Rich Dad’s Success Stories Robert T. Kiyosaki. Books In Hindi Summary

Rich Dad’s Success Stories Robert T. Kiyosaki इंट्रोडक्शन कोई अगर फाइनैंशली सिक्योर हैं, यानि आर्थिक रूप से मज़बूत हैं, तो उसके पीछे क्या राज़ हैं? क्या ऐसा हो सकता हैं कि हम पैसे के बारे में हमेशा चिंता न करें? अमीर लोग अमीर कैसे बने रहते हैं? फाइनैंशली मज़बूती से टिके रहने का कोई एक फार्मूला नहीं हैं. और, यही वो बात हैं जो रिच डैड पढ़ने वालों ने सीखा हैं. उन्होंने रिच डैड के बताए रास्ते पर चलना सीखा हैं. लोगों ने इसको मानकर कई सारे इम्प्रूवमेंट भी किए. इस बुक में, आप जानेंगे कि उन्होंने ये सब कैसे किया. आपको पता चल जाएगा कि आप अपने हालात का बेहतरीन फायदा कैसे उठा सकते हैं. क्या आप अपनी कामयाबी की कहानी लिखने के लिए तैयार हैं? पैसों का मामला हर कोई फाइनैंशली मज़बूत बनना चाहता हैं. लाइफ कितना अच्छा होता अगर आपको financial प्रॉब्लम के बारे में कभी सोचना नहीं पड़ता. रिच डैड यहां आपको बता रहे हैं कि ऐसा होना नामुमकिन हैं. बहुत से लोग ऐसी लाइफ जी रहे हैं, जैसा आप अपने लिए चाहते हैं. नहीं, वे financial एक्सपर्ट नहीं थे.और, न ही उनके पास वापस बैक अप के लिए बहुत पैसा था. इन लोगों ने भी आपके ही जैसी साधारण शरुआत की थी 7- थे.और, न ही उनके पास वापस बैक अप के लिए बहुत पैसा था. इन लोगों ने भी आपके ही जैसी साधारण शुरुआत की थी. उन्होंने जिससे अपनी financial सिक्योरिटी हासिल की, वो हैं। कैशफ्लो’. कैशफ्लो रॉबर्ट कियोसाकी का बनाया हुआ एक बोर्ड गेम हैं. आपको हंसी आ रही होगी कि ये कितना बेतुका हैं. लेकिन ये सच हैं. पैसों के मामलों को समझना कैशफ्लो से आसान होता हैं. खास तौर पर, ये आपको सिखाता हैं कि आपको एक अमीर आदमी की तरह कैसे सोचना हैं. कैशफ्लो खेलने वाले कई लोग इसके फायदे से हैंरान थे. इसने लोगों को इन्वेस्टमेंट के लिए नई बातें सिखाई. इसने उन्हें पैसों के साथ अपने रिश्ते पर फिर से सोचने पर मजबूर किया. आइए, शादीशुदा कपल एड और टेरी कोलमैन की कहानी को सुनते हैं. कई लोगों की तरह, एड के माँ-बाप पैसों के मामले में गैर-जिम्मेदार थे. एड के माँ-बाप ने उन्हें सोच-समझ कर पैसे खर्च करने की ज़रूरत के बारे में बात नहीं की थी. जैसे ही एड के पास पैसा आता, वो उसे खर्च कर देते. एड ने कॉलेज की पढ़ाई आधी में ही छोड़ दी थी. टेरी ने भी अपनी कॉलेज की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी. उस ज़माने में पढ़ाई-लिखे को ज़रूरी नहीं समझा जाता था. 1960 के दशक में, हिप्पी बनना आम बात थी और, एक हिप्पी के लिए पैसा एक बेकार की चीज़ थी. उनके हिसाब से ये पैसा पूंजीवादियों का आम जनता को लालची बनाने का तरीका था. एड और टेरी हिप्पी थे. और वे सिर्फ प्यार बांटने में विश्वास रखते थे. उन्होंने जा,STIC TITS एमाला गा मा. उनके हिसाब से ये पैसा पूंजीवादियों का आम जनता को लालची बनाने का तरीका था. एड और टेरी हिप्पी थे, और वे सिर्फ प्यार बांटने में विश्वास रखते थे. उन्होंने पैसों की परवाह बिलकुल नहीं की. ये कपल इसी तरह अपनी जिंदगी जीते रहे. उन्होंने सिर्फ इसलिए नौकरी की ताकि उनके पास सिर्फ जिंदा रहने के लायक पैसे हो. ज़्यादा कमाई उनके प्लान में सबसे नीचे आता था. और वहीं, पैसा खर्च करना सबसे ऊपर आता था. उनकी ऐसी लापरवाह सोच में तब बदलाव आया, जब उनके बेटे जेक का जन्म हुआ. एड और टेरी घबराए. उन्होंने सोचा बीस साल बाद उनके फैमिली का आखिर क्या होगा? अगर उनके पास पैसों की बचत नहीं होगी तो क्या वे जिंदा रह पाएंगे? पहली बार, इस कपल ने अपने भविष्य के बारे में गहराई से सोचा. उन्होंने महसूस किया कि उन्हें अब अपनी समझदारी बढ़ाने की जरूरत हैं. उनके बिज़नस के सफर की शुरुआत, खेल के मैदान में एक बच्चे के डैड से बात करने के साथ शुरू हुई. एड अपने बेटे जेक को देख रहे थे जब वो दूसरे बच्चों के साथ खेल रहा था. आखिरकार, एड और उस शख्स ने बात करना शुरू किया. दूसरे डैड नेटवर्क मार्केटिंग में काम करते थे. इसने एड का ध्यान खिंचा. वहां से, एड और टेरी ने कई बिज़नस सेमिनार में भाग लेना शुरू कर दिया. उन्होंने सेल्स ट्रेनिंग के लिए भी अपना नाम लिखाया. उन्होंने पर्सनालिटी और सेल्फ डेवेलपमेंट की किताबें भी पढ़ी. ये दोनों financial जानकार बन गए थे अपनी समझदारी बढ़ाने की जरूरत हैं. उनके बिज़नस के सफर की शुरुआत, खेल के मैदान में एक बच्चे के डैड से बात करने के साथ शुरू हुई. एड अपने बेटे जेक को देख रहे थे जब वो दूसरे बच्चों के साथ खेल रहा था. आखिरकार, एड और उस शख्स ने बात करना शुरू किया. दूसरे डैड नेटवर्क मार्केटिंग में काम करते थे. इसने एड का ध्यान खिंचा. वहां से, एड और टेरी ने कई बिज़नस सेमिनार में भाग लेना शुरू कर दिया. उन्होंने सेल्स ट्रेनिंग के लिए भी अपना नाम लिखाया. उन्होंने पर्सनालिटी और सेल्फ डेवेलपमेंट की किताबें भी पढ़ी. ये दोनों financial जानकार बन गए थे. जानकारी हासिल कर के एड और टेरी ने इन्वेस्टमेंट में अपना काम शुरू किया. अपने दादा दादी के गुजर जाने के बाद एड को कुछ हज़ार डॉलर मिले थे. उन्होंने इसका इस्तेमाल कुछ भरोसेमंद कंपनियों के शेयरों के इन्वेस्टमेंट में किया. तीन सालों में, उनका इन्वेस्टमेंट हैरानी से 80,000 डॉलर हो गया. लेकिन यहाँ एड ने गड़बड़ कर दी. उन्होंने शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव को बारीकी से मॉनिटर नहीं किया था. उन्होंने अपने मदद के लिए एक एडवाइजर भी नहीं रखाथा. जब बाजार गिरा तो उनका पोर्टफोलियो 46,000 डॉलर तक पहुँच गया. एड और टेरी ने अपने इन्वेस्टमेंट का लगभग 50% खो दिया. Rich Dad’s Success Stories Robert T. Kiyosaki इसमें उपरवाले का कोई हाथ रहा होगा क्योंकि अगले दिन, इस कपल ने “रिच डैड, पुअर डैड” बुक को देखा. उन्होंने इसमें लिखे सभी सलाह को मानना शुरू किया. उन्होंने कैशफ्लो भी खेलना शुरू कर दिया. financial जानकारी ने उन्हें और भी ज़्यादा कॉंफिडेंट बना दिया था. एक दिन, एड और टेरी ने हाउसिंग डील्स के बारे में सुना. ये कैशफ्लो से मिलती जुलती थी, इसलिए उन्होंने हाउसिंग डील्स लेने का फैसला किया. उनकी ज़्यादा जानने की इच्छा से एड और टेरी का रियल एस्टेट बिज़नस अच्छा चल पड़ा था. उनके पास जितनी भी जानकारी थी, हुनर था, कैशफ्लो ने उसे और भी ज़्यादा निखार दिया था. उन्होंने financial एडवाइजर से भी लगातार सलाह ली. उनके प्रॉपर्टीज उनके लिए इनकम का रास्ता बन गए थे. एड और टेरी कामयाब हो गए थे. ये financial दुनिया कैसे काम करती हैं, ये जानने में उन्हें वक्त लगा. लेकिन वे इसके लिए डटे रहे और उन्हें इसका बड़ा इनाम मिला. अब वे चिंता किए बिना फ्यूचर के बारे में सोच सकते थे. financial सिक्योरिटी के कारण उनकी लाइफ बदल गयी था. एक अलग तरह की शिक्षा एक अलग तरह की शिक्षा पैसा लोगों के भावनाओं से जुड़ा होता हैं. इसके मामले में कुछ लोग जोश में आ जाते हैं, कुछ घबरा जाते हैं और कुछ परेशान होते हैं. रिच डैड, पुअर डैड की वजह से, इसको पढ़ने वाले कई लोगों में बदलाव आया. वे अब पैसों के बारे में बात करने से नहीं डरते थे. अब उन्हें पैसा नहीं, बल्कि वे पैसों को चलाते थे. वैलेरी कोलीमोर, बहुत ही इंटेलीजेंट थी. उनका डॉक्टरी का कैरियर अच्छा खासा चलता था. लेकिन जब पैसे की बात आती तो वो खुद को नाकाम महसूस करती थी. वो financial रिस्क लेकर पैसे बनाना चाहती थी. लेकिन नाकाम होने का डर हमेशा उनका पीछा करता था. इसलिए वैलेरी ने अपने लिए एक सुरक्षित जिंदगी को चुना था. उनके करियर ने उन्हें धीमी लेकिन सुरक्षित financial फ्यूचर दिया था. एक दिन, वैलेरी कुछ लोगों से मिली जिन्होंने पैसे के बारे में उनका नज़रिया बदल दिया. ये लोग बहुत ही साधारण बैकग्राउंड के थे. लेकिन वे बेहद अमीर थे. उस दिन, वैलेरी ने एक नई सोच अपनाई. कोई भी डिग्री और डिप्लोमा आपको पैसों के मामले में स्मार्ट बनने में मदद नहीं कर सकता. अगर आप कुछ रिस्क नहीं लेना चाहते हैं, तो आप एक नौकरी कर सकते हैं जो आपकी डिग्री से मिल सकता हैं. लेकिन वैलेरी ने आगे बढ़ने का फैसला लिया. वो एक अच्छा financial फ्यूचर चाहती थी. वैलेरी ने पैसे के बारे में अपने नॉलेज को बढ़ाने का financial फ्यूचर चाहती थी. वैलेरी ने पैसे के बारे में अपने नॉलेज को बढ़ाने का फैसला किया. उन्होंने रिच डैड, पुअर डैड को पढ़ा. इसने उन्हें एहसास दिलाया कि वो कितना कुछ नहीं जानती थी. वैलेरी और उनकी फैमिली अपने लिए अच्छा कर रहे थे और उनके पास काफी पैसा था जिससे वे सब अच्छी जिंदगी जी सकते थे. लेकिन वैलेरी ने माना कि उनकी लाइफस्टाइल सही नहीं थी. उन्होंने बहुत सारा पैसा सिर्फ इसलिए बर्बाद किया था क्योंकि उन्हें पता था कि उनके पास पैसे हैं. उनकी फैमिली का फ्यूचर पक्का या सिक्योर्ड नहीं था. वैलेरी ने अपनी बेटियों पर ध्यान देने के लिए एक चाइल्ड स्पेशलिस्ट की नौकरी छोड़ दी थी. क्या होगा अगर उनके पति ने भी नौकरी छोड़ डी, जो भी खुद एक डॉक्टर हैं? पैसों के मामलों में वैलेरी बहुत बुरी थी. मेडिकल फील्ड के बारे में उनकी नॉलेज भी उनके खर्च और इनकम को बैलेंस करने में उनकी मदद नहीं कर सका. लेकिन रिच डैड, पुअर डैड ने वैलेरी को वो financial नॉलेज दी जिनकी उन्हें ज़रूरत थी. वो अब financial सिक्योरिटी के बारे में बात करने से नहीं डरती थी. जब financial प्रॉब्लम का सामना करना पड़ा, तो वैलेरी तैयार थी. उनके मन में जो भी सवाल थे, वो पूछा और इसके बारे में पढ़ा. पहले, वैलेरी इन बातों से डरती थी. लेकिन रिच डैड, पुअर डैड ने उन्हें पढ़ना सिखाया. अगर वो किसी चीज़ के बारे में नहीं जानती, तो वैलेरी इसे ऑनलाइन देख लेती. अक्सर, वो किसी भरोसेमंद उन्होंने बहुत सारा पैसा सिर्फ इसलिए बर्बाद किया था क्योंकि उन्हें पता था कि उनके पास पैसे हैं. उनकी फैमिली का फ्यूचर पक्का या सिक्योर्ड नहीं था. वैलेरी ने अपनी बेटियों पर ध्यान देने के लिए एक चाइल्ड स्पेशलिस्ट की नौकरी छोड़ दी थी. क्या होगा अगर उनके पति ने भी नौकरी छोड़ डी, जो भी खुद एक डॉक्टर हैं? पैसों के मामलों में वैलेरी बहुत बुरी थी. मेडिकल फील्ड के बारे में उनकी नॉलेज भी उनके खर्च और इनकम को बैलेंस करने में उनकी मदद नहीं कर सका. लेकिन रिच डैड, पुअर डैड ने वैलेरी को वो financial नॉलेज दी जिनकी उन्हें ज़रूरत थी. वो अब financial सिक्योरिटी के बारे में बात करने से नहीं डरती थी. जब financial प्रॉब्लम का सामना करना पड़ा, तो वैलेरी तैयार थी. उनके मन में जो भी सवाल थे, वो पूछा और इसके बारे में पढ़ा. पहले, वैलेरी इन बातों से डरती थी. लेकिन रिच डैड, पुअर डैड ने उन्हें पढ़ना सिखाया. अगर वो किसी चीज़ के बारे में नहीं जानती, तो वैलेरी इसे ऑनलाइन देख लेती. अक्सर, वो किसी भरोसेमंद दोस्त की सलाह भी लेती थी, जो financial मामलों के बारे में जानकारी रखते थे. वैलेरी ने आखिरकार महसूस किया कि उसके पैसे का डर का हल निकल सकता था. उन्हें बस इसकी जानकारी रखनी चाहिए. डैड को पढ़ने के बाद, थॉमस ने इसे उलट दिया. उनके बैंक खाते में 90,000 डॉलर हो गए थे. उनके पास अब इतने पैसे हो गए थे कि उन्हें भरोसा हो गया था कि वो 40 की उम्र में रिटायर हो सकते हैं. अब ऐसा क्या हुआ था कि इतना ज़्यादा फर्क आ गया? थॉमस भी रियल एस्टेट में शामिल हो गए थे. एड और टेरी की तरह, उन्होंने इसके बारे में पढ़ा था उन्होंने भी कैशफ्लो खेला था. रियल एस्टेट थॉमस के लिए ज़्यादा नया नहीं था. आखिरकार, उन्होंने कैशफ्लो काफी बार खेला था. आखिर में, थॉमस के पास 5 घर हो गए थे. उनके पास इनकम आती रही क्योंकि उनके पास लगातार किरायेदार आते रहे. हर घर से उन्हें 600 डॉलर हर महीने मिलते थे जो हर तीन साल में बढ़ेगा. बेशक, चीजें पहले इतनी आसान नहीं थीं. थॉमस को चुनना पड़ता था कि कौन से प्रॉपर्टीज खरीदने हैं. कभी-कभी वो खर्चे भी सामने आ जाते थे जिनके बारे में उनको अंदाज़ा भी नहीं होता था. लेकिन थॉमस कामयाब रहे. वे रिच डैड, पुअर डैड पढ़ते रहे. वो अपने फैमिली के साथ कैशफ्लो गेम खेलते रहे. जब वो एक प्रॉब्लम फंस गए थे तो उन्होंने मदद मांगी. थॉमस को एहसास हुआ कि फिनांशियल नॉलेज होना कितना ज़रूरी था. मदद मांगने में शर्म महसूस नहीं करना चाहिए. अगर आपके पास हर चीज का जवाब नहीं हैं तो भी कोई बात नहीं. अब, थॉमस इस बात को मान कर अपनी जिंदगी जीते हैं कि अगर आप खुद को अमीर बनते नहीं देखते हैं, अब, थॉमस इस बात को मान कर अपनी जिंदगी जीते हैं कि अगर आप खुद को अमीर बनते नहीं देखते हैं, तो आप कभी भी एक अमीर आदमी नहीं बनेंगे. लोग हमेशा बहुत सारे पैसे रखने के आसान तरीकों पर भरोसा करते हैं जैसे कि लॉटरी. लेकिन लक के भरोसे आप कहीं भी नहीं पहुंच पाएंगे. आपके पास हज़ारों मौके हैं, आपको बस इनका फायदा उठाना हैं. जितनी जल्दी उतना अच्छा अभी उम्र नहीं हैं, ऐसी सोच से आपको अपनी financial आज़ादी रोकना नहीं चाहिए. आपको पैसों के बारे में सोचना शुरू करने के लिए कमाई करने की ज़रूरत नहीं हैं. जितनी जल्दी हो सके आप अपनी financial गोल तय कर सकते हैं. हाँ अगर आप अभी स्टूडेंट भी हैं, तब भी. रिच डैड को पढ़ने के बाद, ऐसा ही कई यंग लोगों ने किया हैं. वे इनडायरेक्ट इनकम कमाने में कामयाब हुए थे. जब उन्होंने कैशफ्लो खेला, उनकी नॉलेज पहले से भी ज़्यादा बढ़ गई. इन यंग लोगों में काफी हिम्मत होती हैं और वे नाकाम होने से नहीं डरते. वे जानते हैं कि उनकी नाकामी उनके कामयाबी का कारण बन सकती हैं. आपके हर रूपए में एक मौका छुपा होता हैं. आपकी पॉकेट मनी आपके लिए संपत्ति बना सकती हैं. इन्वेस्टमेंट करना फायदा देती हैं. आपको नए और अनजान शब्दों जैसे फाइनैंस और लायबिलिटीज़ को सीखना होगा. अपनी जवानी में ही आप अपने फाइनैंस सिक्योर करना शुरू कर सकते हैं. A A < साखना होगा. अपना जवाना महा आप अपन फाइनस सिक्योर करना शुरू कर सकते हैं. एलीसन कुबाला ने रिच डैड पुअर डैड तब सुना था जब वो लगभग नौ साल की थी. स्कूल के रास्ते, एलिसन की मां इस बुक के ऑडियो टैप को चलाती थी. इसी ने पैसे के लिए एलीसन की सोच बनाई थी. यंग होने का मतलब ये नहीं था कि उनके “इनकम” का ज़रिया सिर्फ उनका अलाउंस था. उस बुक से उन्होंने महसूस किया कि वो एक बिज़नस शुरू कर सकती हैं. जब उसकी क्लास नहीं होती थी तो एलीसन अपने पड़ोस में घूमकर सजे हुए पत्थर और मोमबत्तियाँ बेचती थी. वो कितनी भी छोटी क्यों न रही हो, एलीसन तब भी पैसा बनाने में कामयाब रही थी. वो अपने खर्चे और कमाई का लेखा-जोखा भी रखती थी. बाद में, एलिसन ने घर-घर जाना बंद कर दिया. उसने इंटरनेट के जादू को जान लिया था. उसकी माँ ने उसके लिए एक वेबसाइट बनाने में उसकी मदद की. वहाँ से, एलीसन ने अपने हाथों से बने सजावट की चीजें बेचनी शुरू की. अपने कमाई से एलीसन ने बिज़नस कार्ड बनवाए. उसने इस कार्ड को स्कूल और चर्च में सभी को दिया. एलिसन का बिज़नस अच्छा चल रहा हैं. उसका खर्च आम तौर पर 20 और 30 डॉलर के बीच होता हैं. अब तक, वो लगभग 60 डॉलर कमा चुकी हैं. किसी के नए बिज़नस के लिए ये बुरी शुरुवात नहीं हैं. खासकर इतनी यंग इंसान के लिए! A . Rich Dad’s Success Stories Robert T. Kiyosaki एक नई स्ट्रेटेजी नज़रिया ही सब कुछ होता है. मान लीजिए कि आप हर पैसे के मामले में कूदने से डरते हैं. लेकिन, आखिर इस डर के साथ आप फाइनेंशियली सिक्योर हो कैसे सकते हैं? आपको ये जानकर हैरानी होगी कि ये एक कॉमन प्रॉब्लम हैं, यहां तक कि उन लोगों का भी जो पर्सनल फाइनैंस देखते हैं. हां, जब क्लाइंट के पैसों को संभालने की बात आती हैं तो वे अच्छे हो सकते हैं. लेकिन ऐसे लोग भी अपने पर्सनल फाइनैंस के मामलों में जूझते हैं. ब्रायन ईगलहार्ट कर्ज में डूब रहा था. उसका स्टूडेंट लोन और कार लोन चल रहा था. उसके ऊपर, वो क़र्ज़ में पैसा खर्च कर रहा था. और फिर भी, ब्रायन financial कंसलटेंट बनकर अपनी जिंदगी जी रहा था. उसके पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में इतना फरक कैसे हो सकता था. फिर, ब्रायन के सामने रिच डैड, पूअर डैड आया. उसने कैशफ्लो भी खरीदा. रिच डैड ने सिंपल लेकिन असरदार पैसे बनाने के तरीके बताए. इसके बाद, ब्रायन ने रिच डैड के रिटायर यंग, रिटायर रिच को खरीदा और पढ़ा. इसने उसे एहसास दिलाया कि पैसे के मामले में उसकी क्या कमजोरी थी. उसने पैसों का कंट्रोल अपने हाथों में ले लिया और अपनी हालात बदल दी अब वो हर महीने लगभग उसने पैसों का कंट्रोल अपने हाथों में ले लिया और अपनी हालात बदल दी. अब वो हर महीने लगभग 400 डॉलर बचाने में कामयाब हुआ था. यहां तक कि उसके पास चैरिटी को देने के लिए भी अलग से पैसे थे. ब्रायन को एहसास हुआ कि उसे एक्शन लेना ही होगा. अमीर होने के कई मौके थे. इसलिए, उसने पोर्टलैंड में रियल एस्टेट की प्रॉपर्टी देखी. ब्रायन ने अपनी पसंद की प्रॉपर्टीज़ की एक लिस्ट बनाई. 75 से उसने सिर्फ 1 सिंगल-फैमिली घर को चुना. उसने इसे 2002 में खरीदा था. बेशक, उसने ये सब अकेले नहीं किया. ब्रायन ने भरोसेमंद लोगों से लगातार सलाह मांगी. उसके पास एक टैक्स कंसलटेंट, एक वकील और एक रियल एस्टेट एजेंट था. ब्रायन ने हिसाब लगाया कि वो दो साल बाद इस घर से कमाई शुरू कर सकता हैं. financial सिक्योरिटी ने ब्रायन के लाइफ को बेहतर बनाया था. उसे अब अपने भविष्य की कोई चिंता नहीं थी. असल में, वो अपने फ्यूचर का इंतज़ार करने लगा था. ब्रायन के पिछले financial फैसलों ने उसे आगे बढ़ने में मदद की. शुरू में, उसे शर्म आती थी कि उसने अपने पैसों को ढंग से नहीं चलाया. लेकिन इसी बात ने उसे बेहतर करने की प्रेरणा दी थी. बेहतर मौके इस लाइन को हर दिन दोहराइए- “पैसे के लिए काम मत करो, अपने लिए पैसों से काम कराओ.” अगर बेहतर मौके इस लाइन को हर दिन दोहराइए- “पैसे के लिए काम मत करो, अपने लिए पैसों से काम कराओ.” अगर आप नादान हैं तो ये कागज का टुकड़ा आपको गुलाम बना देता हैं. अगर आप डरते हैं तो भी आप इस पैसे का गुलाम बन सकते हैं. आप पैसों की कमी से डरते हैं, और आपका डर आपको financial सिक्योरिटी पाने से रोकता हैं. अपनी जिंदगी की डोर अपने हाथों में ले लीजिए. सोच समझकर लेकिन बड़े कदम लेने की हिम्मत कीजिए. आपको शायद वो मिल जाए जो आप चाहते हैं. लाइफ के बारे में स्टेसी बेकर का नज़रिया बहुत खराब था. इस नज़रिए की वजह से उनकी सोच भी बिगड़ गई थी. उन्होंने हाई स्कूल की पढ़ाई भी पूरी नहीं की. स्टेसी एक सिंगल मदर भी थीं. उन्हें लगता था कि लाइफ कभी बेहतर नहीं हो पाएगी. स्टेसी को लगा कि वो इस तरह की जिंदगी में ही हमेशा के लिए फंस कर रह जाएगी.रिच डैड ने उसकी लाइफ बदल दी. अपनी हालात के बावजूद, स्टेसी ने पैसों के बारे में जिम्मेदार बनने का एक रास्ता ढूंढ लिया. वो अपने गाइड के तौर पर लगातार रिच डैड का इस्तेमाल करती थी. जैसे-जैसे स्टेसी का कॉन्फिडेंस बढ़ता गया. उन्होंने हिम्मत से अपने लिए financial फैसले किए. अब, वो मेडिकल प्रैक्टिस करती हैं और उनके पास दो घर हैं. स्टेसी की ज़िंदगी मुश्किलों से भरी थी. वो एक कम इनकम वाले फैमिली में पली-बढ़ी थी. उनके पास जो वक्त बीतता गया, A < किए. अब, वो मेडिकल प्रैक्टिस करती हैं और उनके पास दो घर हैं. स्टेसी की जिंदगी मुश्किलों से भरी थी. वो एक कम इनकम वाले फैमिली में पली-बढ़ी थी. उनके पास जो थोड़े बहुत पैसे होते थे, वो किसी तरह से जीने लायक ही थे. इससे स्टेसी का कॉन्फिडेंस टूट गया था. उन्होंने सोचा था कि वो कभी कामयाब नहीं होगी. इसलिए उन्होंने कभी कोशिश ही नहीं की. सोलह साल की उम्र में, वो हाई स्कूल से बाहर हो गई थी. फिर, स्टेसी एक चिठ्ठियों को बांटने वाली बन गईं थी. 30 साल की उम्र में, उनके पैसों के प्रॉब्लम शुरू हो गए थे. स्टेसी का एक बेटा था जिसे उन्हें बड़ा करना था. वो कर्ज में भी डूब गई थी. उनकी सैलरी मुश्किल से खाने का खर्च पूरा करती थी. फिर, एक दिन उन्होंने रिच डैड को पढ़ा. वो भी कैशफ्लो खेलने चली गई. स्टेसी की जिंदगी बदल गई. उन्हें पता चला कि उनके लिए भी कई मौके हैं. सिर्फ इसलिए कि वो गरीब थी इसका मतलब ये नहीं था कि वो अमीर नहीं हो सकती. स्टेसी और उनकी एक दोस्त – जो एक डॉक्टर थी, दोनों एक क्लिनिक खरीदने में कामयाब रहे. उन्हें इसे खरीदने के लिए लोन लेना पड़ा. लेकिन वे इस बिज़नस के बारे में कॉफिडेंट थे. उनके पास उन्हें रास्ता दिखाने के लिए रिच डैड था. उनकी हेल्प के लिए उनके पास एक वकील और फाइनांशियल एडवाइजर भी था. उनकी क्लिनिक कामयाब हुई. स्टेसी अब क्लिनिक के प्रॉफिट की लगभग 75% की मालकिन हैं. लेकिन वो वहां नहीं रुकी. स्टेसी ने रियल एस्टेट की तरफ अपना का खर्च पूरा करती थी. फिर, एक दिन उन्होंने रिच डैड को पढ़ा. वो भी कैशफ्लो खेलने चली गई. स्टेसी की जिंदगी बदल गई. उन्हें पता चला कि उनके लिए भी कई मौके हैं. सिर्फ इसलिए कि वो गरीब थी इसका मतलब ये नहीं था कि वो अमीर नहीं हो सकती. स्टेसी और उनकी एक दोस्त – जो एक डॉक्टर थी, दोनों एक क्लिनिक खरीदने में कामयाब रहे. उन्हें इसे खरीदने के लिए लोन लेना पड़ा. लेकिन वे इस बिज़नस के बारे में कॉंफिडेंट थे. उनके पास उन्हें रास्ता दिखाने के लिए रिच डैड था. उनकी हेल्प के लिए उनके पास एक वकील और फाइनांशियल एडवाइजर भी था. उनकी क्लिनिक कामयाब हुई. स्टेसी अब क्लिनिक के प्रॉफिट की लगभग 75% की मालकिनहैं. लेकिन वो वहां नहीं रुकी. स्टेसी ने रियल एस्टेट की तरफ अपना रुख किया. उन्हें इसमें फायदा मिला. हालांकि, उनके सभी बिज़नस को प्रॉफिट नहीं मिला था. स्टेसी ने और भी ज़्यादा पढ़ना सीखा. उन्होंने खुद को नॉलेज से लैस कर लियाऔर कभी भी सीखना नहीं छोड़ा. फिर उन्हें एक टीम की ज़रूरत महसूस हुई. स्टेसी जानती थी कि वो ये सब अकेले नहीं कर सकती थी. और ये बात मान लेने में कोई गलती नहीं थी. कई सारे लोग इसलिए नाकाम हो जाते हैं क्योंकि वे मानने से इंकार करते हैं कि वे अकेले सब कुछ संभाल नहीं सकते. जैसा कि कहा जाता हैं, कोई भी इंसान एक आइलैंड, एक द्वीप नहीं हैं. वो अकेला नहीं रह सकता. A . Rich Dad’s Success Stories Robert T. Kiyosaki कन्क्लूज़न आपने उन लोगों के बारे में जाना जिनकी जिंदगियों पर रिच डैड, पुअर डैड बुक ने असर डाला था. ये सभी लोग अलग-अलग बैकग्राउंड से आए थे. उन सभी को लगा था कि उनकी जिंदगी में financial सिक्योरिटी नामुमकिन थी. रॉबर्ट कियोसाकी ने अपने बुक और बोर्ड गेम, कैशफ्लो, से उन सब लोगों को गलत साबित किया. आपने जाना कि उमर तो सिर्फ एक नंबर हैं. पैसों के मामले में स्मार्ट होने के लिए आप न तो बड़े होते हैं और न ही छोटे. उसकी कोई उमर नहीं होती. अपने पैसों को लेकर समझदारी से ही आपकी जिंदगी बदल सकती हैं. आपने जाना कि आपने जो कुछ भी सीखा हैं, उसकी प्रैक्टिस में बहुत ताकत हैं. इस बुक की कहानियों ने कैशफ्लो पर हाईलाइट किया. इस खेल ने लोगों को सिखाया कि अपने हर financial फैसलों को कैसे एनालाइज़ करना हैं. आपने सीखा कि नॉलेज आपको अपने गोल के आधे रास्ते तक पहुँचा देगा. जो लोग सीखना चाहते हैं, वही लोग बेहतर होंगे. वे अपनी financial सिचुएशन एनालाइज़ करना हैं. आपने सीखा कि नॉलेज आपको अपने गोल के आधे रास्ते तक पहुँचा देगा. जो लोग सीखना चाहते हैं, वही लोग बेहतर होंगे. वे अपनी financial सिचुएशन से कभी चैन से नहीं बैठते. तो, वे और भी ज़्यादा पढ़ते हैं. मौके तो हर तरफ होते हैं. बस आपको पढ़ना और सुनना हैं. आपने अपनी तकदीर को खुद बनाने के बारे में सीखा. बिज़नस के मौके आपके पास खुद नहीं आएँगे. आपको उन्हें अपनी कोशिशों से तलाशना होगा. नॉलेज और एक्सपीरियंस हासिल कीजिए. नपा तूला रिस्क उठाने की हिम्मत रखिए. पैसों को लेकर आपकी सारी चिंताएँ खत्म हो सकती हैं. आप इस बुक में बताए गए लोगों की तरह बन सकते हैं. पैसों के मामले में अपनी सोच बदलना शुरू कर दीजिए. अपनी financial नॉलेज को बढ़ाइए. अपने हालात को बदलने के बारे में पॉजिटिव सोचिए. आप वाकई में हल्का और खुश महसूस करेंगे. इससे आपको हिम्मत और बढ़ावा मिलेगा.

Leave a Reply