Rich Dad’s Increase Your Financial IQ: Get Smarter… Robert Kiyosaki. Books In Hindi Summary

Rich Dad’s Increase Your Financial IQ: Get Smarter… Robert Kiyosaki इंट्रोडक्शन क्या पैसा इंसान को अमीर बनाता है? हो सकता है कि, आप आँखें घुमाकर, विश्वास के साथ बोलें, “हाँ, बनाता है।” एक गोल्फर नए गोल्फ क्लब और हर तरह के गोल्फ के सामान पर बहुत पैसे खर्च कर के भी, गोल्फ खेलने में अच्छा क्यों नहीं हो पाया? क्यों वो लोग, जो शेयर्स और रियल स्टेट में पैसा लगाते हैं, वो और पैसे कमाने के बदले, पैसे हार जाते हैं? सबसे पहले, पैसा आपको अमीर नहीं बनाता। अपना पैसा कहाँ इंवेस्ट करना है, कैसे खर्च करना है और कैसे मेनेज करना है, यह सब सीखना आपको अमीर बनाता है। आपका फाइनेंशियल इंटेलिजेंस, जो कि पैसे से जुड़ा ज्ञान और जानकारी है, वो आपको अमीर बनाता है। आप जब तक खुद को गोल्फ खेलना नहीं सीखाते, आप उसमें अच्छे नहीं हो सकते, भले ही आप उसके सामान पर लाखों खर्च कर दें। यह उन लोगों पर भी लागू होता है, जो स्टॉक्स या रियल स्टेट में अपना पैसा इंवेस्ट करते हैं। अच्छी चीजें पाने के लिए, अपना पैसा महंगी चीजें या स्टॉक्स खरीदने के बदले, अपना समय सीखने में इंवेस्ट करना ज्यादा अच्छा होता है। पाय NA डीपी-IITTA २५८.९।प्या पानाIIS मा सा महंगी चीजें या स्टॉक्स खरीदने के बदले, अपना समय सीखने में इंवेस्ट करना ज्यादा अच्छा होता है। यह किताब आपको ऐसा कोई तरीका नहीं सीखाएगी, जिससे आप बस ऐसे ही अमीर बन जाएँगे। यह बुक आपको आपकी फाइनेंशियल इंटेलिजेंस इंप्रूव करना सिखाएगी। जब आप अपना समय फाइनेंशली इंटेलिजेंट बनने में लगाएँगे, तो आप ज्यादा अमीर बनेंगे क्योंकि तब आप ज्यादा स्मार्ट होंगे। पैसा कमाने से पैसा खर्च करना ज्यादा आसान होता है। हमेशा याद रखिए, आपको अमीर पैसा, सोना या स्टोक्स नहीं बनाते, बल्कि आप इनके बारे में आप क्या जानते हैं वह बनाता है। चलिए आपकी स्मार्ट बनकर अमीर बनने की जर्नी शुरू करते हैं। फाइनेंशियल इंटेलिजेंस क्या है? पैसा एक ऐसी चीज है, जिसे दुनियाभर के सभी लोग समझते हैं। जब पैसे की बात आती है, तो कल्चर और भाषा की सीमा मिट जाती है, क्योंकि पैसे के मामले में हम सब बिना कुछ कहे ही सब समझ जाते हैं। हम अक्सर ऐसे लोगों के बारे में सुनते रहते हैं, जो अचानक से अमीर हो गए। वे या तो लॉटरी जीतकर, या इंटरनेट पर वायरल हो कर, या नेशनल TV में काम कर के अमीरे हुए होंगे। हम ऐसे सेलिब्रिटीस के बारे में भी सुनते हैं, जो अपना बहुत सारा पैसा बड़े बंगलों, लग्जरी कारों या आलीशान पार्टियों पर खर्च करते हैं। क्या आपको आश्चर्य होगा, अगर हम कहें की कुछ लोग जिनके पास बहत पैसा था. वो बाद में सड़क पर आ 1 में भी सुनते हैं, जो अपना बहुत सारा पैसा बड़े बंगलों, लग्जरी कारों या आलीशान पार्टियों पर खर्च करते हैं। क्या आपको आश्चर्य होगा, अगर हम कहें की कुछ लोग जिनके पास बहुत पैसा था, वो बाद में सड़क पर आ गए या कर्ज में डूब गए हैं? प्रॉब्लम तब आती है, जब किसी को ये पता नहीं होता कि अपने पैसे को कैसे हैंडल किया जाए। आमतौर पर अपनी फाइनेंशियल प्रॉब्लम को कैसे सॉल्व करें, यही फाइनेंशियल इंटेलिजेंस है। फाइनेंसियल प्रॉब्लम ऐसा है कि जब आप उसे सॉल्व करना सीख जाते हैं, तब वह आपको फाइनेंशली ज्यादा अमीर और ज्यादा स्मार्ट बना देता है। तब आपको पता होगा कि, अगर आगे चलकर, आपको वैसी ही प्रॉब्लम दोबारा आए तो आपको क्या करना है। आप अपने क्लास के सबसे स्मार्ट स्टूडेंट हो सकते हैं, लेकिन ये भी हो सकता है कि जब फाइनेंशियल इंटेलिजेंस की बात आए, आप सबसे स्टुपिड स्टूडेंट हों। अगर आप financially स्मार्ट नहीं बनेंगे और पैसे के मामले में अपना एटीट्यूड नहीं बदलेंगे तो आप वैसे भी पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम बार-बार फेस करेंगे, और उसे सॉल्व करने में आपको परेशानी होती रहेगी। फाइनेंशियल प्रॉब्लम्स को एक खराब दाँत की तरह भी देखा जा सकता है। शुरू में आप अपने दांत के दर्द को नजरअंदाज करते हैं क्योंकि आप इस बात को मानना नहीं चाहते कि बाद में वह दाँत और भी खराब हो जाएगा। ये बिलकुल पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम को इग्नोर करने जैसा ही है , क्योंकि ये आपको दुखी करता है ५५ जाणणाण पारशर पापा जाप२रा पारा 4 मानना नहीं चाहते कि बाद में वह दाँत और भी खराब हो जाएगा। ये बिलकुल पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम को इग्नोर करने जैसा ही है , क्योंकि ये आपको दुखी करता है और जब तक आप इसका सीधा सामना नहीं करते ये सोल्व नही होता। और एक वक़्त ऐसा भी आता है जब दांत का दर्द बहुत बढ़ जाता है. इससे आपका स्कूल में परफॉरमेंस भी खराब हो सकता है, क्योंकि दर्द आपको क्लास में संट्रेट नहीं करने देता। आप बाद में क्लास छोड़कर, बेड में लेटे हुए, खराब दांत के दर्द के कारण आंसू बहा रहे होते हैं। यह ऐसा ही है, जैसे पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम के कारण, अपने काम में कॉसंट्रेट ना कर पाना, फिर आखिरकार आपकी खराब परफॉरमेंस के कारण आपको जॉब से निकाल दिया जाता है । आप क्रेडिट कार्ड का सहारा लेने लगते हैं । लेकिन, क्रेडिट कार्ड का बिल बढ़ने लगेगा, और आपके पास उधार चुकाने के लिए पैसा काफी नहीं होगा। अगर आप पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम को जड़ से खत्म नहीं करेंगे, तो उससे और भी प्रॉब्लम खड़ीहो जाएंगी। ऑथर ने अपने एक अमीर पिता(Rich dad) और एक गरीब पिता(poor dad) को इमेजिन करके, यह समझाने की कोशिश की है कि, गरीब और अमीर लोग, पैसों से जुड़े मामले को कैसे डिसाइड करते हैं। उनके गरीब पिता ने स्कूल वापस जा कर, डॉक्टरेट की डिग्री ले कर, अपनी फाइनेंशियल प्रॉब्लम सॉल्व करने की कोशिश की। लेकिन ऐकडेमिक्ली और पोफेशनली यह ऐसा ही है, जैसे पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम के कारण, अपने काम में कॉसंट्रेट ना कर पाना, फिर आखिरकार आपकी खराब परफॉरमेंस के कारण आपको जॉब से निकाल दिया जाता है । आप क्रेडिट कार्ड का सहारा लेने लगते हैं । लेकिन, क्रेडिट कार्ड का बिल बढ़ने लगेगा, और आपके पास उधार चुकाने के लिए पैसा काफी नही होगा। अगर आप पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम को जड़ से खत्म नहीं करेंगे, तो उससे और भी प्रॉब्लम खड़ीहो जाएंगी। ऑथर ने अपने एक अमीर पिता(Rich dad) और एक गरीब पिता(poor dad) को इमेजिन करके, यह समझाने की कोशिश की है कि, गरीब और अमीर लोग, पैसों से जुड़े मामले को कैसे डिसाइड करते हैं। उनके गरीब पिता ने स्कूल वापस जा कर, डॉक्टरेट की डिग्री ले कर, अपनी फाइनेंशियल प्रॉब्लम सॉल्व करने की कोशिश की। लेकिन, ऐकडेमिक्ली और प्रोफेशनली स्मार्ट बनने के बाद भी, गरीब पिता फाइनेंश डिपार्टमेंट में स्मार्ट नहीं बन पाए। इसलिए, वो अपनी पैसे से जुड़ी प्रॉब्लम को सॉल्व नहीं कर पाए, क्योंकि उन्होंने फाइनेंशली स्मार्ट बनने में इन्वेस्ट नहीं किया। वहीं दूसरी ओर, कियोसाकी के अमीर पिता ने फाइनेंसियल प्रॉब्लम को लेकर खुद को चैलेंज किया क्योंकि उन्हें पता था इससे उनका फाइनेंशियल आइक्यू बढ़ जाएगा, और वो सच में बढ़ भी गया। Rich Dad’s Increase Your Financial IQ: Get Smarter… Robert Kiyosaki फाइनेंशियल आइक्यू #l: और ज्यादा पैसे बनाना 5 फाइनेंशियल आइक्यू के बारे मे जानने से पहले, आपको फाइनेंशियल इंटेलिजेंस और फाइनेंशियल आइक्यू के बीच के अंतर को जानना होगा। फाइनेंशियल इंटेलिजेंस एक बड़ा टर्म जो आपके मेंटल इंटेलिजेंस के उस भाग के बारे में बताता है, जो फाइनेंशियल प्रोबलम को सोल्व करता है। जबकि, फाइनेंशियल आइक्यू, फाइनेंशियल इंटेलिजेंस नापने का तरीका है। इस चैप्टर के नाम को पढ़कर, आपको लग सकता है कि, ये किसी भी इंडस्ट्री में सबसे ज्यादा आमदनी वाली जॉब के बारे में है। हो सकता है कि, अपना resume भेजने के बाद भी आपको उस कंपनी से कोई कॉल ना आए। क्योंकि उन्हें कोई एक्सपीरियंस्ड आदमी चाहिए, और उनके ऐसे रिक्वायरमेंट्स हो सकते हैं, जिन्हें पूरा करना लगभग नामुमकिन हो। हालाँकि, कम इनकम वाला जॉब करके और पैसे को लेकर की गई पिछली गलतियों से सीख कर, आप ज्यादा पैसे कमा सकते हैं। ज्यादा कमाने के लिए आपको सीखने के लिए तैयार रहना होगा और अपने कंफर्ट जोन से बाहर आना होगा। ये आपके सामने जो फाइनेंशियल प्रॉब्लम्स है, उसे सॉल्व करने और उससे I AA . A A जालमा साखा सिपाह’ का जाप कंफर्ट जोन से बाहर आना होगा। ये आपके सामने जो फाइनेंशियल प्रॉब्लम्स है, उसे सॉल्व करने और उससे जो आपने सीखा, उससे आगे आने वाली प्रॉब्लम को सॉल्व करने के बारे में है। कियोसाकी ने अपनी कहानी शेयर की, जिसमें उन्होंने दो अच्छे मौके, जो उनका इंतजार कर रहे थे, उन्हें छोड़कर, एक कम इनकम वाली जॉब को चुना था। उन्होंने स्टैंडर्ड ऑइल में थर्ड मेट या मरीन्स में पायलट बनने के बजाय, हवाई के शहर, होनोलूलू, के एक जेरॉक्स कॉरपोरेशन में सेल्समैन बनना चुना। उन्होंने इसे अपनी बिजनेसमैन बनने की स्किल्स को बढ़ाने के मौके के रूप में देखा। क्योंकि जेरॉक्स प्रोफेशनल सेल्फ ट्रेनिंग दे रहा था, कियोसाकी ने इस मौके का इस्तेमाल अपने शर्मिले होने और रिजेक्ट होने के डर को दूर करने के लिए किया। क्योंकि उन्होंने अपना समय सीखने में इंवेस्ट किया, इसलिए दो साल में वो उस कंपनी के नम्बर ] सेल्समैन बन गए। वो उन दो जॉब्स से ज्यादा कमाने लग गए, जो शुरुआत में ज्यादा सैलरी दे रहे थे। इस एक्सपीरियंस से, वो अपने अमीर होने का रास्ता बना पाए। कियोसाकी ने उस सेल्स ट्रेनिंग की मदद से, अपना खुद का बिज़नेस शुरू किया। पैसे कमाने का एक और इनडायरेक्ट तरीका है, अपना खुद का रेस्टोरेंट खोलना। हाँ जरूर, आपको उस जगह को अच्छा बनाने के लिए, सामान खरीदने के लिए और एम्प्लाइज को सैलरी देने के लिए, पैसे खर्च करने पडेंगे खुद का रेस्टोरेंट खोलना। हाँ जरूर, आपको उस जगह को अच्छा बनाने के लिए, सामान खरीदने के लिए और एम्प्लाइज को सैलरी देने के लिए, पैसे खर्च करने पड़ेंगे | आपको शुरुआत में प्रॉफिट भी कम होगा, लेकिन इस प्रोसेस के ज़रिए ही आप फाइनेंशली स्मार्ट और अमीर बनेंगे। जब आगे बढ़ना मुश्किल हो, तब उस प्रोसेस से तब तक सीखें, जब तक आप जीत ना जाएँ। आप उस पैसे को वैल्यू करना सीखेंगे जो आपने थोड़ा-थोड़ा करके कमाया है, ना कि उन लाखों रुपयों को, जो आपने लॉटरी में एक साथ जीत लिया था। फाइनेंशियल आइक्यू #2: अपने पैसों को बचाएँ। जब आपके पास पैसे होते हैं तो यह नेचुरल है कि, आप उसे बचाना चाहेंगे क्योंकि आपने उसे कमाया है। और ये सही नहीं है की कि कोई आकर उसे पूरा हड़प ले। फिर भी, ऐसा होता है, जब भीकिसी इंसान या ऑर्गेनाइजेशन को आपका पैसा हड़पने का मौका मिलता है। आप फाइनेंशली इंटेलिजेंट है अगर आप कानूनी तरीके से कम टैक्स देना जानते हैं। आप अपने पैसे को बचा रहे हैं, अगर आपकी कमाई का परसेंट, पैसा हड़पने वालों को मिलने वाले पैसे से ज्यादा है तो। अक्सर हमारा पैसा चुराने वाले वह लोग होते हैं, जिनसे हमें सबसे कम उम्मीद होती है। आप सोचते हैं कि वह आपके पीछे खड़े हैं, क्योंकि वह आपके वफादार हैं। लेकिन सच्चाई यह है कि, वह आपके पीछे खड़े हमें सबसे कम उम्मीद होती है। आप सोचते हैं कि वह आपके पीछे खड़े हैं, क्योंकि वह आपके वफादार हैं। लेकिन सच्चाई यह है कि, वह आपके पीछे खड़े हैं, ताकि वह आसानी से आपकी जेब तक पहुंच कर, आपके पैसे ले सकें। यहाँ पर बहुत से ऐसे लोग हैं जो आपको बेवकूफ बनाने की कोशिश करेंगे, कुछ लोगों के पास ऐसा करने का सालों का एक्सपीरियंस है, जबकि कुछ लोग इसके लिए अपने एज्युकेशन को यूज़ करेंगे। इस सिचुएशन से बचने का तरीका है कि, खुद अपना पैसा बचाने का तरीका सीखना होगा। जैसे कि पहले कहा गया है, फाइनेंशली अच्छा होना सीखने में, समय लगाने से आप ज्यादा अमीर होंगे। जैसे ही आपका नॉलेज बढ़ेगा, आपका पैसा भी बढ़ेगा। हर समय पैसे के बारे में बात करते रहना, जैसे कि किस चीज पर आपको कितना खर्च करना चाहिए और आपको कितना पैसा बचाना चाहिए स्ट्रेसफुल हो सकता है। लेकिन, हमेशा याद रखिए कि, ये चीज नहीं सीखने पर आगे चलकर आपको ही परेशानी उठानी होगी। या तो आपको अपनी। इनेंशियल प्रॉब्लम अभी सोल्व करनी होगी, नहीं तो आप पैसे चुराने वालों के अमीर होने का कारण बन जाएँगे। सोचिए कि आप किसान है और आपके खेत में भुट्टे की भरपूर फसल हुई है। यह भुट्टे आपके पैसे हैं, और फाइनेंशियल predators यानी पैसों को नुक्सान पहुंचाने वाले , वो खरगोश या कीड़े हैं जो आपके खेतों हर समय पैसे के बारे में बात करते रहना, जैसे कि किस चीज पर आपको कितना खर्च करना चाहिए और आपको कितना पैसा बचाना चाहिए स्ट्रेसफुल हो सकता है । लेकिन, हमेशा याद रखिए कि, ये चीज नहीं सीखने पर आगे चलकर आपको ही परेशानी उठानी होगी। या तो आपको अपनी फाइनेंशियल प्रॉब्लम अभी सोल्व करनी होगी, नहीं तो आप पैसे चुराने वालों के अमीर होने का कारण बन जाएँगे। सोचिए कि आप किसान है और आपके खेत में भुट्टे की भरपूर फसल हुई है। यह भुट्टे आपके पैसे हैं, और फाइनेंशियल predators यानी पैसों को नुक्सान पहुंचाने वाले , वो खरगोश या कीड़े हैं जो आपके खेतों पर आते हैं। यह समानता हमें याद दिलाती है कि जिस पर आप सबसे ज्यादा भरोसा करते हैं या जिसे आप सीधा साधा और भोला समझते हैं, वही आपके खिलाफ जाकर आपके मेहनत से उगाए भुट्टे चुरा लेते हैं। अगर आप उन खरगोशों और किड़ों को भगाना सीखने में समय लगाएँगे, तो आपको भुट्टे कम हो जाने या गायब हो जाने की चिंता नहीं रहेगी। प्रॉब्लम को अभी सोल्व करने से, आपको आगे चलकर आसानी होगी, क्योंकि आपको पहले से पता होगा कि क्या करना है। तब आप दूसरी चीजों पर ध्यान दे पाएँगे, जैसेकि अपने खेतों को कैसे बढ़ाना है या फिर अपने भुट्टों को बाहर कैसे बेचना है। A < Rich Dad’s Increase Your Financial IQ: Get Smarter… Robert Kiyosaki फाइनेंशियल आइक्यू #3: अपने पैसे को बजट करना आपके पैसे कहाँ खर्च होंगे, यह प्लान करना बहुत जरूरी है, ताकि आप अपनी ज़रूरतों को पूरा कर सकें। फिर भी, कियोसा की कहतें हैं कि, आप फाइनेंशली इंटेलिजेंट बन सकते हैं, अगर आप पैसे कमाने के तरीके को जानने में अपनी नॉलेज और सोचने के दायरे को बढ़ाएँगे। इसकी चाबी है, अपना बजट ऐसे बनाएँ, जैसे आप अमीर हैं। एक सरप्लस बजट रखीए। इसका मतलब यह जरूरी नहीं कि, आपको अपने खर्च में कटौती करनी पड़ेगी। चलिए फाइनेंशियल आइक्यू #7 को फिर से देखें, जो ज्यादा पैसे कमाने के बारे में है। अगर आप अपने खर्च में कटौती नहीं करना चाहते, तो आपको अपनी कमाई बढ़ानी होगी। आपको फाइनेंशली स्मार्ट और अमीर बनने के लिए, अपने बजट को, डेफिसिट यानी कमी के बजाय, सरप्लस यानी ज़्यादा के तौर पर देखना होगा। आपका बजट तब डेफिसिट होता है, जब आप का खर्च आपकी कमाई से ज्यादा हो, और तब आप कर्ज में डूब जाते हैं । आपके पास सरप्लस बजट कैसे हो सकता है? अपने खर्च की आदतों को डिवाइड करना सीखें कि कौन सा — । खर्च की आदतों को डिवाइड करना सीखें कि कौन सा खर्च ज़रूरी है और किसे रोका जा सकता है । ये सुनने में अजीब लग सकता है, लेकिन आपको अपने पैसे सबसे पहले खुद पर खर्च करने चाहिए। पैसे बचाइए और इन्वेस्ट कीजिए क्योंकि वो आपकी मेहनत का पैसा है जिसे आप deserve करते हैं। उसके बाद फिर आप दूसरों का पेमेंट कीजिए। हम ज्यादातर इसका उल्टा करते हैं। इसीलिए हमारा बजट डेफिसिट हो जाता है। ऐसा समय भी आएगा जब आपके पास पैसे की कमी होगी, और आप दूसरों को दे नहीं पाएँगे। ये सब बोलना करने से ज़्यादा आसान होता है, लेकिन इन सब का जवाब फाइनेंशियल आइक्यू #] है,यानी ज्यादा पैसे कमाइए। कियोसाकी और उनकी बीवी ने एक बार अपने खर्च का हिसाब रखने के लिए अकाउंटेंट रखा था। क्योंकि उनकी नई नई शादी हुई थी, उन्हें बहुत सारे बिल भरने थे और बहुत सारे लोगों को पैसे भी लौटाने थे। उनकी अकाउंटेंट, बैटी, अक्सर उनसे बहस किया करती थी, क्योंकि कियोसाकी और उनकी बीवी को सबसे पहले खुद पर पैसे खर्च करने होते थे। उन्होंने अपनी कमाई से, पहले पैसे लौटाने के बदले, पैसे बचाए और इन्वेस्ट किए। बैटी को जल्द ही समझ में आ गया कि, वे दोनों सरप्लस बजट बना रहे हैं। यह आसान नहीं था, क्योंकि कियोसाकी और उनकी बीवी को अक्सर महीने के आखिर में पैसे कम पड़ जाते थे। दोनों के पास खुद पर खर्च करने के लिए तो पैसे थे लेकिन पैसे लौटाने के लिए उनके पास पैसे कम बीवी को अक्सर महीने के आखिर में पैसे कम पड़ जाते थे। दोनों के पास खुद पर खर्च करने के लिए तो पैसे थे लेकिन पैसे लौटाने के लिए उनके पास पैसे कम पड़ जाते थे। एक बार ऐसा समय भी आया जब उन पर $4,000 का उधार था! दोनों ने अपना ईगो को साइड में रखा और अपने अकाउंटेंट के साथ बैठकर, बजट पर बहुत मेहनत की। उन्हें पता था कि उन्हें फाइनेंशली स्मार्ट और अमीर बनने के लिए अलग से कमाई करने की जरूरत है, तो वे आसपास और भी जॉब ढूंढने लगे, जिससे वह ज्यादा कमाई कर सकें। कियोसाकी और उनकी बीवी ने अपने फाइनेंशियल प्रॉब्लम को तुरंत ही सॉल्व कर लिया, क्योंकि अगर वह ऐसा नहीं करते, तो वह बार-बार उनके पास वापस आती रहती। उन्होंने समझदारी से अपनी प्रॉब्लम को एक मौका बना लिया था। अब उन्हें पैसे को लेकर कोई प्रॉब्लम नहीं होती। फाइनेंशियल आइक्यू #4: अपने पैसे का लिवरेज लिवरेज की सधारण डेफिनिशन है कम में से ज्यादा करना। जैसे कि अगर आपका बैंकर, आपके रियल एस्टेट इन्वेस्टमेंट का 18% हिस्सा देता है, तो आपका लिवरेज होगा ]:4। आपके हर ] डॉलर इन्वेस्टमेंट के लिए, बैंक आपको 4 डॉलर उधार देगा। आप इंवेस्ट करते हैं क्योंकि यह आपकी तरफ से खर्च को आसान कर देता है और आपके पैसों पर आपको कंट्रोल का एहसास देता है। बिना कंट्रोल के लिवरेज ” आप इंवेस्ट करते हैं क्योंकि यह आपकी तरफ से खर्च को आसान कर देता है और आपके पैसों पर आपको कंट्रोल का एहसास देता है। बिना कंट्रोल के लिवरेज बेकार है क्योंकि ये ऐसा है जैसे बिना स्टीयरिंग व्हील के कार खरीदना। ये ना सिर्फ रिस्की है बल्कि आपको ये भी पता नहीं होता कि आपके पैसे कहाँ जा रहे हैं। जब मार्केट ऊपर जाता है, तब लोग अपने घर की कीमत का कुछ ज़्यादा ही एस्टीमेट लगाने लगते हैं। तब वो लोग अपने घर की कीमत बढ़ाने के लिए पैसे उधार लेने लगते हैं। फिर अगर मार्केट गिर जाता है, तब वो घर के मालिक कर्ज में डूब जाते हैं और उनके पास ऐसे घर होते हैं जिनकी कीमत उनकी कर्ज से कम होती है। जब आप अपना पैसा इन्वेस्ट करते हैं तब वहाँ लिवरेज होता है। लेकिन आप रिटर्न में कितना पाएँगे यह हमेशा एक जैसा नहीं होता। ये सुनने मे रिस्की लग सकता है, लेकिन लिवरेज सिर्फ तभी रिस्की होता है जब आप ऐसी चीजों में इन्वेस्ट करते हैं जिसमें आपका कोई कंट्रोल नहीं है। एग्ज़ाम्पल के तौर पर वो चीजें जिन पर आपका कोई कंट्रोल नहीं वह है घर और दूसरी प्रॉपर्टीस की मार्केट वैल्यू। ऊपर दिया गया एग्ज़ाम्पल, कियोसाकी के एक्सपीरियंस पर अधारित है। उनके 17 मिलियन डॉलर बंगले की कीमत का 18% बैंक द्वारा दिया गया था। उनके हर $7 इन्वेस्टमेंट के लिए बैंक उन्हें $4 दे रहा था। अब कियोसाकी को लिवरेज के रिस्की होने का डर नहीं था, क्योंकि उन्हें पता था कि उनका बंगला उनके कंटोल आपका कोई कंट्रोल नहीं वह है घर और दूसरी प्रॉपर्टीस की मार्केट वैल्यू। ऊपर दिया गया एग्ज़ाम्पल, कियोसाकी के एक्सपीरियंस पर अधारित है। उनके 17 मिलियन डॉलर बंगले की कीमत का 18% बैंक द्वारा दिया गया था। उनके हर $7 इन्वेस्टमेंट के लिए बैंक उन्हें $4 दे रहा था। अब कियोसाकी को लिवरेज के रिस्की होने का डर नहीं था, क्योंकि उन्हें पता था कि उनका बंगला उनके कंट्रोल मे है। उस बंगले के लिए कितना रेंट लेना है और उसे अच्छी कंडीशन में बनाए रखने के लिए कितना खर्च करना है यह सब उनके कंट्रोल में था असल में उनके बंगले को अच्छे से मैनेज करने से उन्हीं को फायदा हुआ था। जैसे कि पहले कहा गया, आप इन्वेस्ट करते हैं और बैंक की मदद लेते हैं, क्योंकि यह आप की ओर से पैसा खर्च करना आसान बना देता है। बैंक से आने वाला पैसा टैक्स फ्री भी होता है। मान लीजिए, कियोसाकी बंगले का रेट बढ़ाना चाहते हैं, क्योंकि उन्होंने 24/7 सिक्योरिटी कैमरा और हर फ्लोर में नई वाशिंग मशीन लगाना डिसाइड किया है। इन सब इंप्रूवमेंट का खर्च बैंक देगा। लेकिन, क्योंकि रेंट की कीमत पर कियोसाकी का कंट्रोल है, तो बढ़ा हुआ रेंट पूरा उन्हें मिलेगा। Rich Dad’s Increase Your Financial IQ: Get Smarter… Robert Kiyosaki फाइनेंशियल आइक्यू #5: आपकी फाइनेंशियल नॉलेज बढ़ाना इस पूरी बूक मे इस बात को हाईलाइट किया गया है कि, फाइनेंशियल नॉलेज आपको ज्यादा अमीर और ज्यादा स्मार्ट बनाता है।ये आपको अपने पैसे को खतरे में डालने से भी बचाएगा। लेकिन, बहुत सारी जानकारी अपने आप मे एक प्रोबलम है।बहुत सारी जानकारी एक साथ लेने से कोई भी घबरा सकता है। यह जानने के लिए कि कोई जानकारी आपके लिए फाइनेंशली फायदेमंद है या नहीं, पहले ये तय करें कि आज के समय मे वो कितनी जरूरी है। हो सकता है कि वो आज काम की हो, लेकिन कल बेकार हो। दूसरी बात जो ध्यान देने वाली है कि, आपको वो जानकारी मिल कहाँ से रही है। ये पक्का करें कि जिसने आपको यह जानकारी दी है, वो भरोसेमंद है और आप उन पर भरोसा कर सकते हैं। आखिर में, पिछली और अभी की जानकारी को मिलाकर फ्यूचरके फाइनेंशियल ट्रेंड को predict करने की एबिलिटी होना। ये आपको झूठी जानकारी को मीलों दर से ही पहचान लेने मे भी मटट 1 जानकारा का मिलाकर फ्यूचरक फाइनाशयल ट्रड का predict करने की एबिलिटी होना। ये आपको झूठी जानकारी को मीलों दूर से ही पहचान लेने में भी मदद करेगी। आर्मी में समय बीताने के कारण, कियोसाकी ने इसे समझने के लिए यूज़ किया कि किसी जानकारी पर कितना दाव पर लगा है और इसे किस तरह से फाइनेंस की दुनिया में लगाना है। अगर सैनिकों को यह पता चले कि दुश्मन कल उन पर हमला करने का प्लान कर रहे हैं, लेकिन वो general या मेजर को ये बताने में फेल हो गए, तो यह जानकारी किसी काम की नहीं रह जाती। ये ऐसा ही है जैसे कोई बिज़नेस एडवांटेज देर से पता चलने के कारण बेकार हो जाता है।अगर यह जानकारी किसी जासूस के जरिए आ रही है तो उसका नाम नहीं लिया जा सकता और यह पैनिक का कारण बन सकता है। हालांकि ये सिचुएशन सुनने में खराब लगती है, लेकिन डिसकरेज मत होइए। आप अपनी गलतियों से सीखेंगे और पैसों से जुड़े डिसीजन लेने में बेहतर होते जाएँगे। याद करिए इस बुक की शुरुआत में क्या कहा गया था? वो पैसा नहीं है जो आपको अमीर बनाता है बल्कि पैसे से जुड़ी नॉलेज और विसडम आपको फाइनेंशली अमीर और स्मार्ट बनाता है। कन्कलजन कन्क्लूज़न इस बुक में अपने सीखा कि, कैसे सिर्फ पैसा आपको अमीर नहीं बना सकता। आपको अपने पैसे बढ़ाने और अमीर बने रहने के लिए, उस नॉलेज की ज़रुरत है जो आपको आपकी फाइनेंशियल इंटेलिजेंस बढ़ाने में मदद करेगी। एक बार जब आप इस नॉलेज को एक तरह के वेल्थ के रूप में देखने लगेंगे, तब आप फाइनेंशियल अमीर और स्मार्ट बन जाएँगे। बुक के जरिए आपने 5 फाइनेंशियल आईक्यू के बारे में भी सीखा, जिनके नाम है, ज्यादा पैसे बनाना, पैसे को बचाना, बजट बनाना, और अपने पैसे को लिवरेज करना। आखिरी आइक्यू है आपकी फाइनेंशियल जानकारी बढ़ाना। कियोसाकी ने अपनी बुक में यह भी बार-बार हाईलाइट किया है कि उनकी सक्सेस की जर्नी में काफी सेटबैक्स आए लेकिन उन्होंने उनसे सीखा। जब आप ऐसे दोराहे पर पहुँच जाएं, जहाँ आपको समझ ना आए कि आपको अपने पैसे का क्या करना है, तब अमीर लोगों की तरह सोचिए जिनके पास सरप्लस बजट है। हमेशा ज्यादा पैसा कमाने के लिए तरीके खोजिए। फाइनेंस के बारे में सीखने में इन्वेस्ट करें, क्योंकि यह आपसे कोई छीन नहीं सकता। नॉलेज के पहाड़ खड़े वेल्थ के रूप में देखने लगेंगे, तब आप फाइनेंशियल अमीर और स्मार्ट बन जाएँगे। इस बुक के जरिए आपने 5 फाइनेंशियल आईक्यू के बारे में भी सीखा, जिनके नाम है, ज्यादा पैसे बनाना, पैसे को बचाना, बजट बनाना, और अपने पैसे को लिवरेज करना। आखिरी आइक्यू है आपकी फाइनेंशियल जानकारी बढ़ाना। कियोसाकी ने अपनी बुक में यह भी बार-बार हाईलाइट किया है कि उनकी सक्सेस की जर्नी में काफी सेटबैक्स आए लेकिन उन्होंने उनसे सीखा। जब आप ऐसे दोराहे पर पहुँच जाएं, जहाँ आपको समझ ना आए कि आपको अपने पैसे का क्या करना है, तब अमीर लोगों की तरह सोचिए जिनके पास सरप्लस बजट है। हमेशा ज्यादा पैसा कमाने के लिए तरीके खोजिए। फाइनेंस के बारे में सीखने में इन्वेस्ट करें, क्योंकि यह आपसे कोई छीन नहीं सकता। नॉलेज के पहाड़ खड़े कर दीजिए ताकि आप की ओर जो भी फाइनेंशियल प्रॉब्लम आए, आपके पास उसे सॉल्व करने का तरीका हो।

Leave a Reply