Seo क्या है हिन्दी में what is seo in hindi Full essay explanation in hindi

8:03 PM
एस यू क्या होता है? ब्लूटूथ!

एस यू का मतलब होता है सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन।

कोई पोस्ट सर्च इंजन किस प्लेस पर रैंक करेगा?

यह इस बात पर निर्भर करता है कि उस पोस्ट का उपयोग कितनी अच्छी तरह से किया गया है।

हर सर्च इंजन का इशू अलग अलग होता है। जैसे गूगल, याहू, बिग, डक, डक, गो, अंडर आदि सर्च इंजन। है और इनका एल्गोरिदम अलग अलग होता है और इन्हीं के बीच पर एस यू बीन का अलग अलग हो जाता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि गूगल में लगभग 70% लोग सर्च करते हैं इसलिए हम अपने ब्लॉग को गूगल के लिए सबसे पहले। अब तो मौज करते हैं।

इसलिए हम अपनी पोस्ट को ऐसा बनाते हैं ताकि गूगल के क्रॉलर उसे आसानी से समझ सके और यूजर के सर्च क्वेरीज को सेटिस्फाई कर सकें।

शिव कितने प्रकार का होता है? एस यू दो प्रकार का होता है। पहला है। फोन पर जैसी हूं। दूसरा है आपके जैसी हूं।

फोन पर जैसी हो।

पोस्ट को लिखते समय जो।

ऐसी वह हम करते हैं। उसे ऑन पर जैसी युग कहा जाता है ऑन परदेसियों के लिए आपके पास फ्री प्लगइन मैं थैंक यू शुक्ला की आज की। आपकी बैटरी की सीएमएस अगर यूज कर रहे हैं तो आप स्टेप बाय स्टेप आपको बता देता है कि आप को मिनिमम कितनी इंप्रूवमेंट करनी है ताकि इस पोस्ट को गूगल हकीकत समझ सके।

फोन पर जदयू के तरीके।

नंबर पहला। रेस्पॉन्सिव थीम!

दोस्तों आपकी मोबाइल!

दोस्तों आपकी टीम अगर मोबाइल रेस्पॉन्सिव होना जरूरी है। आज ज्यादातर लोग इंटरनेट ब्राउजर अपने फोन से ही करते हैं। इसलिए गूगल भी ऐसी वेबसाइटों को इंपोर्टेंस देता है।

जो मोबाइल रेस्पॉन्सिव होते हैं। यूजर फ्रेंडली होते हैं लेकिन लोग ऐसे फ्रांस और चीन का समान करने लगते हैं जो यूजर एक्सपीरियंस। को सेटिस्फाई नहीं कर पाता और मोबाइल रिस्पांस नहीं होता इसलिए गूगल उनकी रैंकिंग को कम कर देता है।

नंबर दो बाउंस रेट कम करके।

दोस्तों, पोस्ट या वेबसाइट का बाउंस रेट वह होता है जिसमें यू सर इंटरकरेंट के कितने समय बाद?

वेबसाइट को छोड़कर चला जाता है। उसे बाउंस रेट कहा जाता है। इसलिए आप कोशिश करें कि अपने ब्लॉक इतना अट्रैक्टिव डिजाइन करें और उसमें पूछना क्वालिटी कंटेंट का लिखें कि बाउंस रेट ना हो आपका। बाउंस रेट जितना ज्यादा होता है, रैंकिंग उतनी घट जाती है और कौन सी डेट जितना कम होता है?

उसने आपकी रैंकिंग ठीक होती जाती है। नंबर 3 क्वालिटी कंटेंट लिखें। 20185 में क्वालिटी कंटेंट का भी एक बहुत बड़ा इंपॉर्टेंट होता है जितना अच्छा क्वालिटी कंटेंट और यूनीक कंटेंट होगा, उतना ही कम कम होगा और आपकी वेबसाइट का वायरल होने के चांसेस बढ़ जाते हैं। इसलिए कोशिश करें कि अपने कांटेक्ट को यूनिक रखें।

नंबर 4 पोस्ट की लेंथ।

पोस्ट की लेंथ ऑन परदेसी हूं में काफी निर्भर करती है। कि आपकी पोस्ट में कितनी डिटेलिंग की गई है। गूगल चाहता है कि उसका यूजर आपके ब्लॉग पर आए तो पूरा सेटिस्फाई हो सके। इसलिए आप जितना हो सके अपने कंटेंट में। S1 S2 S3 S4 S5 S6। हड्डियों का इस्तेमाल करें और पोस्ट को क्वालिटी कंटेंट बनाते हुए काफी लंबा लिखे हैं। कम से कम ढाई हजार वर्ष लिखे हैं।

नंबर 4 पोस्ट का टाइटल।

उसका टाइटल भी ऑन परदेसियों में एक बड़ी भूमिका निभाता है। यू सर क्या सर्च कर रहे हैं। गूगल के क्रॉलर आपकी पोस्ट के टाइटल के मैच करते हैं और तभी यूजर को से दिखाते हैं। अगर आपकी पोस्ट का टाइटल कैसे होगा तब लोग उस पर क्लिक करेंगे। इसलिए अपने पूछकर टाइटल को खुलेगी। रखें और उस पर यूजर को क्लिक करने और आप की रैंकिंग बड़े।

नंबर 5 वीडियो एंबेड करें। फोन पर जैसी ओके। सीओ में।

सेशन का भी बहुत इंपॉर्टेंट रोल होता है। सेशन क्या होता है? कोई यूज़र आप की पोस्ट पर कितना टाइम बिता रहा है या आपके ब्लॉग पर कितना समय बिता रहा है। इसे सेशन कहा जाता है उसकी उधर के लिए। के सबसे प्रमुख होता है इसलिए आपको से बढ़ाने के लिए अपने। पोस्ट में वीडियो को एम वेट कर सकते हैं। कोशिश करें कि आप यूट्यूब की वीडियो कंप्लीट करें ताकि ब्लॉक की स्पीड पर ज्यादा फर्क ना पड़े नंबर सेक्स फार्मा लिंक।

पोस्ट की युवराज! पोस्ट के यूआरएल को हम फरमा लिंग कहते हैं। परमार लिंक बाय डिफॉल्ट डेट वाइज रहता है जिसे आप सेटिंग में जाकर कस्टम कर सकते हैं और पोस्ट के टाइटल के नाम पर ही परमाल इनको लिख सकते हैं। कोशिश करने में इनकी वर्ड पर मालिक में जरूर शामिल रहे।

नंबर 771 यू फ्रिक्वेंटली आज क्वेश्चन को भी ऐड कर सकते हैं। उस टॉपिक्स रिलेटेड जितने और विदाउट आते हैं लोगों के दिमाग में उसे आप ऐसे क्यों क्यों नहीं बता सकते हैं पोस्ट के नीचे सारे।

इतने भी होने लगा करना इमेज ऑल ट्रैक्टर स्माल करके। दोस्तों गूगल की क्रॉलर एक तरह से प्रोग्रामिंग होती है जो आपकी इमेज को पढ़ नहीं पाती। वह सिर्फ टेस्ट को समझ सकते हैं। इसलिए अपने इमेज का इशू करने के लिए उसका प्रॉपर्टी करके उसका नेम में प्रीमियम कर कर उसे टाइटल के नाम पर अच्छे से लिखें। और उसके बाद ही उसकी साइज को कम करके अपलोड करें।

इमेजेस का साइज रिड्यूस करके।

ब्लॉग या वेबसाइट में स्पीड काफी मैटर करती है। अगर आप अपने पोस्ट में ढेर सारी वीडियो प्लगिंग से और हैप्पी इमेजेस का इस्तेमाल करेंगे तो आपकी वेबसाइट की रैंकिंग घट जाएगी, जिससे यूजर खोलने में काफी टाइम लगेगा और यूज़र आपकी वेबसाइट पाना पसंद नहीं करेगा और इससे आप की रैंकिंग भी गिर जाएगी नंबर 10 वेबसाइट स्पीड।

फोन पर जदयू में वेबसाइट स्पीड का भी एक बड़ा रूल होता है। जैसे मान लूं कि आप की वेबसाइट फास्ट खोल रही है तो यूजर आपकी वेबसाइट में आना पसंद करेगा ना कि दूसरे की वेबसाइट में इसलिए ध्यान रखें। ज्यादा वीडियो इमेजेस और प्लगिंस फॉर हेवी। प्रोग्रामिंग का समान ना करें ताकि आपकी वेबसाइट डाउन ना हो पाए। नंबर 11 इंटरनल लिंक इंटरनल लिंग का मतलब होता है कि आपने यूजर किसी काम को एक्सप्लोर करने के लिए मौका देना ताकि वह उसके बारे में डिटेल से जान सकते हैं और आपकी ब्लॉक पर काफी देर तक रुका रहे।

और कहीं दूसरी साइट पर जाना ना पड़े। एक्सटर्नल लिंक। अपनी पोस्ट में कम से कम एक एक्सटर्नल लिंक देना जरूरी है जो।

हायो 3dda पिएकी हो जैसे कि विकिपीडिया, कोयला आदि इनकी।

आप स्टर्लिंग दे सकते हैं ताकि गूगल को लगे कि आपकी वेबसाइट इनसे भी कुछ डिलीट करती है और आपको भी अथॉरिटी दे गूगल।

नंबर 5 कीवर्ड 200 अपनी पोस्ट को लिखते समय में इनकी वर्ड को दो पर्सेंट यूज करें। अगर मान लीजिए आप ढाई हजार शब्दों का पोस्ट लिख रहे हैं तो उसमें दो परसेंट में इनकी वर डालें और बाकी से रिलेटेड कीवर्ड्स डाल सकते हैं और ज्यादा कीवर्ड्स ना भरे नहीं तो स्पैमिंग होने लगती है। आप गूगल आपको कैनालाइज भी कर सकता है।

नंबर फॉर द मैटर डिस्क्रिप्शंस। मेटा डिस्कशन आपकी पोस्ट का हाईलाइट होता है और यह इसे कैसे बनाना जरूरी है। जब कोई गूगल में सर्च करता है तो उसे आपके टाइटल के साथ साल आपका मेटा डिस्क्रिप्शन भी दिखाया जाता है और उसे पढ़कर ही वह आपकी ब्रॉड पर क्लिक करता है। इसलिए कोशिश करें कि मीटर डिस्क्रिप्शन को कॉपी कैसे लिखें। ओरिजी लिखें। नंबर 15 हेडिंग एंड सों वेडिंग। अंतर जातियों में हेडिंग का कोई डायरेक्ट फर्क नहीं पड़ता है, लेकिन इसे यूजरएक्सपीरियर अच्छा बनता है। इससे पता चलता है कि आपने अपनी पोस्ट में काफी डिटेल से लिखा है और आपको उसके बारे में काफी अच्छी नॉलेज है। इसलिए अपनी पोस्ट में S1 S2 S3 S5 का हो सके तो इस्तेमाल जरूर करें। नंबर होते हैं।

अबे जैसी यू जब आप पर जदयू की बात आती है तो लोगों को दिमाग में बैकलिंक से सिर्फ आता है, लेकिन ऐसा नहीं आपके जैसी हो। मैं आपकी मार्केटिंग को दिखाता है कि आप अपने ब्लॉग को किस तरह से मार्केट कर रहे हो। शुरुआत में आपको ट्रैफिक तो नहीं आएगा। इसलिए आपको अपने ब्लॉग को जगह-जगह जाकर बताना पड़ेगा कि यह मेरा ब्लॉक है। उसके बारे में दिखाना पड़ेगा। मार्केटिंग करनी पड़ेगी। इसी को आपके जैसी हो करते हैं। तो पहला आता है सबमिट साइटमैप गूगल सर्च कंसोल अपनी वेबसाइट का साइड में जरूर सबमिट करें ताकि। क्रॉलर आपकी साइड के डाटा को इलाज कर सके और अगर उसमें कोई इधर है तो उसे भी बता सके। नंबर टू क्रिएट बैकलिंक्स।

अपनी वेबसाइट पर एक लिंक बनाएं और उसे इंस्टाग्राम पेज पर या अपने रिलेटेड किसी और ब्लॉक पर कमेंट करें ताकि वहां से आपको वैलेंटाइन सके।

ताकि अगर वहां पर अगर कोई लोगों पढ़ने आते हैं तो वह आपके कमेंट के माध्यम से आपकी भी दे साड़ियां ब्लॉक करा सकें। डायरेक्टरी सबमिशन।

अगर आप फ्री में डूबा डूबा क्लिंग प्राप्त करना चाहते हैं। डायरेक्टरी सबमिशन एक अच्छा तरीका है। हालांकि से रिजल्ट काफी देर में मिलते हैं, लेकिन फिर भी ऐसे आपको जरूर करना चाहिए और इसे करने से पहले आप वेबसाइट का डी जे पी या उस प्रेम रंग जरूर चेक कर लें। पिंटरेस्ट पिंटू ब्लॉक का ऑफिस सिम में कॉपी कॉपी रोल अदा करता है। इसलिए आप उस पर एक। पिंटरेस्ट अकाउंट बना सकते हैं और उस पर भी अपनी।

मिस रिलेटेड पोस्ट कर सकते हैं। कोयला कोयला पर लोगों द्वारा पूछे गए क्वेश्चन का आंसर दे सकते हैं और अपने ब्लॉग का लिंक भी दे सकते हैं ताकि उस से रिलेटेड लोग भी आपकी साइट पर आज होते हैं। फेसबुक फेसबुक पर आप अपना पीस बना सकते हैं और उस पेज पर अपने।

इंफोग्राफिक्स पोस्टग्रेजुएट को काफी का उत्तर जानकारियां वीडियो भी शेयर कर सकते हैं और वहां से भी मार्केटिंग करके अपनी वेबसाइट पर चाबी को जा सकते हैं। यूट्यूब चैनल यूट्यूब चैनल सबसे बढ़िया तरीका है उनके जैसी यू। हाफिज ऐसी हो काम! कृपया वीडियो कंटेंट लोगों के द्वारा शेयर कर सकते हैं और अपने ब्लॉग पर ड्राइविंग गया सकते हैं। गेस्ट पोस्ट लिख कर भी आपके जैसी हो कर सकते हैं जैसा कि कोई लोग गेस्ट अपडेट गेट खोज करते हैं, लेकिन आप फ्री में भी गेस्ट पोस्ट कर सकते हैं। कुछ वेबसाइटों पर जैसे मीडिया इंटरनेट और भी कुछ लोग अपने प्रदेश कोचिंग करने का मौका देते हैं तो वहां पर भी आप गेस्ट पोस्ट कर सकते हैं। ब्लॉग कमेंटिंग आप अपने जैसे ब्लॉक पर जाकर उनके कमेंट कर सकते हैं ताकि वहां की जड़ी डायरेक्ट हो सके हैं। आप की वेबसाइट पर हालांकि यह दो नॉट फॉलो बैक लिंग होता है। फिर भी आप इसे कहता कि आप अट्रॉफिकस है। गूगल आंसर क्वेश्चंस।

गूगल में कुछ लोग डायरेक्ट है या हुसैन पूछ लेते हैं तो आप पर आप जाकर उनका आंसर कर सकते हैं और अपने ब्लॉग वेबसाइट कलिंग विजय सकते हैं ताकि वहां से भी लोग आप पर वेबसाइट पर आपकी वेबसाइट को जान सकें। हम आशा करते हैं कि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हुई। अगर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप कमेंट के माध्यम से हम से पूछ सकते हैं। हम आपकी कमेंट का रिप्लाई जरूर देंगे।

Leave a Reply