Pre-Suasion: A Revolutionary Way to In… Robert Cialdini. Books In Hindi Summary

Pre-Suasion: A Revolutionary Way to In… Robert Cialdini इन्ट्रोडक्शन किसी भी शक्तिशाली इंसान की सबसे बड़ी खासियत, उसकी कन्विंस करने की यानी persuade करने की एबिलिटी होती है। एक अच्छा लीडर हमेशा यह जानता है कि लोगों पर प्रभाव कैसे डालें और कैसे ऐसी बिजनेस डील करें, जिससे लाखों डॉलर का फायदा हो। अगर आप भी दुनिया के सबसे प्रभावशाली इंसानों में से एक बनना चाहते हैं, तो आपको पवेंड करना सीखना होगा। यह बुक आपका जरिया बनेगी। आप अपनी सर्विस देने के लिए सही समय चुनना सीखेंगे। आप सिर्फ बातों से काम नहीं कर सकते, क्योंकि बिजनेस की दुनिया में, सही समय सबसे ज्यादा इंपॉर्टेट होता है। साथ में, आप यह भी सीखेंगे कि, जो आप चाहते हैं, उस चीज पर, अपने क्लाइंट को कैसे फोकस करवाना है। अगर आपके प्रोडक्ट में कोई अच्छी क्वालिटी है, तो आप किसी को भी उस क्वालिटी पर फोकस करवा सकते हैं। ऐसा करने से उन्हें यह यकीन हो जाएगा कि, आपका प्रोडक्ट खरीदने के लायक है। वे आपके और आपके प्रोडक्ट के बारे में अच्छा बोलना शुरू कर देंगे। तब आप सीखेंगे कि, किसी का ध्यान attract करने 1A1A1A1A1 A < प्रोडक्ट के बारे में अच्छा बोलना शुरू कर देंगे। तब आप सीखेंगे कि, किसी का ध्यान attract करने के लिए जिन आसान ट्रिक्स की आपको ज़रूरत है, वह पहले ही हर जगह मौजूद है। हम आपको ऐसे ही कुछ ट्रिक्स दिखाएंगे और सिखाएंगे कि उन्हें कैसे यूज़ करना है। आप ना सिर्फ ध्यान attract करना सीखेंगे, बल्कि उस ध्यान को अपनी ओर बनाए कैसे रखना है ये भी सीखेंगे। बस एक बार लोग आपको और आपके प्रोडक्ट को देख ले, फिर कंपीटीटर्स प्रॉब्लम नहीं बनेंगे। अगर आप नया बिजनेस शुरू कर रहे हैं, और आपको सेल चाहिए, तो यह बुक आपको, क्लाइंट को कन्विंस करने की सभी बेसिक प्रिंसिपल सीखाएगी। प्रिविलेज्ड मोमेंट्स अगर आपका खुद का बिजनेस हैं, तो आपने अपना प्रोडक्ट और सर्विस नए क्लाइंट्स को बेचने के लिए ज़रूर स्ट्रगल की होगी। इसका पुराना तरीका यह है की, कस्टमर्स को अपने प्रोडक्ट की अच्छी क्वालिटीस के बारे में बताना और फिर यह देखना कि उन्हें इसकी ज़रूरत है या नही। यह तरीका गलत और थकाने वाला है। इंतजार करना कभी भी एक ऑप्शन नहीं है। नया और डेवलप्ड तरीका यह है कि, अपने क्लाइंट्स का सही समय पर ध्यान attract करके उन्हें पस्र्वैड करना। जब आप क्लाइंट को सही समय में यह विश्वास दिलाते हैं की उन्हें इस चीज की ज़रूरत है तब आप ज़रूर जब आप क्लाइंट को सही समय में यह विश्वास दिलाते हैं की उन्हें इस चीज की ज़रूरत है तब आप ज़रूर sell कर पाएँगे. आपको आगे और समझाने के लिए, हम सैम, जो हाथ पढ़ना जानता है, उसका example देंगे। सैम इसलिए हाथ नहीं पड़ता था, क्योंकि उसे सुपरनेचुरल दुनिया पर यकीन है। बल्कि वो ये इसलिए करता है क्योंकि उसे पार्टीज़ में मस्ती करना पसंद है। उसे अपने आसपास के अनजान लोगों से घुलना मिलना और बातें करना पसंद है। जब उसने बहुत से लोगों के हाथ पढ़े, उसने एक अजीब बात नोटिस करना शुरू किया। किसी कारण से उसकी सभी रीडिंग सही साबित हुई। लोग उसके पास आ रहे थे, उन्हें विश्वास था कि, वो सच में उनकी पर्सनैलिटी पढ़ने और भविष्य देखने के काबिल है। सैम ने दो थ्योरी बनाई। पहला उसने सोचा कि शायद सुपरनेचुरल ताकतें सच में है। शायद वह सच में बीते हुए कल और आने वाले कल के परे देख सकता है। शायद वह अपने बगल वाले इंसान की एनर्जी महसूस कर सकता है। दूसरी और ज्यादा रीयलिस्टिक थ्योरी थी। सैम ने सोचा कि लोग उसकी बात पर इसलिए यकीन कर रहे हैं क्योंकि उसने, लोगों के बारे में ऐसे सामान्य बातें बताई हैं जो कोई भी बता सकता था। एक बार, सैम ने एक आदमी का हाथ, एक ही शाम मे दो बार पढ़ा। पहली बार जब पार्टी शुरू हुई तब और दूसरी बार जब वो नशे में था तब। दो बार पढ़ा। पहली बार जब पार्टी शुरू हुई तब और दूसरी बार जब वो नशे में था तब। पहली बार में, सैम ने कहा कि, वह आदमी ढीठ है। और उस आदमी ने यह स्वीकार भी किया। दूसरी बार में सैम ने कहा कि वह फ्लैक्सिबल है, और उसने इस बार भी स्वीकार किया। लेकिन ऐसा कैसे हुआ? यहाँ हुआ ये कि, जब आप किसी इंसान से यह कहते हैं कि, वह ढीठ है, तो वह ऐसी चीजें याद करने लगता है जोकि उस दावे को सपोर्ट करती हैं। तो वह सच में उस पर विश्वास कर लेता है, क्योंकि उसनें ऐसी सिचुएशन याद कि जिसमें वह बहुत ढीठ था। और जब आप आदमी से कहते हैं कि, वह फ्लैक्सिबल है। तो वह सिर्फ उन्हीं बातों को याद करेगा जो उसके फ्लैक्सिबल होने को सपोर्ट करती है। तो कहानी का सार यह है कि, जब आप, सही समय पर सही शब्दों को यूज़ कर, इंसान की सही यादें ट्रिगर करते हैं, तो आप कन्विंसिंग बन जाते हैं। जैसे कि, आप रास्ते पर किसी अजनबी को रोककर, उसे सर्वे के लिए पूछते हैं, तो वह मना कर सकता है। लेकिन अब अगर आप उसे रोककर यह पूछते हैं कि, क्या वह एक मददगार इंसान है। तब इंसान ऐसी बातें याद करने लगेगा जब उसने दूसरों की मदद की है। तब उस अजनबी का जवाब होगा,”हाँ मैं मददगार इंसान हूँ”। और तब वह आपको आपके सर्वे के लिए मदद करेगा। तो अगर आप, किसी इंसान का ध्यान उसकी किसी खास याद की ओर ले जाते हैं. तो आप उनसे कछ भी A < और उस आदमी ने यह स्वीकार भी किया। दूसरी बार में सैम ने कहा कि वह फ्लैक्सिबल है, और उसने इस ने बार भी स्वीकार किया। लेकिन ऐसा कैसे हुआ? यहाँ हुआ ये कि, जब आप किसी इंसान से यह कहते हैं कि, वह ढीठ है, तो वह ऐसी चीजें याद करने लगता है जोकि उस दावे को सपोर्ट करती हैं। तो वह सच में उस पर विश्वास कर लेता है, क्योंकि उसनें ऐसी सिचुएशन याद कि जिसमें वह बहुत ढीठ था। और जब आप आदमी से कहते हैं कि, वह फ्लैक्सिबल है। तो वह सिर्फ उन्हीं बातों को याद करेगा जो उसके फ्लैक्सिबल होने को सपोर्ट करती है। तो कहानी का सार यह है कि, जब आप, सही समय पर सही शब्दों को यूज़ कर, इंसान की सही यादें ट्रिगर करते हैं, तो आप कन्विंसिंग बन जाते हैं। जैसे कि, आप रास्ते पर किसी अजनबी को रोककर, उसे सर्वे के लिए पूछते हैं, तो वह मना कर सकता है। लेकिन अब अगर आप उसे रोककर यह पूछते हैं कि, क्या वह एक मददगार इंसान है। तब इंसान ऐसी बातें याद करने लगेगा जब उसने दूसरों की मदद की है। तब उस अजनबी का जवाब होगा,”हाँ मैं मददगार सान हूँ”। और तब वह आपको आपके सर्वे के लिए मदद करेगा। तो अगर आप, किसी इंसान का ध्यान उसकी किसी खास याद की ओर ले जाते हैं, तो आप उनसे कुछ भी करवा सकते हैं। Pre-Suasion: A Revolutionary Way to In… Robert Cialdini The Importance of Attention … Is Importance पिछले चैप्टर में हमने सीखा, जब हम किसी इंसान का ध्यान किसी चीज की ओर ले जाते हैं, तो हम उनके डिसीजन को इनफ्लुएंस कर सकते हैं। हम उन्हें अपनी किसी भी बात के लिए सहमत करवा सकते हैं, सिर्फ अगर, हम सही समय पर उनकी सही सोच की धारा को जगा दें तो। जिंदगी और बिजनेस में ध्यान बहुत इम्पोर्टेन्ट होता है। अगर आपके पास कोई प्रोडक्ट है, जिसे आपको बेचना है, तो आपको आपके सभी कस्टमर्स का ध्यान attract करने की ज़रूरत है। आप ऐसा कैसे कर सकते हैं? अच्छी चीज़ों पर फोकस करके, आप ऐसा कर सकते हैं। जितना आप अपने प्रोडक्ट की अच्छाइयों को हाईलाइट करेंगे, उतना ही लोग उसके बारे में बात करेंगे, और वह उतना ही खास बनता जाएगा। आपकी प्रोडक्ट को परफेक्ट होने की ज़रूरत नहीं है। जैसे ही, सब लोग उसके बारे में बात करने लगेंगे, कोई उसकी कमी पर ध्यान नहीं देगा। यह मीडिया में बहुत ज्यादा यूज़ किया जाता है। अगर आप ध्यान देंगे, तो देखेंगे कि, लोगों का मत हमेशा नए टॉशिकार शिट टो जाना है। एक दिन कोर्ट टॉपिक यह मीडिया में बहुत ज्यादा यूज़ किया जाता है। अगर आप ध्यान देंगे, तो देखेंगे कि, लोगों का मत हमेशा नए टॉपिक पर शिफ्ट हो जाता है। एक दिन कोई टॉपिक हर जगह रहता है, और दूसरे दिन वह गायब हो जाता है। आगे और समझाने के लिए, हम बात करेंगे कि कैसे US गवर्नमेंट, लोगों के मत को, अपने हिसाब से मैनिप्युलेट करती है। जब ऑफिशियल्स ने इराक पर हमला करने का तय किया , तब वे अलग-अलग तरह का दावे करना शुरू कर दिया । पहले ऑफिशियल्स ने कहा कि, इराक हथियार बना रहा है। फिर उन्होंने दावा किया कि, उन्हें इराक को उनके अत्याचारी लीडर सद्दाम हुसैन से आजाद करवाना है। US गवर्नमेंट ने सबको यह विश्वास दिलाने की कोशिश की कि, उनके पास इराक को टेकओवर करने का कारण है। क्योंकि उनके दावों का कोई बेसिस नहीं था, उन्होंने एक नए तरीके का इस्तेमाल किया, और वह है ध्यान खींचना | US गवर्नमेंट ने जंग के मैदान में रिपोर्टर्स को भेजा। उन्हें एक ख़ास मिशन दिया। उन रिपोर्टर्स से कहा गया कि, वह सैनिकों की कहानियां बताएं कि, वे कैसे खाते हैं, कैसे ट्रेनिंग करते हैं, और कैसे अपने देश के लिए लड़ रहे हैं। वह कहानियां बहुत दमदार और दिल को छूने वाली थी। अच्छी कहानियां किसे पसंद नहीं होतीं? बिना नतीजे जाने, रिपोर्टर्स ने वही किया जो उन्हें कहा गया। उसका रिजल्ट ये हुआ कि, किसी ने यह नहीं सोचा कि, को उनके अत्याचारी लीडर सद्दाम हुसैन से आजाद करवाना है। US गवर्नमेंट ने सबको यह विश्वास दिलाने की कोशिश की कि, उनके पास इराक को टेकओवर करने का कारण है। क्योंकि उनके दावों का कोई बेसिस नहीं था, उन्होंने एक नए तरीके का इस्तेमाल किया, और वह है ध्यान खींचना | US गवर्नमेंट ने जंग के मैदान में रिपोर्टर्स को भेजा। उन्हें एक ख़ास मिशन दिया। उन रिपोर्टर्स से कहा गया कि, वह सैनिकों की कहानियां बताएं कि, वे कैसे खाते हैं, कैसे ट्रेनिंग करते हैं, और कैसे अपने देश के लिए लड़ रहे हैं। वह कहानियां बहुत दमदार और दिल को छूने वाली थी। अच्छी कहानियां किसे पसंद नहीं होतीं? बिना नतीजे जाने, रिपोर्टर्स ने वही किया जो उन्हें कहा गया। उसका रिजल्ट ये हुआ कि, किसी ने यह नही सोचा कि, US गवर्नमेंट को इराक पर कब्जा करने का हक है या नहीं। सब का ध्यान सैनिकों की जिंदगी की ओर कर दिया गया था, तो वो मैटर सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट बन गया था। और तब, इराक पर धावा बोल दिया गया। यह ट्रिक एडवर्टाइजमेन्ट में भी यूज़ किया जा सकता है। अगर कस्टमर्स का ध्यान आपके प्रोडक्ट के किसी खास फीचर पर है, तो वो उसके महंगे होने पर ध्यान नहीं देंगे। जब तक आप उन्हें ये यकीन दिला सकें कि, वह चीज़ इम्पोर्टेन्ट है, तब तक आप उन्हें वह खरीदने के लिए पस्र्वेड कर सकते हैं। Pre-Suasion: A Revolutionary Way to In… Robert Cialdini जो फ़ोकल वो कैजुअल है (What Is Focal ls Causal) पिछले चैप्टर में हमने सीखा, जब आप अपने प्रोडक्ट के किसी एक फीचर को हाईलाइट करते हैं। ज्यादा लोग उसी फीचर को देखते हैं और बाकी सब भूल जाते हैं। वह फीचर ही आपके प्रोडक्ट के बिकने का कारण बन जाता है। क्यों? क्योंकि, जब कोई आईडिया सबके अट्रैक्शन का सेंटर बन जाता है, तो वही डिसाइड करता है कि लोगों को आपका प्रोडक्ट पसंद आएगा या नहीं। इसे आगे और समझाने के लिए, हम पीटर का example लेंगे, जिसकी जिंदगी अचानक से बदल गई। एक रात, पीटर ने घर आकर देखा कि, उसकी माँ ज़मीन पर थी । वो अपने ही खून में लेथ पथ पड़ी थी। पीटर बहुत डरा हुआ था, लेकिन उसमे मदद के लिए बुलाने की हिम्मत थी। दुर्भाग्य से जब तक एंबुलेंस आई, तब तक बहुत देर हो चुकी थी। पीटर की मां गला कटने और बहुत ज्यादा खून बह जाने के कारण मर चुकी थी। बाद में पुलिस को यह पता चला कि, उनकी कुछ हड्डियां भी टूटी हुई है। उन्हें यह भी पता चला की वो तटन गाटा शान करने वाली गान श्री और रात बाद में पुलिस को यह पता चला कि, उनकी कुछ हड्डियां भी टूटी हुई है। उन्हें यह भी पता चला की वो बहुत ज्यादा परेशान करने वाली इंसान थी, और सब उनसे नफरत करते थे। वह ऐसी इंसान थी जो लोगों को जानबूझकर परेशान करती थी, खास तौर पर आदमियों को। क्योंकि पिटर लंबा और तगड़ा था, तो पुलिस ने उसी पर अपनी माँ को मारने का शक किया। उन्हें विश्वास था कि उसकी माँ ने उसे इतना परेशान किया कि, वह अपनी माँ पर कूद पड़ा और उनका गला काट दिया। जब पुलिस पीटर को पूछताछ के लिए लेकर गई, तब पीटर ने यह नहीं सोचा था कि, पुलिस उस पर शक कर रही है, तो उसे वकील की ज़रूरत नहीं लगी। वह निर्दोष था। उसे लगा कि पुलिस सिर्फ अपनी कार्यवाही कर रही है, या फिर उन्हें उससे उसकी मां के बारे में कुछ जानना है। पुलिस ने उससे पूरा एक दिन पूछताछ की। उन्होंने उस पर लाई डिटेक्टर मशीन का भी इस्तेमाल किया। उन्होंने उसे हत्या के बारे में बहुत सी झूठी जानकारी भी दी। पुलिस ने पीटर से कहा कि लाई डिटेक्टर यह प्रूव करता है की वही कातिल है, और उन्हें क्राइम सीन में उसके खिलाफ सबूत भी मिले हैं, जिसे यह पता चलता है की वही कातिल है। पीटर मासूम था; वह खुद को बचाने की कोशिश करता रहा। मगर जब 8 घंटे तक, पुलिस उसे विश्वास दिलाती रही कि, वही कातिल है, तो उसने अलग तरीके से सोचना शुरू कर दिया। A < हाप, पहा आणि II UHI II सरास सोचना शुरू कर दिया। पुलिस के चीफ़ उसे लगातार यह बताते रहे कि, वह घर थक कर आया था, उसने अपनी माँ को घर पर पाया, फिर उसने अपनी माँ को मार दिया, क्योंकि वो उसे परेशान कर रही थी। पुलिस के चीफ़ ने उसे बताया कि, उसने एक रेजर लिया और अपनी माँ पर कूद पड़ा, जिससे उनकी हड्डियां टूट गईं, फिर उसने उनका गला काट दिया। वे उससे कबूल करवाने की कोशिश करते रहे। पीटर ने कैसे अपनी माँ को मारा, यही बात बार-बार सुनकर, पीटर को वैसी ही तस्वीरें दिखने लगी। खुद को निर्दोष साबित करने के बजाए, अब वो ये कहने लगा कि, उसे याद है कि कैसे उसने अपनी माँ का गला काटा। पीटर को यह नहीं पता था कि, यह कहकर वह पुलिस को वह सबूत दे रहा है, जो उन्हें उसे अरेस्ट करने के लिए चाहिए। उसने अनजाने में वह कबूल कर लिया जो में उसने किया ही नहीं था, सिर्फ इसलिए क्योंकि पुलिस ने उसे यह सोचने पर मजबूर कर दिया था । उसे कैद की सजा हो गई। 2 साल बाद पुलिस के चीफ़ की मौत हो गई। पुलिस को छुपे हुए रिकॉर्ड मिले, जिससे साबित होता है कि, जब कत्ल हुआ तब पीटर घर पर था ही नहीं। उसे जेल से आजाद कर दिया गया। उन्हें असली कातिल कभी नहीं मिला। इस कहानी का सार यह है कि, हमें जो भी इंपॉर्टेट लगता है, हम खुद को उसकी वजह मानते हैं। पीटर को तब तक यह मानने पर मजबर किया गया कि उसने ही कहने लगा कि, उसे याद है कि कैसे उसने अपनी माँ का गला काटा। पीटर को यह नहीं पता था कि, यह कहकर वह पुलिस को वह सबूत दे रहा है, जो उन्हें उसे अरेस्ट करने के लिए चाहिए। उसने अनजाने में वह कबूल कर लिया जो उसने किया ही नहीं था, सिर्फ इसलिए क्योंकि पुलिस ने उसे यह सोचने पर मजबूर कर दिया था । उसे कैद की सजा हो गई। 2 साल बाद पुलिस के चीफ़ की मौत हो गई। पुलिस को छुपे हुए रिकॉर्ड मिले, जिससे साबित होता है कि, जब कत्ल हुआ तब पीटर घर पर था ही नहीं। उसे जेल से आजाद कर दिया गया। उन्हें असली कातिल कभी नहीं मिला। इस कहानी का सार यह है कि, हमें जो भी इंपॉर्टेट लगता है, हम खुद को उसकी वजह मानते हैं। पीटर को तब तक यह मानने पर मजबूर किया गया कि उसने ही अपनी मां को मारा है, जब तक उसे यह यकीन नहीं हो गया कि, वही अपनी मां की मौत का वजह है। ऐसा लीडर्स के साथ भी है, क्योंकि वो हर समय स्पॉटलाइट में रहते हैं, इसलिए हम ये मानते हैं कि वही कंपनी की सक्सेस के लिए जिम्मेदार है, जबकि हर बार नहीं होता। तो अगर आप किसी इंसान का ध्यान किसी एक जगह फोकस कर देंगे, तो उसे वही वैल्यूबल लगेगी, और समय के साथ, अपने आस पास होने वाली सभी चीज़ों का कारण वही लगने लगेगी। Pre-Suasion: A Revolutionary Way to In… Robert Cialdini अटेंशन का कमान्डर ]: अट्रेक्टर कई बार, जब आपको किसी इंसान या किसी ग्रुप का अटेंशन अपनी और attract करना हो, तो उस में ज्यादा मेहनत नहीं लगती है। हो सकता है कि, आपको ध्यान attract करने के लिए, सिर्फ ऐसे कुछ टूल्स की ज़रूरत पड़े, जोकि दुनिया में पहले से मौजूद हैं, और वह ध्यान attract करते ही हैं। आप सेक्सुअल या डराने वाली उत्तेजनाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप इन दोनों में से किसी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, क्योंकि प्यार में पड़ना या खुद को सेफ़ रखना ह्यूमन नेचर है। अगर ये काम ना करें तो आप जाने पहचाने हालात में नई चीजों का को इंट्रोड्यूस करने की कोशिश सकते हैं, क्योंकि लोग नई और चमकीली चीजों और आइडिया से हमेशा attract होते हैं। आप shots और cuts की स्ट्रैटेजी भी यूज़ कर सकते हैं। फिल्मों की तरह ही, जितनी जानकारी देना है उतनी दे कर, फिर कट कर दें। आप टीज़र भी दे सकते हैं, जिससे ऑडियंस अनुमान लगाते रहें। एक बार जब आप अपना content शेयर करेंगे , तब आप पाएंगे कि, वे पहले से ही बेसब्री से इसका इंतज़ार कर रहे हैं। इसका सबसे अच्छा example है, पावलोव Ima..la.. HTTRAI A012 II ।। AI HN” -र: नाए। इसका सबसे अच्छा example है, पावलोव (Pavlov) एक्सपेरिमेंट। इस क्लासिक कंडीशन को पढ़ाए बीना कोई भी साइकोलॉजी क्लास पूरी नहीं होती | हम सब यह कहानी अच्छे से जानते हैं। पावलोव के पास उसके लैब मे बहुत से कुत्ते थे।उन्होंने अपने कुत्तों को देखकर यह जाना कि, जब भी खाना टेबल पर होता है, उनकी लार टपकने लगती है। तो उन्होंने सोचा कि क्यों ना उन्हें एक नए स्टिम्यूलस से इन्ट्रोड्युस कराएं और उनका रिस्पॉन्स देखें। उन्होंने अपने कुत्तों को सीधे खाना देने के बदले, जब भी उन्हें खाना देना होता था, वह घंटी बजाते थे। समय के साथ उन्होंने नोटिस किया, अब कुत्ते घंटी की आवाज़ सुनकर लार बहाते हैं, इससे फर्क नहीं पड़ता कि टेबल पर खाना है या नहीं। उन्हें ऐसा बना दिया कि जब भी वो घंटी की आवाज़ सुनते थे, वह लार बहाते थे। इससे पावलोव ने ये नतीजा निकाला कि क्लासिक कंडीशनिंग मुमकिन है। ये वह भाग है जो हमने स्कूल में पढ़ा है, लेकिन कमाल की बात यह है कि, इसका एक और भाग है, जो किसी टीचर ने आज तक क्लास के साथ शेयर नहीं किया है। कुत्ते घंटी बजने पर लार बहाने के लिए ट्रेन किए गए, पावलोव ये चीज़ अपने कलीग्स को दिखाना चाहते थे। लेकिन हमेशा कुछ अजीब होता था। जब भी कोई नया कमरे में आता था, तो कुत्ते लार बहाना बंद कर देते थे। पावलोव ने इस बात को स्टडी किया और नतीजा A < क साथ शयर नहा कया ह। कुत्ते घंटी बजने पर लार बहाने के लिए ट्रेन किए गए, पावलोव ये चीज़ अपने कलीग्स को दिखाना चाहते थे। लेकिन हमेशा कुछ अजीब होता था। जब भी कोई नया कमरे में आता था, तो कुत्ते लार बहाना बंद कर देते थे। पावलोव ने इस बात को स्टडी किया और नतीजा निकाला कि, किसी नए के कमरे में होने पर कुत्तों को फोकस करने के लिए कोई और चीज मिल जाती है। क्योंकि उनका ध्यान भटक जाता है, इसलिए कुत्ते घंटी बजने पर लार नहीं बहा पाते। इंसानों का भी नई चीजों के कारण ध्यान भटक जाता है। याद करिए, कई बार आप किसी चीज के लिए कमरे से किचन में गए हैं। लेकिन किचन में जाने के बाद भूल गए कि किस चीज के लिए आप यहां आए थे। ऐसा इसलिए नहीं कि आपकी याददाश्त कमजोर है। बल्कि ऐसा इसलिए, क्योंकि एक बार जब आप अपना लोकेशन बदलते हैं, तो आपका ध्यान किचन में चला जाता है. अटेंशन का कमान्डर 2: मेग्नेटाइज़र मान लीजिए, आप डिबेट में है, और आप अपने क्लासमेट के साथ ऑडियंस के वोट के लिए कंपीट कर रहे हैं। तो उनका वोट जीतने के लिए आपको उनका ध्यान पूरे समय अपनी ओर फोकस करवाना होगा। इससे हमारा मतलब है, बिना किसी और को मौका दिए, आपको उनका पूरा ध्यान, पूरे समय सिर्फ अपने ऊपर रखना होगा। यह भी एक तरह का पर्वेशन है। ऐसा आप ऐसी जानकारियों को यूज़ करके कर सकते, 7- – – 4A -47 ऐसा आप ऐसी जानकारियों को यूज़ करके कर सकते, जो लोगों का ध्यान बनाए रखे। वो कोई ऐसी कहानी हो सकती है, जिससे ऑडियंस रिलेट कर सके। जब उन्हें आपके डिबेट से जुड़ाव महसूस होगा, तब वो आपको सिरियसली लेंगे। एक और तरह की जानकारी है, जिसे आप यूज़ करके ऑडियंस का इंटरेस्ट बनाए रख सकते हैं। याद है, पिछले चैप्टर में हमने फिल्म या ऐड की तरह, सही समय चुनकर, कट करने की बात डिस्कस की थी। ये बेसिकली वही प्रिंसिपल है। आप अपनी स्पीच शुरू कर सकते हैं, लेकिन जब दूसरे को बात करने का मौका देना हो, या ब्रेक का समय हो, तब ऑडियंस को लटका कर रखें। ऐसा करने के लिए, आपको किसी इंटरेस्टिंग कहानी का एक भाग बता कर रखना होगा, ताकि ऑडियंस इंतजार में लगी रहे और सोचती रहे कि, आगे कहानी कैसे खत्म होती है। चलिए एक और example लेते हैं, जो एक ऐसे आदमी के बारे में जो राइटर बनना चाहता है। किसी भी राइटर के लिए सबसे satisfying समय तब होता है, जब उनकी बुक खत्म हो जाती है । यह सुनने में आसान लग सकता है लेकिन असल में बहुत मुश्किल है। लिखना एक बहुत हार्ड प्रोसेस है, और बहुत से लोग अपना राइटर बनने का सपना, प्रेशर संभाल ना पाने के कारण के, बीच में ही छोड़ देते हैं।लेकिन एक राइटर ऐसी भी है, जो अपने प्रोडक्टिविटी के कारण जानी जाती है। उन्होंने कभी भी कोई डेडलाइन मिस नहीं की, A < अपना राइटर बनने का सपना, प्रशरसभालना पानक कारण के, बीच में ही छोड़ देते हैं।लेकिन एक राइटर ऐसी भी है, जो अपने प्रोडक्टिविटी के कारण जानी जाती है। उन्होंने कभी भी कोई डेडलाइन मिस नहीं की, और ना ही अपना पहला ड्राफ्ट अधूरा छोड़ा है। जब उनसे उनकी सक्सेस का रहस्य पूछा गया तो उन्होंने जवाब दिया कि इसका कोई राज़ नहीं है। उन्होंने बहुत समय पहले एक आर्टिकल पढ़ा था, जिसमें रोज कैसे लिखना है उसके लिए टिप्स एंड ट्रिक्स बताए गए थे। उस आर्टिकल में कुछ साधारण सी बातें ही थीं, जैसे, अपने डेक्स में बैठो, कोई ध्यान भटकाने वाली चीज़ नहीं होनी चाहिए, और रोज लिखो। लास्ट पार्ट ही है, जिसमें ज्यादातर राइटर स्ट्रगल करते हैं। इसे सोल्व करने के लिए, उस राइटर ने एक एक्साइटींग चीज़ की, उस टिप्स की लीस्ट मे कुछ जोड़ा । उन्होंने कहा कि हर दिन जब वो लिखना बन्द करतीं थीं, वो इस बात का ध्यान रखतीं थीं कि वो कुछ अधूरा छोड़ दें। अगर वो पैराग्राफ लिख रहीं हैं, तो वो उसे कभी बंद नहीं करतीं थीं। और अगर वह एक चैप्टर लिख रहीं हैं, तो वह खुद को कभी भी, उसे कल से पहले पूरा करने नहीं देतीं थीं। खुद को दूसरे दिन लिखने के लिए मोटिवेट करने का यह उनका तरीका था। क्यों? क्योंकि यह हमारा ह्यूमन नेचर है कि हम हमेशा अधूरे काम की ओर attract होते हैं। Pre-Suasion: A Revolutionary Way to In… Robert Cialdini The primacy of associations: I link. Therefore I think. रिसर्च ने यह प्रूव किया है कि, सोचना ही जोड़ना है। इससे हमारा मतलब यह है कि, इससे पहले कि हम कुछ सोचे, हम पहले अलग-अलग तस्वीरों, शब्दों, यादों को एक में जोड़ते हैं, यह हमारा थॉट प्रोसेस है। यह पर्वेशन के लिए भी यूज़ किया जा सकता है। अगर हम किसी इंसान को किसी चीज के लिए कन्विंस करना चाहते हैं, तो उसके लिए हमें सही शब्द की ज़रूरत होगी। जो उस के दिमाग को कनेक्शन बनाने के लिए push करें, इससे रिजल्ट हमारे फेवर में होगा। सही शब्द चुनकर, हम अपने ऑडियंस को, जो भी हम कहें, वह मानने के लिए डायरेक्ट कर सकते हैं। भाषा पर्वेशन के लिए एक बहुत ही शक्तिशाली हथियार है। यह एक example है, एक साइकोलॉजिस्ट की टीम ये देखना चाहते थी कि, वायलेंट भाषा का लोगों के व्यवहार पर क्या असर होता है। इसके असर को समझने के लिए उन्होंने एक इंटरेस्टिंग एक्सपेरिमेंट समझने के लिए उन्होंने एक इंटरेस्टिंग एक्सपेरिमेंट किया। Participants को कुछ पजल की तरह मिले जुले शब्द दिए गए, जिससे उन्हें सेंटेंस बनाना था। जैसे कि, उन्हें शब्द दिए गए “ The – Open – Door” participants को उन शब्दों को जमा कर लिखना 4T “open the door”| उन लोगों को 2 ग्रुप में बांटा गया। पहले ग्रुप को अग्रेसिव मीनिंग वाले वाक्य दिए गए, जैसे, “he hit them”| दूसरे ग्रुप को समान्य वाक्य दिए गए, जैसे, “fix the chair”| जब सभी पार्टिसिपेंट ने यह टेस्ट पूरा कर लिया, तब दूसरा टेस्ट हुआ। दूसरे टेस्ट में, एक आदमी इलेक्ट्रिक कुर्सी से बंधा हुआ था। और participants से पूछा गया कि उसे कितने पावर का इलेक्ट्रिक सॉक देना चाहिए। उन्हें उसी के अनुसार बटन दबाना था। रिजल्ट भयानक थे। पहला ग्रुप जिसे अग्रेसिव वाक्य किए गए थे, उनमें 48% वायलेंस बढ़ गया था। उन्होंने उस आदमी को बहुत गहरा इलेक्ट्रिक शॉक देने का ऑप्शन चुना। यह प्रूव करता है कि, वायलेंट भाषा वायलेंट बिहेवियर को बढ़ाती है। ऐसा क्यों? ऐसा इसलिए, क्योंकि दिमाग को बढ़ाती है। ऐसा क्यों? ऐसा इसलिए, क्योंकि दिमाग शब्दों को जोड़कर सोच बनाता है. इसलिए भाषा बहुत ही शक्तिशाली है। अगर आप इसे अपने पर्वेशन में यूज़ करें, तो इसमें कोई शक नहीं कि आप जिस इंसान से बात कर रहे हैं, आप उसे इन्फ्लुएंस कर पाएँगे। कन्क्लूशन (Conclusion) अब हमने अब अभी तक जो भी सीखा है उसका रीकैप करते हैं इस बुक से हमने, अभी तक की, सक्सेस की सबसे इम्पोर्टेन्ट चाबी, को यूज़ करने के प्रिंसिपल को सीखा। आपका गोल क्या है इससे फर्क नहीं पड़ता, एक बार जब आप पस्र्वेशन की कला के मास्टर बन जाएंगे तब आपको कोई भी नहीं रोक पाएगा। आपने सीखा, पर्वेड करने के लिए, आपको दूसरों के ध्यान को अपनी ओर खींचना होगा। आप बस ऐसे ही किसी को अप्रोच नहीं कर सकते। सही समय और सही जगह पर लोग आपका ऑफर लेने के लिए ज्यादा तैयार होते हैं। इस बुक में आपने समय की इंपॉर्टेट्स को जाना। आपने, पर्वैड करने के लिए, सही समय और सही सिITATHA.ता। A < ध्यान को अपनी ओर खींचना होगा। आप बस ऐसे ही किसी को अप्रोच नहीं कर सकते। सही समय और सही जगह पर लोग आपका ऑफर लेने के लिए ज्यादा तैयार होते हैं। इस बुक में आपने समय की इंपॉर्टेट्स को जाना। आपने, पर्वेड करने के लिए, सही समय और सही सिचुएशन चुनना सीखा। क्योंकि कोई भी प्रोडक्ट पूरी तरीके से परफेक्ट नहीं है, तो आपने सीखा की किस तरह लोगों का ध्यान अपने प्रोडक्ट के उन हिस्सों की ओर attract करें, जो आप दिखाना चाहते हैं। जब वे सिर्फ उन्हीं चीज़ों पर फोकस करेंगे, तब उन्हें आपका प्रोडक्ट परफेक्ट लगेगा। क्योंकि पर्वेशन का अहम् हिस्सा अटेंशन है, इसलिए आपने सीखा कि कैसे नेचुरल अट्रैक्टर्स, जैसे कि थ्रिल और मिस्ट्री को यूज़ किया जाए। यह बुक बहुत ही कीमती है। आज आपने जो भी लेसन्स सीखे हैं, वो आपको किसी भी डिबेट को जीताने, प्रोडक्ट को बेचने या क्लाइंट बुक कराने के काबिल है।

Leave a Reply