects) और integrators
(integrators) कहते है.
सनबर्ड वो लोग है, जो एक जगह से सोल्यूशन लेकर
दूसरी जगह पर अप्लाई करते है.
आर्किटेक्ट वो लोग है, जो प्रॉब्लम देखकर, उसका
सोल्यूशन खुद शुरुआत से बनाते है. आर्किटेक्ट्स शुरू
से लेकर अंत तक सब कुछ खुद बनाते है, जबकि
सनबर्ड्स दूसरी जगह से inspiration लेते है.
इंटीग्रेटर कई मौजूदा कॉन्सेप्ट को एक दूसरे के साथ
मिलाते है. अक्सर, वो opposite आइडियाज
को एक दूसरे के साथ जोड़कर कुछ नया बनाते है.
integrators अलग अलग इनग्रीडीएंट्स को
मिलाते है.
स्टीव एल्स जाने माने मेक्सिकन रेस्टोरेंट Chipotle
के फाउंडर हैं. वो बोल्डर, Colorado में बड़े हुए थे.
जब स्टीव बच्चे थे तो वो बाकी बच्चों की तरह कार्टून
नहीं देखते थे बल्कि उन्हें कुकिंग शोज़ देखना पसंद था.
कॉलेज के बाद, वो न्यू यॉर्क के कलिनरी इंस्टिट्यूट

कॉलेज के बाद, वो न्यू यॉर्क के कलिनरी इंस्टिट्यूट
ऑफ़ अमेरिका में पढ़े. स्टीव ने वहाँ बहुत कुछ सीखा,
ये उनके लिए बेहद मज़ेदार एक्सपीरियंस रहा था. फिर
वो सैन फ्रांसिस्को में एक रेस्टोरेंट में काम करने लगे.
छूती के दिन, स्टीव बहार जाकर मेक्सिकन खाना खाते
थे. वहाँ उन्हें अलग-अलग मसालों और खाने के चीज़ों
की खुशबु बहुत अच्छी लगती थी. एक दिन, उन्होंने
taqueria के बाहर बहुत लंबी लाइन देखी. वहाँ
बहुत ही टेस्टी, फ्रेश और गर्मागर्म खाना सर्व किया जा
रहा था. इतनी लम्बी लाइन देखकर स्टीव को लगा कि
taqueria की अच्छी कमाई होती होगी. इससे उन्हें
अपना रेस्टोरेंट शुरू करने की inspiration मिली.
कुछ हफ्तों बाद वो वापस Colorado गए और अपने
पहले रेस्टोरेंट के लिए जगह ढूंढी. उन्होंने एक महीने के
रेंट के लिए $750 दिए, वो जगह 850 sq. फीट बड़ी
थी. इस तरह पहला Chipotle 1993 में खुला.
स्टीव एक फ़ास्ट फूड चेन बनाना चाहते थे, जो असल
में फ़ास्ट फूड से उल्टा मतलब रखता हो. वो खाने
की quality में किसी तरह की कमी या समझौता
नहीं करना चाहते थे. उन्होंने बेस्ट quality के
इनग्रीडीएंट्स चुने जो जल्दी और कम कीमत में मिले
थे.
बाकी फ़ास्ट फूड की तरह Chipotle में खाना बनाने
की technique मशीनी नहीं है इसका मतलब

पापा HINCInepali
की technique मशीनी नहीं है इसका मतलब
है कि वहाँ प्याज़ को किसी मशीन से नहीं बल्कि
employees खुद अपने हाथों से काटते हैं. ऐसा
इसलिए क्योंकि मशीन प्याज़ में से नमी हटा देता है.
Chipotle में काम करने वाले खुले किचन में काम
करते है, ताकि, कस्टमर उन्हें देख सके. स्टीव ने कहा
की वो चाहते थे कि लोग देखे कि वो ताज़े एवोकैडो से
गुआकामोल बनाते है.
गर्म, ताज़ा, healthy, टेस्टी, सस्ता और कस्टमर्स
को फ़टाफ़ट खाना सर्व करना, ये है Chipotle की
ख़ासियत . जहां बाकी फ़ास्ट फ़ूड में सब कुछ प्रोसेस
किया जाता है या दिबा बंद टिन का सामान इस्तेमाल
किया जाता है वहीँ Chipotle में सब शुरू से
बिल्कुल ताज़ा बनाया जाता है. इसके बावजूद उन्हें
खाना सर्व करने में देर नहीं होती.
Chipotle मेनू में बहुत लिमिटेड आइटम हैं जैसे –
बरिटो, टैको, सलाद और बरिटो bowl. Chipotle
बर्गर, कॉफ़ी या कूकीज़ नहीं बनाते पर स्टीव का ये
गोल है कि वो दुनिया के सबसे बेहतरीन और टेस्टी
बरिटो बनाने वाला ब्रांड बनें.
स्टीव का मंत्र है “ईमानदारी के साथ खाना बनाना और
सर्व करना”. निमन रेंच, उनके सप्लायर्स में से है, जो
सैन फ्रांसिस्को के पास है. निमन रेंच अपने किसी भी

बर्गर, कॉफ़ी या कूकीज़ नहीं बनाते पर स्टीव का ये
गोल है कि वो दुनिया के सबसे बेहतरीन और टेस्टी
बरिटो बनाने वाला ब्रांड बनें.
स्टीव का मंत्र है “ईमानदारी के साथ खाना बनाना और
सर्व करना”. निमन रेंच, उनके सप्लायर्स में से है, जो
सैन फ्रांसिस्को के पास है. निमन रेंच अपने किसी भी
जानवर या पौधों पर कोई एंटीबायोटिक, पेस्टिसाइड या
ग्रोथ hormone इस्तेमाल नहीं करते. सभी चिकन,
पोर्क और बीफ फ्री रेंज है और सभी फल और सब्जियां
ऑर्गेनिक है.
स्टीव का मानना है कि healthy और हाई quality
के इनग्रीडीएंट्स सिर्फ अच्छे और हाई एंड रेस्टोरेंट्स
को नहीं मिलने चाहिए. वो कहते है कि सस्ता और
healthy खाना सबको मिलना चाहिए.
स्टीव ये भी कहते है कि, उन्होंने फ़ास्ट फूड रेस्टोरेंट
शुरू तो कर लिया था , पर उन्हें फास्ट फूड के रूल्स
के बारे में कुछ पता नहीं था. वो एक integrator
हैं जिन्होंने कई अलग-अलग तरह के opposite
कांसेप्ट को एक साथ मिक्स कर दिया था. इसका
नतीजा ये निकला कि Chipotle के फूड quality
को बहुत बड़ी सक्सेस मिली. इस कंपनी की वैल्यू
करीबन $3.6 बिलियन है.

The Creator’s Code:
The Six Essential Skills of…
Amy Wilkinson
Drive for Daylight
रेस कार के ड्राइवर अपनी स्पीड को 200 miles/
घंटा कैसे रखते है? उनका ध्यान खिंची हुई लकीरों पर
नहीं होता, न ही दूसरे ड्राइवर्स से आगे रहने में होता है.
उनका ध्यान मंज़िल पर होता है.
क्रिएटर्स रेस कार ड्राइवर की तरह ही होते है. क्रिएटर्स
अपने लॉन्ग टर्म गोल्स को ध्यान में रखते हुए अपने
शोर्ट टर्म प्रॉब्लम को सुलझाते है. वो अपने ध्यान को
लेज़र की तरह तेज़ रखकर काम करते है. क्रिएटर्स
अपनी तुलना दूसरी कंपनियों के साथ नहीं करते और
उन्हें इंडस्ट्री के रूल्स या प्रिंसिप्ल से भी कोई लेना देना
नहीं होता है.
क्रिएटर्स सब काम जल्दी निपटाते है और उनका ध्यान
हमेशा आगे की ओर रहता है.
हम्दी उलुकाया चोबानी नाम के बिलियन डॉलर दही
ब्रांड के फाउंडर हैं. वो 1994 में यूनाइटेड स्टेट्स आए
थे. वो असल में टर्की के नार्थ ईस्टर्न हिस्से से हैं.
हम्दी न्यू यॉर्क में बिज़नस पढ़ने आए थे, पर जल्द
ही उन्हें लगने लगा कि ये जगह उनके लिए नहीं थी. वो

हम्दी न्यू यॉर्क में बिज़नस पढ़ने आए थे, पर जल्द
ही उन्हें लगने लगा कि ये जगह उनके लिए नहीं थी. वो
अपने आप को Dairy Boy बताते है. उन्होंने खेत में
काम करने के लिए पढ़ाई छोड़ डी और गाँव की तरफ
आ गए.
2002 में उन्होंने फेटा चीज़ बनाना शुरू किया और
रेस्टोरेंट और फूड स्टोर में बेचने लगे.
एक दिन उन्होंने एक ओल्ड क्राफ्ट फूड्स नाम के दही
बनाने वाले प्लांट को बेचने का ऐड देखा. उसमें सभी
तरह की मशीन लगी हुई थी पर वो 80 सालों से भी
पुराना था. पहले तो हम्दी ने उस ad का कागज़ फेंक
दिया पर कुछ मिनटों बाद उन्होंने उसे कचरे के डब्बे
में से उठाया और उस दही बनाने प्लांट को देखने चल
दिए, जो न्यू यॉर्क से 200 मील दूर था.
वहाँ पहुंचकर उन्होंने देखा कि उस जगह की हालत
काफ़ी ख़स्ता हो चुकी थी. वहाँ छत से पानी टपक
रहा था और दीवारों से पेंट की पपड़ियाँ उखड रही थीं.
पुराने मशीनों को सफाई और रिपेयर की ज़रुरत
हम्दी के पास इस जगह को ना खरीदने के बहुत सारे
कारण थे, पर उनका मन कह रहा थे कि उसे खरीदा
जाए.
हम्दी का प्लान था ऐसा लो-फैट, हाई-प्रोटीन ग्रीक
दही बनाना जो यूनाइटेड स्टेट्स के किसी भी और ब्रैंड
n

हम्दी का प्लान था ऐसा लो-फैट, हाई-प्रोटीन ग्रीक
दही बनाना जो यूनाइटेड स्टेट्स के किसी भी और बैंड
से बेहतर हो. उन्होंने सोचा कि अमेरिकन दही बहुत
मीठा, पतला और preservative से भरा होता है.
वो गाढ़ा और खट्टा दही बनाना चाहते थे, जैसा उनकी
माँ टर्की में बनाती थी.
उन्होंने एक अलग किस्म का पैकेजिंग डिज़ाइन किया,
जिस पर लोगों की नज़र तुरंत पड़े. हम्दी ने दही के
कप को ज़्यादा छोटा और ज्यादा गोल बनाया था.
इसके बाद उन्होंने कप के साइड और उपर अपने ब्रांड
का logo लगाया.
हम्दी ने कहा, “ कुछ दिन, आपको खुद पर यकीन
होता है कि आपका प्रोडक्ट धमाल करने वाला है,
लेकिन अगले ही दिन कोई छोटी सी गलती हो जाती
है और दही का स्वाद सही नहीं बनता. लेकिन एक
फाउंडर होने के नाते, आपका पूरा ध्यान आपके गोल
पर होना चाहिए. अगर आपका ध्यान हटा, तो आपको
पीछे मुड़कर देखना पड़ेगा. मैं हमेशा अपने गोल पर
नज़र रखता हूँ, बस वही हमेशा मेरे दिमाग में रहता है.”
27
अक्टूबर 2007 में, हम्दी और उनके स्टाफ़ ने चोबानी
का पहला आर्डर पैक किया. वो था 300 स्ट्रॉबेरी,
ब्लूबेरी और पीच ग्रीक दही के डिब्बे, जिसे लॉन्ग
आइलैंड के एक रिटेलर के लिए बनाया गया था. एक
हफ्ते बाद, स्टोर मैनेजर का फ़ोन आया कि सारा का

जाय पाएमा ICT IS पापा मा पा. एमा
हफ्ते बाद, स्टोर मैनेजर का फ़ोन आया कि सारा का
सारा दही फटाफट बिक गया था. चोबानी दही ने धूम
मचा दी थी.
ये ख़बर मिलते ही हम्दी ने फटाफट शॉपराईट
सुपरमार्केट चेन को contact किया, उनकी दुकानें
200 से भी ज़्यादा लोकेशन में मौजूद थी. हम्दी बचे
हुए दही को स्टोर में रखने का ख़र्च नहीं उठा सकते थे
इसलिए उन्होंने वादा किया कि जो दही नहीं बिकेगा वो
उन्हें वापस ले लेंगे, उनका ये पैंतरा काम कर गया.
हम्दी को 2009 में एक बड़ा ब्रेक मिला, जब
Costco, Stop & Shop, BJ’s Wholesale
Club और Publix जैसे जाने माने स्टोर ने चोबानी
के प्रोडक्ट को रखना शुरू किया. हम्दी अब हर
हफ़्ते 7 मिलियन बॉक्स दही produce करने लगे
थे. उन्होंने ये जान लिया था चोबानी को एग्रेसिव
होना पड़ेगा, इससे पहले की योप्लेट और डेनन जैसे
कम्पीटटर्स उसे कुचल दे.
“चोबानी की रफ़्तार” बिज़नस का मंत्र बन गया. 2012
तक न्यू यॉर्क का प्लांट हर हफ़्ते 1.8 मिलियन केस
बनाने लगा. तेज़ी से बढ़ती डिमांड को पूरा करने के
लिए, हम्दी ने ट्विन फाल्स, इदाहो में दूसरा प्लान्ट
खोला.
जब हम्दी ने बिज़नस शुरू किया था, ग्रीक

LULU, OLUP X IIUM, DUD VIIVICSAIC
Club और Publix जैसे जाने माने स्टोर ने चोबानी
के प्रोडक्ट को रखना शुरू किया. हम्दी अब हर
हफ़्ते 7 मिलियन बॉक्स दही produce करने लगे
थे. उन्होंने ये जान लिया था चोबानी को एग्रेसिव
होना पड़ेगा, इससे पहले की योप्लेट और डेनन जैसे
कम्पीटटर्स उसे कुचल दे.
“चोबानी की रफ़्तार” बिज़नस का मंत्र बन गया. 2012
तक न्यू यॉर्क का प्लांट हर हफ़्ते 1.8 मिलियन केस
बनाने लगा. तेज़ी से बढ़ती डिमांड को पूरा करने के
लिए, हम्दी ने ट्विन फाल्स, इदाहो में दूसरा प्लान्ट
खोला.
जब हम्दी ने बिज़नस शुरू किया था, ग्रीक
yoghurt, यू.एस के $78 मिलियन yoghurt
बिज़नस का सिर्फ 0.2% शेयर कवर करता था.
2073 के अंत तक, यह बढ़कर 50% हो गया था.
चोबानी देश का नंबर ] बेस्ट सेलिंग yoghurt बन
गया था.
हम्दी कहते हैं, “हमें लाजवाब चीज़े करने का
आशीर्वाद मिला है, इस देश में Yoghurt की कहानी
तो बस शुरुआत है.”

The Creator’s Code:
The Six Essential Skills of…
Amy Wilkinson
Flying the OODA Loop
OODA मतलब, ओब्सर्व, ओरिएंट, decide और
एक्ट करना. यह थॉट एयर फ़ोर्स पायलट जॉन बॉयड
का है. इसका मतलब है, तेज़ रफ़्तार की कॉम्पिटीशन
में भी दुश्मन से ज्यादा हमें फायदा हो. दुश्मन का
से
ध्यान जाए उससे पहले ही अपने अगले कदम की
तैयारी करना. इससे दुशमन कंफ्यूज हो जाता है और
सिचुएशन का कंट्रोल हमारे हाथों में आ जाता है.
पहला स्टेप है observe करना. इसका मतलब है क्या
हो रहा है उसे observe करना और हर सोर्स से सारी
information को समेटना. दूसरा स्टेप है ओरिएंट
करना यानी अपने आपको organize करना,
अपनी
दिशा तय करना और information में से ज़रूरी
और गैर-ज़रूरी जानकारी को अलग-अलग करना.
तीसरा स्टेप है decide करना यानी क्या एक्शन लेना
है वो फ़ैसला करना. चौथा स्टेप है काम करना यानी
आपने जो फ़ैसला लिया है, उस पर काम करना.
OODA एक लूप है. आपको इफेक्टिव डिसिशन
जल्दी जल्दी लेते रहने होंगे. इससे आपको अपने
दश्मन की तलना में एडवांटेज भी मिलता है. इसका

पापा जासहएI, RIVापा |
दुश्मन की तुलना में एडवांटेज भी मिलता है. इसका
फायदा समय के साथ बढ़ता जाएगा और आप एक
पावरफुल competitor बन जाएँगे.
इसलिए Observe, orient, decide और act
करना. फ़िर से observe, orient, decide और
act करना ना भूलें.
1999 में, मैक्स लेचिन और पीटर थिएल ने अपने
प्रोडक्ट Confinity को इलॉन मस्क के X.com के
साथ merge कर दिया था और उन्होंने अपने नए
ऑनलाइन बैंकिंग फर्म का नाम Paypal रखा.
कंपनी के पूर्व वाईस प्रेसिडेंट, रीड हॉफन का कहना
है, “Paypal टीम की ख़ास बात ये है कि फ़ास्ट
हैं और आगे बढ़ते रहते हैं. वो काम पूरा करवाना जानते
हैं, चीज़ों को चेक करते रहते हैं और जो चीज़ काम
नहीं कर रही है उसे छोड़ते जाते हैं.” Paypal अपने
कॉम्पिटीटर्स से जल्दी और बेहतर तरीके से OODA
लूप से गुज़रते रहे.
जब उनका कोई कॉम्पिटीटर कोई नया फीचर रिलीज़
करता है तो Paypal एक कदम आगे बढ़कर कुछ
बेहतर रिलीज़ करता है.
एक बार डॉटबैंक.कॉम ने उन लोगों को $10 बोनस में
दिए जिन लोगों ने अपने दोस्तों को ऑनलाइन बैंकिंग

एक बार डॉटबैंक.कॉम ने उन लोगों को $70 बोनस में
दिए जिन लोगों ने अपने दोस्तों को ऑनलाइन बैंकिंग
सर्विस में साइन अप करवाया था. Paypal ने एक
हफ्ते में ही इसका तोड़ निकाल लिया और उन लोगों
को $10 बोनस में दिए जिन्होंने साइन अप किया था
और जिन लोगों ने अपने किसी दोस्त को रेफ़र किया
था उन्हें अलग से 10$ भी दिए. ये स्ट्रेटेजी ज़बरदस्त
काम कर गई.
Paypal के को-फाउंडर पीटर थिएल ने महसूस किया
कि इ-मेल बहुत ही पावरफुल मीडियम बनने वाला है
इसलिए, उन्होंने रूल बनाया कि जब कोई Paypal
यूज़र किसी ऐसे इंसान को पैसे भेजता है जिसका
Paypal में अकाउंट नहीं है, तो उसे ईमेल पर एक
लिंक भेजा जाएगा और अपने पैसे निकालने के लिए
उसे पहले Paypal में अपना अकाउंट बनाना होगा.
Paypal यूज़र्स किसी को भी पैसे भेज सकते थे,
चाहे उसका Paypal में अकाउंट हो या ना हो, उन्हें
बस, इ-मेल एड्रेस की ज़रुरत होती थी. इसकी वजह
से, Paypal को रोज़ाना 20,000 नए यूज़र्स मिलने
लगे थे.
उस दौरान, इबे के buyers और sellers भी
Paypal इस्तेमाल करने लगे थे. जब कोई सेलर
किसी buyer को Paypal पर साइन अप करने के
लिा टवार्ट शेतना ॥ तो ये tin नोनयमिलने

बस, इ-मेल एड्रेस की ज़रुरत होती थी. इसकी वजह
से, Paypal को रोज़ाना 20,000 नए यूज़र्स मिलने
लगे थे.
उस दौरान, इबे के buyers और sellers भी
Paypal इस्तेमाल करने लगे थे. जब कोई सेलर
किसी buyer को Paypal पर साइन अप करने के
लिए इनवाईट भेजता था तो उसे $10 बोनस मिलते
थे. ये एक बहुत इम्पोर्टेन्ट डिसिशन साबित हुआ,
जिसकी वजह से Paypal की तेज़ी से ग्रोथ हुई थी.
ईबे Paypal की तेज़ रफ़्तार देखकर चौंक गया था.
एक बार एक कस्टमर डिमांड की कि उसके ऑक्शन
साईट पर Paypal का logo लगाया जाए.
Paypal को ये एक अच्छा मौका लगा. उन्होंने ईबे
के कस्टमर्स के लिए एक ख़ास Logo बनाया ” हम
Paypal स्वीकार करते हैं.” ऐसा लग रहा था जैसे
Paypal ईबे का कैश register चला रहा है.
14
क्योंकि Paypal ने मुश्किल हालातों में OODA
लूप को फॉलो किया इसलिए वो सक्सेसफुल हुए.
Paypal 2007 में प्रॉफिट कमाने लगा था,
डॉट-कॉम बबल बर्स्ट के बावजूद भी. जुलाई 2002
में, ईबे ने आखिरकार Paypal को $1.5 बिलियन में
खरीद लिया.

The Creator’s Code:
The Six Essential Skills of…
Amy Wilkinson
Fail Wisely
क्रिएटर्स हारने से डरते नहीं है बल्कि वो हार की
कदर करते हैं क्योंकि हार की वजह से ही वो अपनी
गलतियों से सीखते है. आप जितना ज़्यादा हारेंगे उतना
ज़्यादा सीखेंगे और सही जवाब के करीब पहुंचेंगे.
डिज़ाइन फर्म IDEO के को-फाउंडर डेविड केली
कहते हैं, “ सिलिकॉन वैली की एक ख़ास बात ये है कि
यहाँ हार को सम्मान का दर्जा दिया जाता है. हार के
साथ जो सीख मिलती है, उसे महत्व दिया जाता है.
19
क्रिएटर्स हार के मामले में खुद से ईमानदार रहने की
खूबी develop कर लेते है. वो अपनी गलतियों से
सीखने के लिए शांत बने रहते हैं और पक्का इरादा
बनाए रखते है. इलॉन मस्क ने कहा है, ” आपको अपने
दोस्तों से पूछना चाहिए कि वो आपको बताएँ कि वो
क्या देखते है. आपको पता चले उससे पहले उन्हें दिख
जाता है कि आप गलत कर रहे है.”
11
क्रिएटर्स uncomfortable सिचुएशन में भी
comfortable होते हैं. वो छोटे छोटे कदम दांव
लगाकर, अलग-अलग मॉडल को try करते हुए,
बदलाव लाते हए, समझदारी से हारते है.

पाकर, जग-जगनाडफाly परत ७५,
बदलाव लाते हुए, समझदारी से हारते है.
गहनों की कंपनी स्टेला एंड डॉट की फाउंडर जेसिका
हेरिन कहती है, “आपको हार को शुरुआत या बीच का
दौर समझना चाहिए, ना की अंत.”
11
2003 में जेसिका डायरेक्ट सेलिंग के अलग-अलग
तरीकों के बारे में सोच रही थी. कॉर्पोरेट दुनिया में
उन्होंने एक सक्सेसफुल करियर बनाया पर वो उन
औरतों के लिए ररास्ता खोजना चाहती थी, जो अपने
तरीके से, अपनी सहूलियत से काम करना चाहती है.
1
एक दिन, वो डलास के किसी होटल के लिफ्ट में जा
रही थी. जब दरवाज़ा खुला तो मैरी के कॉस्मेटिक्स
ब्रांड की कई saleswomen अन्दर आईं. जब वो
सब उनके सेलिंग tips और अचिवेमेंट के बारे में
बात कर रही थी तो जेसिका को एक पॉजिटिव एनर्जी
महसूस हुई.
जेसिका को लगा, बस यही चीज़ है. उन्होंने अपना एक
बिज़नस शुरू किया, Luxe Jewels. जेसिका अपनी
ज्वेलरी खुद डिज़ाइन करके बनाती थी. उन्होंने अपना
वेबसाइट और इनवीटेशंस भी खुद बनाए थे. उन्हें सही
प्रोडक्ट तक पहुँचने के लिए 100 पार्टी और 100
शोज़ करने पड़े.
इस दौरान जेसिका अपनी गलतियों से सीखती रही.

लाइक्स मिलते है, वही थोक में बनाए जाते है.
स्टेला एंड डॉट को इंटरनेशनल लेवल पर लॉन्च करते
समय भी यही स्ट्रेटेजी अपनाई गई थी. यूनाइटेड
किंगडम में फैलने से पहले, जेसिका ने इस बात का
ध्यान रखा कि, इंग्लिश औरतें बहुत रिजर्द्ध होती है. वो
खुलकर अपने दोस्तों को ट्रंक शोज़ के लिए अपने घर
नहीं बुलाएंगी.
जो जेसिका ने किया, वो एक टेस्ट था. उन्होंने UK में
5 दिनों में 7 ट्रंक शोज़ किए और वो हिट साबित हुआ.
उन्होंने सीखा कि इंग्लिश औरतें ट्रंक शोज़ कॉन्सेप्ट को
खुलकर अपनाने के लिए तैयार थीं. 2017 में स्टेला
एंड डॉट को यूरोप में लॉन्च किया गया. यूके, फ्रांस,
जर्मनी और आयरलैंड की औरतें अब अपने घरों में
स्टेला एंड डॉट के ट्रंक शोज़ करती हैं.
2013 में, स्टेला एंड डॉट की $220 मिलियन से भी
ज्यादा सेल हुई थी और ये कंपनी अब भी बढ़ रही है.
स्टेला एंड डॉट की स्टाइलिस्ट हर तरह के माहौल से
आने वाली औरतें है.
जेसिका कहती हैं, “इस साल, हमारा गोल, ज्यादा पैसा
कमाना नहीं है. मैं अपने बोर्ड से कहती हूँ कि नई चीजें
आज़माओ और सीखो, ताकि अगले साल और उसके
अगले साल हम आज की तुलना में एक बेहतर कंपनी
बन सकें.’

The Creator’s Code:
The Six Essential Skills of…
Amy Wilkinson
Gift Small Goods
क्रिएटर्स हमेशा दूसरों की मदद करने के लिए तैयार
रहते है. वे दयालु होते है, और किसी भी हद तक मदद
करने के लिए तैयार रहते है. क्रिएटर्स देने वाले लोग
होते है. वो, रेफ़रेन्स देना, resume फॉरवर्ड करना,
ऐसे छोटे छोटे काम से पॉजिटिव रिश्ता बनाते हैं.
क्रिएटर्स हमेशा दूसरों की मदद करने के तरीके ढूंढते
है. लोग उनके साथ काम करना चाहे, वो ऐसे इंसान
माने जाते है. वो भरोसेमंद होते है. क्रिएटर्स ऐसे पार्टनर
होते है जो सबका फायदा करवाते है.
दूसरों को सक्सेसफुल होने में मदद करके, क्रिएटर्स
खुद की सक्सेस बेमिसाल बना देते है.
रॉबर्ट लैंगर, दुनिया की सबसे बड़ी बायोमेडिकल
इंजीनियरिंग लैब को लीड करते है, जो MIT में स्थित
है. वो, ह्यूमन टिश्यू इंजीनियरिंग और कंट्रोल्ड रिलीज़
ड्रग डिलीवरी में माहिर है. रॉबर्ट 25 कंपनियों के
को-फाउंडर है. उन्होंने 800 से ज्यादा पेटेंट फाइल
किये है, 1,200 से ज़्यादा पेपर पब्लिश किये है, और
200 से ज़्यादा award जीते है.

पाप I,Zoo सपा५। ५पर पारा पापाजार
200 से ज़्यादा award जीते है.
फिर भी, जब रॉबर्ट से पूछा गया कि उन्हें कौन सी
अचीवमेंट पर सबसे ज़्यादा गर्व है, तो उनका जवाब
था, उनके स्टूडेंट्स. उन्होंने कहा कि उनके स्टूडेंट्स की
सक्सेस देखकर उन्हें बहुत संतोष मिलता है.
रॉबर्ट इमेल का जवाब मिनटों में देते है. वो पेपर
पढ़कर उसका फीडबैक 24 घंटो में दे देते है. अपने
सभी स्टूडेंट्स के लिए उनके दरवाज़े हमेशा खुले होते
है. वो कभी भी उनकी सलाह ले सकते है.
रॉबर्ट उनके स्टूडेंट्स को जॉब ढूँढने में और ग्रेजुएट
स्कूल में अप्लाई करने में मदद करते है. वो प्रोफेसर्स
को इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी अग्रीमेंट पाने में मदद करते
है. वो वेंचर कैपिटलिस्ट को कटिंग एज विज्ञान के
बारे में जानकारी देते है. वो गवर्नमेंट officials को
साइंटिफिक रिसर्च कैसे बढ़ाना है, उसकी सलाह देते
है.
पहला पेटेंट मिलने से पहले रॉबर्ट काफी बार रिजेक्ट
हुए थे पर जब उनका करियर चल पड़ा, वो हमेशा
अपने पुराने साथियों और स्टूडेंट्स के साथ काम करते
रहे.
1980 में रॉबर्ट ने एली लिली को अपने पहले
कंट्रोल्ड रिलीज़ ड्रग टेक्नोलॉजी का लाइसेंस दिया.

पहा
कंट्रोल्ड रिलीज़ ड्रग टेक्नोलॉजी का लाइसेंस दिया.
पर इस बड़ी फार्मासुटिकल कंपनी ने उस पर ध्यान
नहीं दिया. रॉबर्ट ने अपना पेटेंट वापस पाने के लिए
बहुत लड़ाई लड़ी. उन्होंने अपना पहला स्टार्ट अप,
Enzytech, अपने पुराने MIT के साथी एलेक्स
क्लिबानोव के साथ शुरू किया.
बाद में इस कंपनी का नाम Alkermes रखा गया.
आज Alkermes ऐसे माइक्रोस्फीयर बनाती है जो
स्किज़ोफ्रेनिया, डायबिटीज, शराब की लत और कई
बीमारियों के इलाज के लिए दवाईयां डिलीवर करती
है.
उसी समय के दौरान, नोवा फार्मासुटीकल ने एक
लाइसेसिंग प्रोजेक्ट के लिए रॉबर्ट को contact
किया. उन्होंने इसमें हेनरी ब्रेम को शामिल करने का
सुझाव दिया, जो जॉन्स हॉपकिंस में न्यूरोसर्जन है.
हेनरी ब्रेन ट्यूमर को निकालने में अपनी खासियत की
वजह से जाने जाते थे.
इस पार्टनरशिप का नतीजा है, Gliadel Wafer.
ये एक पोलिमर डिस्क है, जो कीमोथेरेपी को उसी
जगह ले जाता है, जहाँ ब्रेन से ट्यूमर निकला गया हो.
Gliadel Wafer ट्यूमर वाली जगह पर ही ड्रग्स
रिलीज़ करता है, जबकि बाकी ट्रीटमेंट हेल्थी सेल्स
पर भी असर करते है.

सुझाव दिया, जो जॉन्स हॉपकिंस में न्यूरोसर्जन है.
हेनरी ब्रेन ट्यूमर को निकालने में अपनी खासियत की
वजह से जाने जाते थे.
इस पार्टनरशिप का नतीजा है, Gliadel Wafer.
ये एक पोलिमर डिस्क है, जो कीमोथेरेपी को उसी
जगह ले जाता है, जहाँ ब्रेन से ट्यूमर निकला गया हो.
Gliadel Wafer ट्यूमर वाली जगह पर ही ड्रग्स
रिलीज़ करता है, जबकि बाकी ट्रीटमेंट हेल्थी सेल्स
पर भी असर करते है.
इस सक्सेसफुल प्रोडक्ट की वजह से $72 बिलियन
की कंपनी बनी. तब से रॉबर्ट अपने स्टूडेंट्स के रिसर्च
का इस्तेमाल करते है, जो उन्हें सही प्रोडक्ट बनाने में
मदद करते हैं.
रॉबर्ट के 250 से भी ज्यादा स्टूडेंट बड़े
फार्मासुटीकल कम्पनी के लीडर बने. इसी दौरान, 200
से भी ज़्यादा ने खुद के लैब बनाए.

रॉबर्ट के एक स्टूडेंट का कहना आईडिया रॉबर्ट
का हो या किसी और का. श्रेय किस को जाता है, उन्हें
उसकी चिंता नहीं है. हम सिर्फ़ ऐसा प्रोडक्ट बनाने पर
फोकस करते हैं जो इंसान की तकलीफ़ को दूर कर
सके.”

The Creator’s Code:
The Six Essential Skills of…
Amy Wilkinson
कन्क्लूज़न
एक एक्स्ट्राऑर्डिनरी इंटरप्रेन्योर बनने के लिए आपने
5 ज़रूरी स्किल्स सीखे.
पहला, गैप ढूंढना. क्रिएटर्स सवाल पूछते है और
जानते है की क्या भरने की ज़रुरत है. वो सनबर्ड्स,
architects, या इनटीग्रेटर्स हो सकते है. सनबर्ड्स
एक जगह की technique को दूसरी जगह पर
अप्लाई करते है. architects शुरुआत से सलूशन
बनाते है. जबकि इनटीग्रेटर्स कई अलग-अलग मौजूदा
एलिमेंट्स को मिलाते है.
स्टीव एल्स Chipotle के फाउंडर है. उन्होंने फ़ास्ट
फूड के क्विक, सस्ता और इफेक्टिव स्ट्रेटेजी को हाई
quality ingredients और मशीनों की जगह हाथ
से खाना बनाने की technique को साथ मिलाया
और नतीजे में पाया सबसे बेहतरीन मेक्सिकन खाना
जो कस्टमर्स को बेहद पसंद है.

दूसरा है, क्रिएटर्स को हराने की या इंडस्ट्री के तौर
तरीके की चिंता नहीं होती. वो छोटे छोटे गोल्स को पूरा
करते हुए आगे बढ़ते है, पर नज़र उनकी लॉन्ग टर्म
गोल्स पर ही होती है.
हम्दी उलुकाया ने बढती डिमांड के हिसाब से चोबानी
की रफ़्तार को बरक़रार रखा. उन्होंने अपना प्रोडक्शन
बढाया ताकि yoghurt बनाने वाली बड़ी कंपनियां
उन्हें कुचल ना सके.
तीसरा है, OODA लूप. क्रिएटर्स लगातार observe,
orient, decide और act करते है. इस वजह
से उन्हें मुश्किल दौर में भी फायदा होता है. क्रिएटर्स
observe करके जानकारी निकालते है. वो जान लेते
है की उन्हें किस दिशा में जाना है. वो मौजूदा ऑप्शन में
से decide करते हैं कि क्या चुनना चाहिए और इसके
बाद वो तेज़ी से काम करते है, और बेस्ट solution
अप्लाई करते हैं.
Paypal ने OODA लूप को बार बार अपनाया. जब
कॉम्पिटिटर कुछ नया लॉन्च करते थे तो Paypal
फटाफट कुछ बेहतर लॉन्च कर देता था. OODA की
1
A

काम्पिाटकर कुछ नया लान्य करत यता Paypal
फटाफट कुछ बेहतर लॉन्च कर देता था. OODA की
वजह से, Paypal तेज़ी से बदलते माहौल में भी
कामयाब रहा है.
चौथा है समझदारी से हारो. क्रिएटर्स हारने से नहीं
डरते. हालांकि, वो हार का स्वागत करते है, क्योंकि
उन गलतियों से वो सीखते है.
जेसिका हेरिन, जो स्टेला एंड डॉट की को-फाउंडर
है, इस बात पर यकीन करती है कि हार को शुरुआत
या बीच का समय समझना चाहिए, अंत कभी नहीं. वो
अपने प्रोडक्ट के सैंपल पर वोटिंग करवाती है, ये चुनने
के लिए की कौन सा प्रोडक्ट थोक में बनाया जाए.
जेसिका ने ये जानने के लिए कि, यूरोपियन देशो में ट्रंक
शोज़ चलेंगे या नहीं, कुछ लोगों के साथ इसका सैंपल
टेस्ट किया. वो अपने बोर्ड से कहती है कि एक्सपेरिमेंट
करते रहने से हम बेहतर बन सकते है.
पाँचवा है, छोटी छोटी चीज़े गिफ्ट में दे. क्रिएटर्स
देने वाले और मदद करने वाले होते है. वो किसी भी
ज़रूरतमंद की मदद करते है. वो एक मिसाल है, की
एक छोटी मदद, बहुत लम्बा असर कर सकती है.
क्रिएटर्स नि:स्वार्थ होते है, और दूसरों को भी नि:स्वार्थ

एक छोटी मदद, बहुत लम्बा असर कर सकती है.
क्रिएटर्स नि:स्वार्थ होते है, और दूसरों को भी नि:स्वार्थ
बनने की inspiration देते है.
रॉबर्ट लैंगर एक बहुत कामयाब और सम्मानित
केमिकल इंजिनियर है. वो 25 कंपनियों के
को-फाउंडर है और 800 पेटेंट के मालिक भी. वो ये
सब अचीव कर सके क्योंकि वो हमेशा अपने स्टूडेंट्स,
प्रोफेसर्स, वेंचर कैपिटलिस्ट और पॉलिटिशियन की
मदद करने के लिए तैयार रहते थे. रॉबर्ट हमेशा
अपनी रिसर्च को किसी के साथ शेयर करना पसंद
करते थे. उनकी इस उदारता की वजह से, उन्हें एक
सक्सेसफुल करियर का आशीर्वाद मिला था.
तो अब आप वो 5 ज़रूरी स्किल्स जानते हैं जो एक
एक्स्ट्राऑर्डिनरी इंटरप्रेन्योर बनने के लिए ज़रूरी है.
हमें आशा है कि आप इन्हें अप्लाई करके एक क्रिएटर
बनेंगे.
आपमें वो एबिलिटी है , यही सही समय भी है इसलिए
अपने आपको और अपने बिज़नस को एक नए लेवल
पर ले जाएँ.

Leave a Reply